Ayodhya news

अयोध्या

अपना जिला चुनें

वाराणसी: वरुणा नदी में अवैध बूचड़खानों का खून गिरने पर भड़के अयोध्या के संत

वरुणा नदी में खून गिरने पर भड़के अयोध्या के साधु-संत

वरुणा नदी में खून गिरने पर भड़के अयोध्या के साधु-संत

राम जन्मभूमि के पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा है कि अगर इस पर रोक लगाकर कार्रवाई नहीं होती तो आंदोलन भी किया जाएगा.

SHARE THIS:
वाराणसी में वरुण नदी के रास्ते गंगा में मिल रहे अवैध बूचड़खानों से निकले खून और अन्य अवशेष पर अयोध्या के साधु-संतों ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए इसे सनातन परम्परा पर कुठाराघात बताया. साधु-संतों की मांग है कि मामले की जांच कर कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए. राम जन्मभूमि के पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा है कि अगर इस पर रोक लगाकर कार्रवाई नहीं होती तो आंदोलन भी किया जाएगा.

जगतगुरु राम दिनेशाचार्यने कहा इस धार्मिक सरकार में वरुणा नदी में खून गिरने की जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह बहुत दुखद है. जीवन और सभ्यता नदियों से ही रही है. हम उनकी पूजा करते हैं. नदियां हमारी पवित्रता की द्योतक हैं. यह बहुत ही निंदनीय है. यह साजिश है. हमारी आस्था के साथ खिलवाड़ का यह प्रयोजन दिखाई पड़ता है. इसकी जांच कर दोषियों के प्रति कार्रवाई होनी चाहिए.

महंत परमहंस दास आचार्य पीठ तपस्वी जी की छावनी ने कहा वाराणसी वरुणा और अस्सी नदी के बीच में बसी हुई है. इसीलिए इसे वाराणसी कहते हैं. वरुणा की स्थिति दयनीय है. इस बात का दुख है. माननीय प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है, इसके बाद भी बनारस की स्थिति पर नहीं कोई सुधर नहीं हो रहा है. यह चिंतनीय है. प्रधानमंत्री ने कहा था कि 'न मैं आया हूं न मैं लाया गया हूं, मुझे मां गंगा ने बुलाया है' और उसी मां गंगा का अपमान किया जा रहा है. देश शर्मसार है. विश्व की सांस्कृतिक नगरी वाराणसी की दुर्दशा हो रही है. वरुणा और गंगा दोनों को प्रधानमंत्री संज्ञान लें में और शुद्ध कराएं.

NGT के रिपोर्ट से हुआ खुलासा

वाराणसी में अवैध बूचड़खाने से निकल रहा खून वरुणा नदी से होते हुए गंगा में मिल रहा है. ये सुनकर आपकी आस्था को धक्का लगा होगा, लेकिन ये सच है. एनजीटी की ताजा रिपोर्ट में ये बात सामने आई है. तमाम सारी खामियों का संज्ञान लेते हुए एनजीटी ने नगर निगम वाराणसी पर 27 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है.

वरुणा के पानी में दिखा खून

दरअसल, राष्ट्रीय हरित अधिकरण यानी एनजीटी के ईस्टर्न यूपी रिवर एंड रिजर्वायर मानीटरिंग कमेटी के एक पैनल ने वरुणा और अस्सी नदी के पानी की जनवरी में जांच की थी. पैनल ने रिपोर्ट में लिखा है कि वाराणसी के अर्दली बाजार क्षेत्र के प्रमुख नाले से बूचड़खाने में वध के बाद अनुपचारित घरेलू मल सीधे वरुणा में डाल दिया जाता है. बता दें कि जनवरी में ये टीम आई थी. अर्दली बाजार इलाके से निकलने वाले इस नाले में खून देखा गया था. ये देख टीम में हड़कंप मच गया था. टीम यहां तीन दिन के इंस्पेक्शन के लिए आई थी. टीम उस वक्त हैरान रह गई थी, जब सुबह 7 बजे के आसपास नाले का पानी गहरे लाल रंग का दिखने लगा. थोड़ी ही देर में नाले में आंतें भी दिखने लगीं थी. तब टीम केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और वाराणसी नगर पालिका के साथ मिलकर उस जगह पहुंची, जो कुछ ही किलोमीटर दूर था.

घर के अंदर ही काटे जा रहे छोटे जानवर

टीम को पता लगा कि इलाके में एक सरकारी बूचड़खाना था जिसे बंद किया जा चुका था. उस समय ऐसी आशंका जताई गई थी कि बूचड़खाना बंद होने से छोटे जानवरों को घरों के अंदर ही मारा जा रहा है. इस घटना के वीडियो फुटेज बनाते हुए साइट से सैंपल भी लिए गए थी. टीम ने अब वैज्ञानिकों से राय लेकर ये रिपोर्ट सौंपी है.

(इनपुट: निमिष गोस्वामी)

ये भी पढ़ें:

खनन घोटाला: आधा दर्जन और IAS अफसरों पर लटक रही सीबीआई छापे की तलवार

पुलिस की गोलियों से गूंजा मेरठ, ढेर हुए लूट में शामिल 2 बदमाश

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

पूर्वांचल में कितना हुआ विकास? खुद जाकर देखेंगे CM योगी, आज से 4 जिलों का करेंगे दौरा

UP: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आज से शुरू होगा 4 जिलों का दौरा (File photo)

CM Yogi Poorvanchal Visit: यूपी में भाजपा सरकार के साढ़े 4 साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज से पूर्वांचल के 4 जिलों के दौरे पर निकल रहे हैं. वे आज अयोध्या और वाराणसी जाएंगे, कल गाजीपुर व जौनपुर में विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत का जायजा लेंगे.

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज रविवार से चार जिलों के दौरे पर रहेंगे. सीएम योगी आज लोकभवन में अपनी सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर एक प्रेस ब्रीफिंग के बाद अयोध्या के लिए रवाना होंगे. अयोध्या में वे पिछड़ा वर्ग सम्मेलन के समापन सत्र को सम्बोधित करेंगे. अयोध्या के बाद सीएम योगी करीब 5 बजे तक वाराणसी के लिए रवाना होंगे. वाराणसी में पीएम मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में संगठन की तरफ से 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलाए जा रहे सेवा समर्पण अभियान के कार्यक्रम में शामिल होंगे.

सीएम वाराणसी में ब्लड डोनेशन कैंप की शुरुआत भी कर सकते है. वाराणसी में ही रात्रि विश्राम करेंगे. इसके बाद सोमवार को पूर्वांचल के दो जिलों का दौरा करेंगे. सीएम सोमवार को गाजीपुर और जौनपुर का दौरा कर विकास योजनाओं की जमीनी हकीकत परखेंगे. इसके बाद वे लखनऊ लौटेंगे.

यह भी पढे़ं- यूपी में दंगे और साम्प्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी, जानिए क्या कह रहे NCRB के आंकड़े

बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार आज अपने साढ़े 4 साल का कार्यकाल पूरा कर रही है. इस मौके पर सरकार ने राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के सभी प्रमुख जिलों में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया है. सीएम योगी से लेकर केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री, सांसद इन कांफ्रेस को संबोधित करेंगे. इस मौके पर योगी सरकार की साढ़े 4 साल के कार्यकाल में किए गए कामकाज पर बुकलेट भी जारी की जाएगी.

पिछड़ों को साधने में जुटी BJP
उत्तर प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने पिछड़ों को एकजुट करने का निर्णय लिया है. जिसके बाद प्रदेश भर में सितंबर और अक्टूबर में भारतीय जनता पार्टी एक बड़े स्तर पर ओबीसी सम्मेलन करने जा रही है. जिससे कि आगामी विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से पिछड़ों की राजनीति कर बीजेपी सत्ता पर फिर से काबिज हो सके.

स्वतंत्र देव का SP-BSP पर हमला : कहा- एक वंश, एक परिवार ने पूरे राज्य को लूटा

स्वतंत्र देव सिंह ने कहा एसपी बीएसपी के शासन में एक ही परिवार खानदान के लोग राज्य में लूट करते रहे हैं.

swatantra dev singh : बीजेपी ओबीसी मोर्चा की बैठक में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि बीजेपी हमेशा गांव, गरीब किसान, झुग्गी झोपड़ी के लोगों और आदिवासी बनवासी की खुशहाली की बात करती है. वहीं एसपी, बीएसपी के शासन में एक ही परिवार खानदान के लोग राज्य में लूट करते रहे हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 18, 2021, 18:33 IST
SHARE THIS:

अयोध्या. बीजेपी ओबीसी मोर्चा (bjp obc morcha) की पहले दिन की कार्यसमिति की बैठक में उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) के सियासी मिजाज पर मंथन हुआ. बैठक में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (swatantra dev singh) ने कहा कि भाजपा हमेशा गांव, गरीब किसान, झुग्गी झोपड़ी के लोगों और आदिवासी बनवासी की खुशहाली की बात करती है. वहीं एसपी बीएसपी के शासन में एक ही परिवार खानदान के लोग राज्य में लूट करते रहे हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में अंतिम व्यक्ति तक भरपेट भोजन मिले, रहने को छत मिले, शिक्षा फ्री हो, आवास फ्री हो, चिकित्सा फ्री हो इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक एक कदम आगे बढ़ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि हम एसपी, बीएसपी की बात नहीं करते, जो एक वंश एक परिवार पूरे राज्य को लूटते रहे हैं. एक खानदान में भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा की है और पूरे राज्य को इन्होंने जमकर लूटा. उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक ईमानदार नेतृत्व चाहिए, परिश्रमी नेतृत्व चाहिए जो गरीबों की चिंता करें गुंडागर्दी को समाप्त कर सके और गरीबों को खुशी दिला सके. रात 12:00 बजे कोई बेटी निकले तो सम्मान पूर्वक घर पहुंचे ऐसा नेतृत्व राज्य योगी और देश के लिए मोदी ही दे रहे हैं.

उन्होंने कहा कि मोदी जी का 17 तारीख को जन्मदिन था. 7 अक्टूबर तक जन्मदिन मनाया जाएगा. संपूर्ण राज्य में ओबीसी मोर्चा सभी मोर्चे से कहा गया है कि वे इसे मनाएं. 19 अक्टूबर को सरकार के साढ़े 4 साल पूरे होने पर सभी जिलों में प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी. इसके साथ ही 25 अक्टूबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर 27700 केंद्रों पर चौपाल कार्यक्रम होगा. 24 अक्टूबर को पूर्व संध्या पर सभी बूथों पर लोग पंडित जी को पुष्पांजलि देंगे. उनके त्याग और तपस्या के बारे में लोगों को बताएंगे.

2 अक्टूबर को चलेगा स्वच्छता अभियान

2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर विशेष कार्यक्रम कराए जाएंगे. इस दिन स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा. 7 अक्टूबर को पीएम मोदी ने 20 साल शासन चलाते समय जो सामाजिक कार्य किया है उसको लेकर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सामाजिक आंदोलन स्वच्छता सामाजिक आंदोलन चलाया वह सभी कार्यक्रम किए जाएंगे. सभी लोग नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को स्वीकार करते हैं. सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास से ये सरकार को जनता का साथ मिला है. पीएम मोदी एक गरीब परिवार में पढ़े हुए और गरीबों का एहसास करने वाले व्यक्ति हैं. वह पूरी दुनिया में गरीबों की आत्मा से सेवा कर रहे हैं.

UP Weather Update: जानिए क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश? लखनऊ सहित कई जिलाें में टूटे रिकॉर्ड

UP: भारी बारिश के चलते लखनऊ के गोमतीनगर में बीच सड़क पर गिरा पेड़.

Lucknow News: लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पश्चिमी यूपी (Western UP) के कुछ जिलों को छोड़ दें तो पूरे सूबे में बारिश (Rainfall) का सिलसिला कमोबेश कल बुधवार से ही चल रहा है. बारिश का ज्यादा जोर लखनऊ (Lucknow) और इसके आसपास के जिलों में देखने को मिल रहा है. लखनऊ में तो बीती रात 12 बजे से ही बरसात थमी नहीं है. और तो और इसमें लगातार बढ़ोतरी ही देखने को मिल रही है. तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के कारण शहर में जगह जगह पेड़ भी गिर गये हैं.

प्रदेश के चार ऐसे जिले हैं जहां पिछले 24 घण्टों में 100 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो चुकी है. लखनऊ में बुधवार से अभी तक 107 मिलीमीटर, रायबरेली में 186 मिमी, सुल्तानपुर में 118 मिमी और अयोध्या में 104 मिमी बारिश हो चुकी है. रायबरेली में तो स्कूलों में छुट्टी कर दी गयी है. इसके अलावा पिछले 24 घण्टों में गोरखपुर में 96.6 मिमी, वाराणसी में 88 मिमी, बाराबंकी में 94 मिमी और बहराइच में 30 मिमी बारिश दर्ज की गयी है.

लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. रात से या शुक्रवार की सुबह से इसकी तीव्रता थोड़ी कम हो सकती है. हालांकि इस पूरे हफ्ते छिटपुट बारिश जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश?

निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसकी वजह से बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवायें उस ओर बढ़ रही हैं. मॉनसूनी सीजन में हवा में नमी भरपूर हो रही है. बंगाल की खाड़ी से चलकर मध्यप्रदेश की ओर बढ़ने वाली नम हवाओं के कारण मध्य यूपी में जोरदार बारिश हो रही है. संभावना ये है कि कल शुक्रवार तक इसमें काफी कमी आ जायेगी. तेज हवायें भी थम जायेंगी.

लखनऊ में भारी बारिश से कई मुख्य रास्ते बंद, गोमतीनगर सहित तमाम इलाकों में भरा पानी

वैसे तो पश्चिमी यूपी के जिलों में भी हल्की बदली छायी हुई है लेकिन, ज्यादा बारिश की फिलहाल संभावना नहीं जताी गयी है. राजस्थान, हरियाणा और उत्तराखण्ड की सीमा से लगने वाले यूपी के जिलों में फिलहाल बारिश का ज्यादा जोर देखने को नहीं मिल रहा है.

बीती रात से अभी तक 7 की मौत

तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश से जान- माल को भी काफी नुकसान पहुंचा है. न्यूज़ 18 को मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात से अभी तक कुल 7 लोगों की मौत हो चुकी है. सभी लोगों की मौत कच्ची दीवार गिरने की चपेट में आने से हुई है.

हथिया नक्षत्र से पहले ही लखनऊ समेत कई इलाकों में जोरदार बारिश, ऑरेंज अलर्ट भी जारी

मिली जानकारी के अनुसार जौनपुर में 4, सीतापुर में 1, अयोध्या  में 1 और रायबरेली  में भी 1 की मौत हुई है. बारिश का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो कई हादसों की आशंका बनी हुई है.

UP: आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अभेद्य किले में बदली अयोध्या, चप्पे-चप्पे पर पहरा

आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अयोध्या में सुरक्षा अलर्ट​, सड़कों पर सख्ती, हर तरफ पहरा.

Ayodhya Security Alert: दिल्ली और यूपी से आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अयोध्या में अलर्ट है. सुरक्षा के इंतजाम और कड़े कर दिए गए. प्रवेश द्वार सील कर सघन जांच हो रही है. सीसीटीवी और सादे वर्दी में राम की नगरी की निगरानी हो रही है.

SHARE THIS:

अयोध्या. दिल्ली और उत्तर प्रदेश से आतंकियों की गिरफ्तारी (Terrorist arrested) के बाद अयोध्या (Ayodhya) की सुरक्षा का घेरा सख्त कर दिया गया है. अयोध्या के सभी प्रवेश द्वारों पर सघन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है. साथ ही हर आने-जाने वाले के ऊपर नजर रखी जा रही है, हालांकि अयोध्या की संवेदनशीलता को देखते हुए अयोध्या हमेशा ही सुरक्षा घेरे में रहती है. यहां राम जन्मभूमि (Ram Janmabhoomi) का फैसला आने के बाद बड़ी संख्या में सुरक्षाबल अयोध्या की सीमा पर तैनात रहता है.

अयोध्या उत्तर प्रदेश के संवेदनशील शहरों में से एक है. इसकी सुरक्षा को लेकर विशेष इंतजाम किए गए हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से इस सुरक्षा घेरे को सख्त रखा गया है. हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली में दो आतंकियों के गिरफ्तारी के उत्तर प्रदेश कनेक्शन को देखते हुए अयोध्या का सुरक्षा घेरा और भी सख्त कर दिया गया है. राम जन्मभूमि जाने वाले मार्गों पर सघन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है. साथ ही अयोध्या के प्रवेश द्वार पर भी चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है. अयोध्या में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति की तलाशी ली जा रही है. वाहनों की चेकिंग की जा रही है और कागजात भी चेक किए जा रहे हैं.

दिल्ली और उत्तर प्रदेश से आतंकियों के गिरफ्तारी के बाद लगातार खुफिया विभाग अलर्ट पर है. पकड़े गए आतंकी किसी बड़ी घटना की साजिश के फिराक में थे. अयोध्या में पूर्व में भी आतंकी हमला 5 जुलाई 2005 को हो चुका है. इस वजह से अयोध्या की संवेदनशीलता को देखते हुए अयोध्या की सुरक्षा को सख्त कर दिया गया है.

अयोध्या को अभेद्य किले के रूप में बदल दिया गया है, लेकिन अयोध्या की सुरक्षा में कोई सेंध न लगे इसके लिए अयोध्या में प्रवेश द्वार पर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल लगे हुए हैं. अयोध्या में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों को सख्त चेकिंग अभियान से गुजरना पड़ रहा है. वाहनों की तलाशी ली जा रही है. वाहन स्वामियों की आईडी चेक की जा रही है. साथ ही संदिग्धों पर भी नजर रखी जा रही है. अयोध्या में लगे सीसीटीवी कैमरे से भी निगरानी हो रही है. कंट्रोल रूम पर बैठकर सुरक्षा बल के जवान अयोध्या में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के ऊपर नजर बनाए हुए हैं.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नगर विजय पाल सिंह ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से अयोध्या हमेशा अलर्ट रहती है. निरंतर चेकिंग हो रही है. सादे वस्त्रों में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं जो हर आने जाने वालों पर नजर रखे हुए हैं. खुफिया तंत्र अपना काम कर रहे हैं. लगातार सुरक्षा में तैनात सुरक्षा बलों की ब्रीफिंग की जा रही है. समय-समय पर जनता को भी जागरूक किया जाता है. सुरक्षा की दृष्टि से संपूर्ण अयोध्या में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. अयोध्या के सभी प्रवेश द्वार और मार्गों पर बैरियर स्थापित हैं. बैरियर पर सशस्त्र पुलिस बल तैनात है और निरंतर चेकिंग की कार्रवाई की जा रही है. सभी से अपील भी की जा रही है कहीं भी कोई भी लावारिस वस्तु नजर आती है तो उसकी सूचना दें. अयोध्या हमेशा अलर्ट रहती है और समय-समय पर यहां पर चेकिंग भी प्रशासन के द्वारा कराई जाती है.

MP: ये परीक्षा पास कीजिए और रामलला के दर्शन के लिए जीतिए अयोध्या का टिकट

MP का तुलसी मानस प्रतिष्ठान ये परीक्षा करवा रहा है.

Ticket to Ayodhya : भगवान राम पर आधारित इस परीक्षा की नई बात ये है कि विजेता को पुरस्कार के तौर पर अयोध्या की यात्रा कराई जाएगी. उसे अयोध्या जाने के लिए प्लेन का टिकट दिया जाएगा. विजेता के लिये उसके गृह नगर से वायुयान से अयोध्या आने जाने औऱ रूकने ठहरने का इंतज़ाम कराया जाएगा.

SHARE THIS:

भोपाल. राम के नाम पर सत्ता में आई बीजेपी (BJP) पूरी तरह राममय हो गई है. एमपी की राजनीति में आजकल भगवान राम (Ram) का नाम बार बार जपा जा रहा है. पहले तो राज्य सरकार ने रामचरित मानस को कॉलेज के पाठ्यक्रम में शामिल किया और अब संस्कृति विभाग राम के नाम पर प्रदेश भर में परीक्षा करा रहा है. विजेता को बतौर पुरस्कार अयोध्या में राम लला के वीआईपी दर्शन कराए जाएंगे.

भोपाल के तुलसी मानस प्रतिष्ठान ये परीक्षा करने जा रहा है. परीक्षा तीन चरणों में ज़िला, संभाग और प्रदेश स्तर पर काम करेगी. परीक्षा का विषय है- राजा राम से वनवासी राम- और इसमें रामायण के अयोध्या कांड से जुड़े बहुविकल्पीय सवाल पूछे जायेंगे.

अयोध्याकांड
तुलसी मानस प्रतिष्ठान के अध्यक्ष रघुनंदन शर्मा ने बताया कि हमने ये तय किया है कि राम और नैतिक मूल्यों और मर्यादा के बारे में जन-जन और नई पीढ़ी तक जानकारी पहुंचाई जाए. इसका नाम हमने भले ही वनवासी राम से लेकर राजाराम तक रखा है लेकिन परीक्षा सिर्फ अयोध्या कांड तक ही सीमित है. परीक्षा के अलावा आनंद के धाम श्री राम नाम से एक गोष्ठी भी की जाएगी.

टिकट To अयोध्या
भगवान राम पर आधारित इस परीक्षा की नई बात ये है कि विजेता को पुरस्कार के तौर पर अयोध्या की यात्रा करायी जाएगी. उसे अयोध्या जाने के लिए प्लेन का टिकट दिया जाएगा. विजेता के लिये उसके गृह नगर से वायुयान से अयोध्या आने जाने औऱ रूकने ठहरने का इंतज़ाम कराया जाएगा. ये पुरस्कार पहले, दूसरे और तीसरे नंबर पर आने वाले तीन विजेताओं को देने का प्लान है. नगद पुरस्कार की बजाय अयोध्या की यात्रा का पुरस्कार देना हमें बेहतर लगा.

अयोध्या में मनीष सिसोदिया की शपथ: राम से प्रेरणा लेकर केजरीवाल के दिखाए रास्ते पर करेंगे राजनीति

राम से प्रेरणा लेकर अरविंद केजरीवाल के दिखाए रास्ते पर करेंगे राजनीति: सिसोदिया

UP Assembly Election 2022: अयोध्या में मनीष सिसोदिया ने कार्यकर्ताओं को शपथ दिलाते हुए कहा कि वह साफ सुधरी राजनीति करेंगे. वह भगवान राम के दिखाए गए मार्ग पर चलेंगे. राम की प्रेरणा लेकर अरविंद केजरीवाल के दिखाए गए रास्ते पर राजनीति करेंगे.

SHARE THIS:

अयोध्या. अयोध्या (Ayodhya) के गांधी पार्क में आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) की तिरंगा यात्रा के समापन पर जनसभा की गई. गांधी पार्क में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कार्यकर्ताओं को पार्टी की विचारधारा और संवैधानिक दायित्यों का पालन कर चलने का संकल्प दिलाया.

आप नेता और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने संकल्प दिलाते हुए कहा कि जो जनता को सम्मान से नहीं देखेगा उसे जेल भिजवा कर छोड़ेंगे. सभा के दौरान सिसोदिया ने  कहा कि वह साफ सुधरी राजनीति करेंगे. यूपी में उनकी सरकार बनती है तो आज के मुकाबले में किसानों को दुगुना लाभ दिलाएंगे. वह भगवान राम के दिखाए गए मार्ग पर चलेंगे. भगवान राम की प्रेरणा लेकर राजनीति करेंगे और अरविंद केजरीवाल के दिखाए गए रास्ते पर राजनीति करेंगे. इस तिरंगे की शान बनाकर रहेंगे.

ayodhya news, aap tiranga yatra

मनीष सिसोदिया पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि हमने कार्यकर्ताओं को संकल्प दिलाया है कि हम भगवान राम के आदर्शों पर चलकर राजनीति करेंगे. उत्तर प्रदेश में रहने वाले हर बच्चे के लिए शिक्षा, बहनों को सुरक्षा, किसानों को फसल का दुगना दाम, नौजवानों के लिए रोजगार, इस सब का ईमानदारी से इंतजाम करने के लिए उत्तर प्रदेश में आम आदमी पार्टी सरकार बनाएगी.

आप नेता पहले आने से कतराते थे, अब वोट के लिए लगा रहे चक्कर: बृजेश पाठक

राम नगरी पहुंचे यूपी के कानून मंत्री बृजेश पाठक ने आम आदमी पार्टी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि जो लोग पहले श्री राम का दर्शन और अयोध्या आने से कतराते थे आज अयोध्या का चक्कर लगा रहे हैं. उनको चिंता थी कहीं उनका वोट बैंक न डिस्टर्ब हो जाए. प्रभु श्री राम और हनुमान जी जानते हैं कि राम भक्तों पर किसने गोलियां चलवाईं थीं. मुझे नहीं लगता कि लोग भूल गए होंगे. यह सब प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की वजह से संभव हुआ है. कोर्ट में मुकदमा वर्षों से लंबित था. 2022 में भारतीय जनता पार्टी 350 से ज्यादा सीटें जीतेगी.

फिल्मी सितारों से सजी अयोध्या की रामलीला का साधु-संतों ने शुरू किया विरोध, CM योगी को लिखा पत्र

UP: फिल्मी सितारों से सजी अयोध्या की रामलीला का साधु-संतों ने शुरू किया विरोध

Ayodhya News: अवधेश दास हमलावर होते हुए बोले कि मांस- मदिरा खाने सेवन करने वाले लोग मंच पर अभद्र प्रदर्शन करेंगे. यह संत समाज के समझ के बाहर है.

SHARE THIS:

अयोध्या. रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में होने वाली फिल्मी सितारों से सजी रामलीला (Ramlila) को लेकर अयोध्या में संत समाज विरोध पर उतर आया है. रामलीला की भाषा शैली और फिल्मी सितारों के द्वारा निभाई जा रहे रोल में वेशभूषा को लेकर सवाल उठाया है. संत समाज का कहना है कि आध्यात्मिक परंपरा वाली धार्मिक मान्यता वाली रामलीला का आयोजन होना चाहिए. करीब दो दर्जन से ज्यादा संतों ने सिद्ध पीठ बड़ा भक्तमाल में बैठक कर विरोध किया है. संत समाज में पर्यटन विभाग को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह 17 सितंबर को गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर अपनी शिकायत दर्ज कराएंगे.

बड़ा भक्तमाल के महंत अवधेश दास ने कहा कि रामलीला हमारी उपासना सेवा में आती है. इसमें यदि किसी तरीके का हास परिहास होता है तो उसको स्वीकार नहीं करते हैं. फिल्म जगत के लोगों को शास्त्र और अध्यात्म की कितनी जानकारी है यह मैं नहीं जानता. पिछले वर्ष वर्चुअल रामलीला के नाम पर जो अभद्र प्रदर्शन हुआ है उस प्रदर्शन को देखते हुए हम इसका विरोध करते हैं. रामलीला में काम करने वाले कलाकारों का रहन-सहन खानपान कैसा है यह ध्यान में रखा जाता है.

अयोध्या के संत समाज ने सीएम योगी को लिखा पत्र

अयोध्या के संत समाज ने सीएम योगी को लिखा पत्र

मांस- मदिरा का सेवन करने वाले…
अवधेश दास हमलावर होते हुए बोले कि मांस- मदिरा खाने सेवन करने वाले लोग मंच पर अभद्र प्रदर्शन करेंगे. यह संत समाज के समझ के बाहर है. साथ ही उन्होंने दावा किया कि अयोध्या में ऐसी ऐसी रामलीला मंडली आए हैं जो विदेशों तक अपना प्रदर्शन और परचम लहराया है. ऐसी रामलीला को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए. फिल्म जगत की रामलीला करने का कोई मतलब नहीं है. इसका हम संत समाज के लोग विरोध कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे सनातन संस्कृत और उपासना के साथ इस प्रकार का खिलवाड़ न किया जाए.

6 अक्टूबर से अयोध्या में जुटेंगे फिल्मी सितारे
अयोध्या संत समिति के महामंत्री पवन दास शास्त्री ने कहा कि अयोध्या की ऐतिहासिक का संपूर्ण विश्व में विदित है यह रामजी की जन्मभूमि रही है. इस रामलीला के विरोध में हम लोग प्रधानमंत्री से भी मिलेंगे और मुख्यमंत्री से भी मुलाकात करेंगे और पूर्व में किया भी है. यह लोग चाहते हैं कि जिस तरह से चाहेंगे उस तरीके से रामजी के चरित्र को परिभाषित करेंगे तो यह होने नहीं दिया जाएगा. बता दें कि फिल्मी सितारे 6 अक्टूबर से अयोध्या में जुटेंगे. ये लोग रामलीला में विभिन्न पात्रों की भूमिका अदा करेंगे.

UP News Live Updates: अयोध्या में निकलेगी आप की तिरंगा यात्रा, दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया रहेंगे मौजूद

अयोध्या में आज निकलेगी आम आदमी पार्टी की तिरंगा संकल्प यात्रा

Uttar Pradesh News Live, September 14, 2021: जिला प्रशासन ने 50-50 की टोली में तिरंगा यात्रा निकालने की अनुमति दी है. तिरंगा संकल्प यात्रा से पहले दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया 11:00 बजे होटल शाने अवध में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 14, 2021, 09:37 IST
SHARE THIS:

अयोध्या. उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) में ताल ठोक रही आम आदमी पार्टी (AAP) की तिरंगा संकल्प यात्रा (Tiranga Sankalp Yatra) मंगलवार को राम नगरी अयोध्या (Ayodhya) में निकलेगी. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) और राज्य सभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) की अगुवाई में यह यात्रा गुलाब बाड़ी से गांधी पार्क तक जाएगी. जिला प्रशासन ने 50-50 की टोली में तिरंगा यात्रा निकालने की अनुमति दी है. तिरंगा संकल्प यात्रा से पहले दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया 11:00 बजे होटल शाने अवध में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे. दोपहर 1:00 बजे गुलाब बाड़ी से रीडगंज, गुदरी बाजार चौराहा, नियावां चौराहा और रिकाबगंज चौराहा होते हुए गांधी पार्क तक तिरंगा संकल्प यात्रा जाएगी. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, राज्यसभा सांसद संजय सिंह, प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह व दिल्ली के कई विधायक भी इस तिरंगा में शामिल हो रहे हैं. तिरंगा संकल्प यात्रा के जरिए आम आदमी पार्टी अपनी सियासी ताकत दिखाने में जुटी है.

UP: योगी सरकार का ऐलान, लखनऊ, अयोध्‍या समेत 4 जिलों में खिलाड़ियों के लिए बनेगा मल्‍टीपर्पज हॉल

लखनऊ, अयोध्‍या समेत 4 जिलों में खिलाड़ियों के लिए बनेगा मल्‍टीपर्पज हॉल (File photo)

Sports News: युवा कल्‍याण विभाग की ओर से 16 सितम्‍बर से ग्रामीण इलाकों में जोनल स्‍तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो 30 सितम्‍बर तक चलेंगी.

SHARE THIS:

लखनऊ. टोक्‍यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) व पैरा ओलंपिक में खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन के बाद खेल के प्रति युवाओं में रूझान बढ़ा है. वहीं, प्रदेश सरकार छोटे शहरों के होनहारों को बढ़ा मंच दे रही है. युवा ग्रामीण खिलाड़ियों को सुविधाओं के साथ खेल के मैदान व उपकरण मुहैया कराए जा रहे हैं. खिलाड़ियों की प्रतिभा निखारने के लिए विभिन्‍न जनपदों में 21 मल्‍टीपर्पज हाल बनाए जा रहे हैं. इसमें 6 महीने के अंदर लखनऊ, मेरठ, सोनभद्र और अयोध्‍या में मल्‍टीपर्पज हॉल बनकर तैयार हो जाएंगे. जहां खिलाड़ी अभ्‍यास कर सकेंगे. मल्‍टीपर्पज हॉल में खिलाडि़यों को रनिंग ट्रैक के साथ दूसरी सुविधाएं मिलेंगी.

युवा कल्‍याण विभाग की ओर से खेलो इंडिया योजना के तहत ग्रामीण परिवेश के खिलाड़ियों को उच्‍च स्‍तर की सुविधा दिए जाने का काम किया जा रहा है. इसी कड़ी में लखनऊ के मोहनलालगंज विकास खंड में मल्‍टीपर्पज हॉल निर्मित किया जा रहा है. इसमें खिलाड़ियों के अभ्‍यास के लिए रनिंग ट्रैक व नेचुरल कोर्ट की सुविधा होगी. अयोध्‍या के मिल्‍कीपुर में भी मल्‍टीपर्पज हॉल का निर्माण कार्य कराया जा रहा है. वहीं, मेरठ के पंचाली खुर्द और सोनभद्र के नगवां में मल्‍टीपर्पज इंडोर हॉल का निर्माण गांव के युवा खिलाड़ियों को आगे बढ़ने में मदद करेगा. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने 6 महीने में इन चारों मल्‍टीपर्पज हॉल के निर्माण कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए हैं.

ग्रामीण युवाओं को मिलेगी परवाज
युवा कल्‍याण विभाग की ओर से ग्रामीण युवाओं की खेल प्रतिभाओं को निखारने का काम किया जा रहा है. युवाओं में स्‍टेट ऑफ फिटनेस बनाए रखने के लिए खेल सुविधाओं में इजाफा किया जा रहा है. खेल इंडिया योजना के तहत गांवों में 20 ग्रामीण मिनी स्‍टेडियम और 21 मल्‍टीपर्पज हॉल का निर्माण कराया जा रहा है. साथ ही कर्न्‍वेजेंस के जरिए ओपन जिम और खेल के मैदानों का विकास कराया जा रहा है.

गांव में हो रहा प्रतियोगिताओं का आयोजन
युवा कल्‍याण विभाग की ओर से 16 सितम्‍बर से ग्रामीण इलाकों में जोनल स्‍तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो 30 सितम्‍बर तक चलेंगी. इसके बाद अक्‍तूबर में राज्‍य स्‍तर की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी. इसमें खिलाडि़यों के बीच एथलेटिक्‍स, वॉलीबॉल, कबड्डी, कुश्‍ती व भारोत्‍तोलन प्रतियोगिताएं होंगी.

Ayodhya News: अयोध्या पहुंचे मनीष सिसोदिया, बोले- केजरीवाल जो कुछ दिल्ली में कर रहे वो श्रीराम और संतों की कृपा

Ayodhya News: दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने किए रामलला के दर्शन

UP Election 2022: उन्होंने कहा कि प्रभु चरणों में यही विनती है कि हमारे विचारों को सदैव पवित्र बनाए रखने की कृपा बनी रहे. इस दौरान उनके साथ आप नेता और सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) सहित कई आप नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे.

SHARE THIS:

अयोध्या. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) में इस बार सभी दलों की निगाहें अयोध्या (Ayodhya)प र ही टिकीं है. यही वजह है कि सभी अपने सियासी सफर की शुरुआत अयोध्या से ही कर रहे हैं. इसी कड़ी में सोमवार को आप (AAP) नेता और दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Dy CM Manish Sisodia) और आम आदमी पार्टी की कोर समिति के सदस्य व सांसद संजय सिंह सोमवार को नई दिल्ली से अयोध्या पहुंचे हैं. इस दौरान दोनों नेताओं ने सबसे पहले रामलला के भव्य दर्शन कर आशीर्वाद लिया. इस अवसर पर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट करके कहा कि भगवान श्रीराम की कृपा सभी देशवासियों पर बनी रहे.

मनीष सिसोदिया ने आगे कहा कि हनुमानगढ़ी में दर्शन व हनुमान चालीसा का पाठ किया. दुर्गम काज जगत के जेते, सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते हनुमानजी के चरणों में यूपी में AAP सरकार बनाने का अवसर देने की अर्ज़ी लगाई ताकि यहां भी प्रभु राम की कृपा से शिक्षा स्वास्थ्य बिजली पानी रोज़गार पर दिल्ली की तरह काम हो सके. दिल्ली के डिप्टी सीएम ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘अयोध्या में रसिक पीठ, जानकी घाट. बड़ा स्थान पर साधु-संतों का आशीर्वाद लिया. भगवान श्रीराम की कृपा और संतों के आशीर्वाद से ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ईमानदारी और विकास की राजनीति की नई परिभाषा बनती जा रही हैं.

उन्होंने कहा कि अयोध्या में प्रभु श्रीराम ने जनता की ख़ुशहाली की सत्ता का ऐसा मानक स्थापित किया कि ‘राम राज’ आज भी स्वच्छ शासन-प्रशासन की सर्वोच्च प्रेरणा माना जाता है. प्रभु चरणों में यही विनती है कि हमारे विचारों को सदैव पवित्र बनाए रखने की कृपा बनी रहे. अयोध्या में मनीष सिसोदिया ने रसिक पीठाधीश्वर महंत जन्मेजय शरण से मुलाकात की. उन्होंने सबसे पहले जानकी घाट बड़ा स्थान पहुंचकर संतो से आशीर्वाद लिया और जानकी घाट के महंत जनमेजय शरण, महंत सुरेश दास ,महंत अवधेश दास, महंत दिलीप दास, महंत पवन दास सहित अन्य संतों से भी मुलाकात की. इस दौरान उनके साथ आप नेता और सांसद संजय सिंह सहित कई आप नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे.

AAP की अयोध्या में तिरंगा यात्रा पर भड़के संत, काले झंडे दिखाने की घोषणा

आप की अयोध्या में तिरंगा यात्रा पर भड़के संत.

Ayodhya News: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और सांसद संजय सिंह ने अयोध्या पहुंचकर हनुमानगढ़ी और राम जन्म भूमि के दर्शन किए हैं. यहां आप तिरंगा यात्रा निकालेगी, लेकिन अयोध्या के संतों ने इस यात्रा का काले झंडे दिखाने का ऐलान कर दिया है.

SHARE THIS:

अयोध्या. आम आदमी पार्टी के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) राज्यसभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) के साथ अयोध्या पहुंचे. उन्होंने अयोध्या में संत समाज से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया. हनुमानगढ़ी और राम जन्म भूमि (Ram Janma Bhoomi) पर दर्शन पूजन भी किया है, लेकिन यहां उनका विरोध भी हो रहा है. तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने आम आदमी पार्टी की तिरंगा यात्रा को काला झंडा दिखाने की घोषणा की है.

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि जो बाबर और बाबरी मस्जिद के पक्षधर थे, उन सभी विपक्षियों को मोदी ने एक साथ कर दिया. हिंदुत्व पर लाकर खड़ा कर दिया है. जो विरोध करता था आज वह राम की शरण में है. कोई भी अछूता नहीं है सभी को राम जन्म भू​मि हनुमानगढ़ी दर्शन करके अपने आप को हिंदू सिद्ध करना पड़ रहा है. संतो ने माना है कि महज वोट लेने के लिए आम आदमी पार्टी अयोध्या आकर तिरंगा यात्रा और राम के शरण में आने का नाटक कर रही है.

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि दिल्ली के आम आदमी पार्टी के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और संजय सिंह ने हनुमानगढ़ी का दर्शन किया है. जब हम लोगों को जरूरत थी मंदिर निर्माण हेतु तब यह लोग कहते थे कि मंदिर का क्या काम. जो लोग टोपी लगाकर बाबर और बाबरी मस्जिद के पक्षधर थे आज मुझे लगता है कि मोदी जी ने सभी विपक्षियों को एक साथ कर दिया है.

वहीं सरयू में नित्य आरती कराने वाले शशिकांत दास ने कहा कि यह राजनीतिक स्टंट है आम आदमी पार्टी का. जो भगवान राम को काल्पनिक कहते थे, जो राम के अस्तित्व को नकारते थे. उनके मन में न तो कहीं श्रद्धा है न ही भगवान के प्रति कोई विश्वास है. ये केवल राजनीतिक वोट लेने के लिए भगवान के शरण में जा रहे हैं.

तपस्वी छावनी संत परमहंस ने कहा कि मैं राजनीतिक नहीं राष्ट्रवादी संत हूं. टुकड़े टुकड़े गैंग का समर्थन करने वाली आम आदमी पार्टी का अधिकार ही नहीं है तिरंगा छूने का. यह लोग तिरंगा यात्रा निकाल कर के यह साबित करना चाहते हैं कि यह देश प्रेमी हैं. यह लोग देशद्रोही हैं. आम आदमी पार्टी को काला झंडा दिखा कर विरोध करूंगा.

UP News Live Updates: आज अयोध्या पहुंचेंगे दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया, करेंगे रामलला के दर्शन

आप की तिरंगा यात्रा लेकर अयोध्या पहुंचेंगे दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

Uttar Pradesh News Live, September 13, 2021: आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने इस बात की जानकारी दी है कि अयोध्या में होने वाली तिरंगा यात्रा के मुख्य अतिथि और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री 13 तारीख को अयोध्या पहुंचेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 13, 2021, 08:39 IST
SHARE THIS:

अयोध्या. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) में इस बार सभी दलों की निगाहें अयोध्या (Ayodhya)प र ही टिकीं है. यही वजह है कि सभी अपने सियासी सफर की शुरुआत अयोध्या से ही कर रहे हैं. यही वजह है कि अब आम आदमी पार्टी (AAP) की तिरंगा यात्रा (Tiranga Yatra) रामनगरी पहुंच रही है. इसी क्रम में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) 13 सितंबर को अयोध्या आने वाले है. आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने इस बात की जानकारी दी है कि अयोध्या में होने वाली तिरंगा यात्रा के मुख्य अतिथि और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री 13 तारीख को अयोध्या पहुंचेंगे. उनके साथ आप सासंद संजय सिंह मौजूद रहेंगे. इस दौरान दोनों नेता हनुमान जी और रामलला के दर्शन करने वाले हैं. दरअसल प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने बताया कि पार्टी तिरंगा यात्रा 14 सितंबर को निकालने वाली है. वही, इसका हिस्सा बनने के लिए डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और राज्यसभा सांसद संजय सिंह 13 तारीख की सुबह ही 11 बजे अयोध्या पहुंचने वाले हैं. सबसे पहले वो कार्यकर्ताओं से मिलेंगे उसके बाद 2 बजे वो हनुमानगढ़ी और रामलला के दर्शन करेंगे. यहां तक की संत-महंतों से मुलाकात भी करेंगे. रात को आराम करने के बाद वो 14 तारीख को तिरंगा यात्रा का हिस्सा बनेंगे.

अयोध्या के राम मंदिर का अंतिम खाका तय, अन्य देवी-देवताओं के 6 मंदिर बनेंगे परिसर में

अयाेध्या के राम मंदिर परिसर में 6 अन्य देवी-देवताओं के मंदिर भी बनेंगे. (सांकेतिक)

Final blueprint : अंतिम योजना के अनुसार, जन्मभूमि परिसर में विभिन्न देवी-देवताओं के 6 मंदिरों का निर्माण होगा. इसके अनुसार परिसर में भगवान सूर्य, भगवान गणेश, भगवान शिव, देवी दुर्गा, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा के मंदिर बनाए जाएंगे.

SHARE THIS:

अयोध्या. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण समिति द्वारा तैयार अंतिम योजना के अनुसार राम जन्मभूमि मंदिर परिसर में 6 देवी-देवताओं के मंदिरों का भी निर्माण करवाया जाएगा. राम मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा कि मंदिर की नींव का निर्माण जोर-शोर से हो रहा है और इसके अक्टूबर के अंत या नवंबर के पहले सप्ताह तक पूरा हो जाने की उम्मीद है.

अंतिम योजना के अनुसार, जन्मभूमि परिसर में विभिन्न देवी-देवताओं के 6 मंदिरों का निर्माण होगा. इसके अनुसार परिसर में भगवान सूर्य, भगवान गणेश, भगवान शिव, देवी दुर्गा, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा के मंदिर बनाए जाएंगे. मिश्रा ने कहा, ‘विभिन्न देवी देवताओं के ये 6 मंदिर राम मंदिर की बाहरी परिधि में लेकिन परिसर के भीतर बनाए जाएंगे. हिंदू धर्म में भगवान राम की पूजा के साथ ही इन देवताओं की पूजा भी बहुत महत्वपूर्ण है.’

इसे भी पढ़ें : कांग्रेस को छोड़ तमाम पार्टियों ने अयोध्या से ही फूंका अपना चुनावी बिगुल

अनिल मिश्रा ने कहा कि नींव के पूरा हो जाने के बाद अक्टूबर के अंत से या नवंबर के पहले सप्ताह से मंदिर के आधार का निर्माण शुरू हो जाएगा. उन्होंने कहा कि भव्य मंदिर की संरचना में पत्थरों को लगाने के लिए चार अलग-अलग स्थानों पर चार टावर क्रेन लगाए जाएंगे. मिश्रा ने कहा कि 1 लाख 20 हजार वर्ग फुट चौड़े और 50 फुट गहरी नींव का निर्माण कार्य अक्टूबर के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि मंदिर ट्रस्ट ने अब नींव को समुद्र तल से 107 मीटर ऊपर लाने के लिए नींव क्षेत्र पर चार अतिरिक्त परतें बनाने का निर्णय किया है.

इसे भी पढ़ें : OMG: हरदोई के 200 साल पुराने मंदिर में नीम के पेड़ से प्रकट हुईं देवी! ग्रामीणों का जमघट

राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के मुताबिक, सीमेंट अधिक गर्मी सोखता है, जिससे वातावरण में गर्मी बढ़ेगी. इससे बचने के लिए मंदिर के निर्माण में सीमेंट का कम से कम उपयोग किया जा रहा है. राम मंदिर के ‘सुपर स्ट्रक्चर’ के आधार का निर्माण उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के 3.5 लाख घन फुट पत्थरों से किया जाना है. मिर्जापुर स्थित दो निजी कंपनियों को पत्थर काटने और लगाने का ठेका दिया गया है. सूत्रों ने बताया कि मिर्जापुर में महज 10 से 12 घंटे ही बिजली आपूर्ति होने से पत्थरों की कटाई और घिसाई धीमी हो गई है.

ऑल इंडिया मेयर काउंसिल की बैठक में गूंजा पुराना मुद्दा, एक देश-एक नियम की उठी मांग

अयोध्या में चल रही ऑल इंडिया मेयर काउंसिल की 111वीं बैठक में अतिथियों का स्वागत.

नवीन जैन ने कहा कि महापौर का कार्यकाल कहीं 1 वर्ष का है, कहीं ढाई वर्ष का और कहीं 5 वर्ष का. उन्होंने कहा कि महापौर को कहीं जनता चुनती है तो कहीं पार्षद. इस बैठक में फिर से प्रस्ताव पास कराए जाने का प्रयास होगा कि एक देश है तो एक नियम भी होना चाहिए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 12, 2021, 16:58 IST
SHARE THIS:

कृष्णा शुक्ला

अयोध्या. ऑल इंडिया मेयर काउंसिल की 111वीं बैठक अयोध्या के पंचशील होटल में रविवार को हुई. इस बैठक में ‘एक देश-एक नियम’ का पुराना मुद्दा फिर उठा. नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि बैठक में स्वस्थ परिचर्चा हो रही है. कहां दुश्वारियां हैं, कहां उपलब्धियां हैं – सब पर चर्चा हो रही है. अयोध्या के विकास पर नगर विकास मंत्री ने कहा कि अयोध्या एक आध्यात्मिक राजधानी बनने जा रही है. ऑल इंडिया मेयर काउंसिल के चेयरमैन नवीन जैन ने कहा कि ‘एक देश-एक नियम-एक नियमावली’ की मांग फिर उठाई जा रही है.

बैठक में नवीन जैन ने कहा कि महापौर का कार्यकाल कहीं 1 वर्ष का है, कहीं ढाई वर्ष का और कहीं 5 वर्ष का. उन्होंने कहा कि महापौर को कहीं जनता चुनती है तो कहीं पार्षद. इस बैठक में फिर से प्रस्ताव पास कराए जाने का प्रयास होगा कि एक देश है तो एक नियम भी होना चाहिए. पूरे देश में एक नगर निगम की नियमावली लागू होनी चाहिए. कहीं पर 74वां संशोधन लागू हो चुका है और कहीं किसी राज्य में 74वां संशोधन नहीं लागू हुआ है. इससे अनेक प्रकार की विसंगतियां उत्पन्न हो रही हैं. जब 74वां संशोधन लागू हो जाएगा, तब नागरिक सुविधाएं देने में आसानी होगी. सभी विभाग एक हो जाएंगे. जल निगम, नगर निगम, जलकल विभाग, विकास प्राधिकरण – जब विभाग एक हो जाएंगे, तो एक-दूसरे की योजनाओं की जानकारी होगी.

इसे भी पढ़ें : OMG: हरदोई के 200 साल पुराने मंदिर में नीम के पेड़ से प्रकट हुईं देवी! ग्रामीणों का जमघट

महापौर ने कहा कि आज नगर निगम सड़क बनाता है, तो कल जल निगम सड़क खोद देता है. नवीन जैन ने कहा कि सीएम योगी से भी मांग की जा रही है कि प्रदेश में 74वां संशोधन लागू किया जाए. अयोध्या में बैठक करने के सवाल पर नवीन जैन ने कहा कि सभी महापौर रामलला के दर्शन कर सकें, यही सोचकर अयोध्या में बैठक आहूत की गई है.

इसे भी पढ़ें : OMG! गाय ने कुत्ते की शक्ल के बछड़े को दिया जन्म, फिर लोग इस वजह से चढ़ाने लगे चढ़ावा

बैठक में मौजूद नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि बैठक में स्वस्थ परिचर्चा हो रही है. कहां-कहां दुश्वारियां हो रही हैं, उसकी भी चर्चा हो रही है और उपलब्धियों की भी चर्चा हो रही है. विचार यही है कि उपलब्धियों को दूसरी जगह भी लागू किया जाए. जो भी परिणाम निकल कर आएंगे वे देश के सभी 204 नगर निगम में उपयोगी होंगे. अयोध्या के विकास के सवाल पर आशुतोष टंडन ने कहा कि अयोध्या को देश की आध्यात्मिक राजधानी बनाने का प्रयास देश और प्रदेश की सरकार कर रही है. पीएम मोदी व सीएम योगी के निर्देशन में अयोध्या में तेजी से विकास कार्य हो रहा है. उद्घाटन सत्र में सांसद लल्लू सिंह, विधायक वेद प्रकाश गुप्ता भी उपस्थित रहे. अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने सभी का स्वागत करते हुए मेजबानी की.

Ayodhya News: राम भक्तों ने रामलला के लिए खोले खजाने, जानिए एक महीने में कितना आ रहा चढ़ावा

Ayodhya: हर महीने रामलला को आ रहा लाखों का चढ़ावा

Ayodhya Ramlala Donation: देशभर के राम भक्तों ने रामलला के लिए खजाना खोल दिया है. वहीं, 15 अगस्त से 31 अगस्त के बीच 35 लाख का रिकॉर्ड चढ़ावा रामलला को उनके दानपात्र में प्राप्त हुआ है. एक महीने में रामलला अकेले अपने दानपात्र से 60 लाख से 80 लाख रुपए की कमाई कर रहे हैं.

SHARE THIS:

अयोध्या. रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में भगवान रामलला (Ramlala) के मंदिर निर्माण का कार्य बड़े ही तेजी से चल रहा है. मंदिर की नींव के लिए बुनियाद की 42 लेयर भरी जा चुकी हैं. उधर देशभर के राम भक्तों ने रामलला के लिए खजाना खोल दिया है. राम जन्मभूमि परिसर में विराजमान रामलला के सामने रखे दानपत्र में एक पखवारा यानी कि 15 दिन में 30 लाख से 40 लाख का दान आ रहा है. यह दान कार्यालय और श्री राम जन्म भूमि ट्रस्ट के खातों से अलग केवल विराजमान रामलला के सामने रखे दानपात्र में ही आ रहा है. एक माह में रामलला अकेले अपने दानपात्र से 60 लाख से 80 लाख रुपए की कमाई कर रहे हैं.

15 अगस्त से 31 अगस्त के बीच 35 लाख का रिकॉर्ड चढ़ावा रामलला को उनके दानपात्र में प्राप्त हुआ है. सूत्रों की माने तो ट्रस्ट के कार्यालय पर भी हर माह 10 से 15 लाख की नगदी और 50 लाख के चेक आ रहे हैं. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कैंप कार्यालय प्रभारी प्रकाश  गुप्ता ने बताया कि रामलला के परिसर में भक्तों की आमद पर यह चढ़ावे की राशि निर्भर करती है. रामलला के दानपात्र में एक पखवारे में 30 लाख से 40 लाख रुपए आते हैं. कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता ने बताया कि 15 दिन में आए धन की गिनती के लिए 15 दिन का समय लग जाता है. अगस्त माह में 35 लाख रुपए रामलला के दानपात्र में आए थे. जिसमें डेढ़ लाख के सिक्के के रूप में थे. 5 लोग बैठ कर लगातार रामलला के दानपत्र में आए धन की गिनती करते हैं, जिसमें बैंक और ट्रस्ट के कर्मचारी शामिल होते हैं.

प्रतिदिन आ रहा करोड़ों का दान
प्रकाश गुप्ता ने बताया कि जिस वक्त रामलला के मंदिर निर्माण के लिए शिलान्यास बाद से ही दो से पांच हजार लोग रामलला के खातों में पैसा भेज रहे थे, जिसकी अगर एंट्री की बात की जाए तो एक दिन की इंट्री में एक मोटी किताब बन जाती है. भूमि पूजन के बाद से ऐसा कोई दिन नहीं था जिस दिन 5 से 10 करोड़ रुपए से कम प्रतिदिन आ रहा हो. अगस्त का पहला पखवारा यानी 1 अगस्त से 15 अगस्त तक प्रतिदिन करोड़ों रुपए के दान रामलला के मंदिर निर्माण के लिए आ रहे हैं.

अयोध्या की रामलीला में फिल्मी तड़का, सीता के रोल में भाग्यश्री, रावण होंगे शाहबाज खान

शाम 7 बजे से रात 10 बजे तक होगा रामलीला का प्रसारण.

इस बार की रामलीला की प्रस्तुति 6 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक होगी. शाम 7:00 बजे से 10:00 बजे तक इसका प्रसारण किया जाएगा. रजा मुराद, रवि किशन, मनोज तिवारी, शक्ति कपूर और विंदु दारा जैसे अभिनेता रामलीला में अलग-अलग भूमिका में दिखेंगे.

SHARE THIS:

अयोध्या. इस बार फिल्मी सितारों से सजी रामलीला होगी अयोध्या में. इसका आयोजन 6 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक होगा. यह दूसरी बार है फिल्मी हस्तियां रामलीला में विभिन्न पात्र में दिखेंगी. हालांकि इस वर्ष भी करोना काल को देखते हुए दर्शकों को शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी. पिछले वर्ष 16 करोड़ दर्शकों ने वर्चुअली तौर पर रामलीला देखी थी. यह एक विश्व रिकार्ड बना था. इस बार फिर वर्चुअली तौर पर ही रामलीला की प्रस्तुति आम आदमियों के लिए होगी. लोग घर बैठे सोशल मीडिया और सैटेलाइट चैनलों के माध्यम से फिल्मी सितारों से सजी रामलीला का आनंद लेंगे.

6 से 15 अक्टूबर तक मंचन

फिल्मी सितारे 6 अक्टूबर से अयोध्या में जुटेंगे. ये लोग रामलीला में विभिन्न पात्रों की भूमिका अदा करेंगे. इस बार ‘मैंने प्यार किया’ फेम अदाकारा भाग्यश्री माता सीता के रोल में नजर आएंगी. रामलीला में शाहबाज खान 6 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक मौजूद रहेंगे और रामायण के विभिन्न पात्रों का अभिनय प्रस्तुत करेंगे. इसी तरह राजेश पुरी और अवतार गिल 12 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक, भोजपुरी फिल्म स्टार और गोरखपुर के सांसद रवि किशन 8 अक्टूबर को, राकेश बेदी 8 से 10 अक्टूबर तक, रजा मुराद 14 अक्टूबर को, बॉलीवुड के मशहूर कॉमेडियन और विलेन शक्ति कपूर 14 अक्टूबर को और दारा सिंह के पुत्र विंदू दारा सिंह 8 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक अयोध्या की रामलीला में अभिनय करेंगे.

इसे भी पढ़ें : मथुरा-वृंदावन में 10 वर्ग किमी. का दायरा तीर्थस्‍थल घोषित, नहीं बिकेगा मांस और शराब

अयोध्या की रामलीला के डायरेक्टर बॉबी मलिक ने बताया कि फिल्मी हस्तियां एक बार फिर अयोध्या की रामलीला में अभिनय प्रस्तुत करेंगी, जिसमें प्रमुख रूप से भगवान राम की भूमिका राहुल गुर्जर निभाएंगे, जबकि माता सीता के रोल में मशहूर फिल्म स्टार भाग्यश्री नजर आएंगी. शक्ति कपूर अहिरावण का रोल करेंगे, भोजपुरी गायक और भाजपा सांसद मनोज तिवारी भी अहिरावण की भूमिका में नजर आएंगे. गोरखपुर के सांसद और भोजपुरी अभिनेता रवि किशन परशुराम के रूप में दिखेंगे. विष्णु और विभीषण की भूमिका में अवतार गिल नजर आएंगे. राकेश बेदी रामलीला के कई पात्रों के रोल में होंगे. फिल्म अभिनेता शाहबाज खान इस बार भी वह रावण के किरदार में नजर आएंगे.

इसे भी पढ़ें : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का प्रयागराज दौरा कल, जानिए मिनट टू मिनट शेड्यूल

रावण का रोल कर रहे अभिनेता शाहबाज खान ने बताया कि इस बार की रामलीला की प्रस्तुति 6 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक होगी. शाम 7:00 बजे से 10:00 बजे तक इसका प्रसारण किया जाएगा. पिछले वर्ष 16 करोड़ लोगों ने अयोध्या की रामलीला सोशल मीडिया और टीवी चैनलों के माध्यम से देखी थी. इस वर्ष भी हमें उम्मीद है कि हमें बेहतर प्यार मिलेगा.

Ayodhya: महंगाई के खिलाफ सपा का अनोखा प्रदर्शन, 499 रुपए में बांटे 'समाजवादी' गैस सिलेंडर

 अयोध्या में सपा नेता ने बांटे 499 रुपए में 'समाजवादी' गैस सिलेंडर

Samajwadi Party Protest in Ayodhya: सिलेंडर के स्टीकर पर मुलायम सिंह यादव, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व उनकी पत्नी डिंपल यादव की फोटो भी लगाई गई है. गैस सिलेंडर पर समाजवादी पार्टी की तीन प्रमुख घोषणाएं भी लिखी हुई है.

SHARE THIS:

अयोध्या. जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) नजदीक आता जा रहा है, राजनीतिक पार्टियां तरह-तरह के प्रलोभन व आयोजन कर रहे हैं. ऐसी ही एक अलग दिखने वाला आयोजन किया गया अयोध्या (Ayodhya) में. बढ़ती महंगाई को लेकर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के दिव्यांग नेता पंडित समरजीत ने ग्रामीण महिलाओं में ‘समाजवादी’ गैस सिलेंडर (Samajwadi Gas Cylinder) 499 रुपये वितरित किया. दिव्यांग सपा नेता ने यह वितरण मवई के बाबूपुर गांव में किया. यही नहीं ‘समाजवादी’ गैस सिलेंडर के स्टिकर पर समाजवादी पार्टी की प्रमुख 3 घोषणाओं का भी जिक्र किया गया है.

इतना ही नहीं सिलेंडर के स्टीकर पर मुलायम सिंह यादव, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व उनकी पत्नी डिंपल यादव की फोटो भी लगाई गई है. आप तस्वीर में देख सकते हैं कि किस तरह से दिव्यांग सपा नेता पंडित समरजीत ग्रामीणों में गैस सिलेंडर वितरित कर रहे हैं. वितरण के साथ ही समाजवादी पार्टी की प्रमुख घोषणाओं का जिक्र भी कर रहे हैं. अयोध्या के दिव्यांग सपा नेता पंडित समरजीत ने ग्रामीण क्षेत्र के मवई बाबूपुर में पहुंचकर दो दर्जन से अधिक महिलाओं को 499 रुपये में गैस सिलेंडर वितरित किए, जबकि इसका मूल्य 945 रुपये है.

गैस सिलेंडर के साथ तीन प्रमुख वादों का भी जिक्र
गैस सिलेंडर पर समाजवादी पार्टी की तीन प्रमुख घोषणाएं लिखी हुई है. जिसमें 20 लाख युवाओं को रोजगार, हर घर में 300 यूनिट बिजली फ्री व एक करोड़ महिलाओं को 1500 रुपये समाजवादी पेंशन देने का जिक्र किया गया है. इस बारे में दिव्यांग सपा नेता पंडित समरजीत ने बताया कि महंगाई इतनी बढ़ गई है कि गरीबों की थाली से भोजन गायब हो रहा है, इसीलिए ग्रामीण महिलाओं में 499 रुपये में गैस सिलेंडर वितरित किया गया. क्योंकि इस समय गैस सिलेंडर 945 रुपये में बाजार में बिक रहा है. बीजेपी पर आरोप लगाते हुए पंडित समरजीत ने कहा कि 2022 के विधानसभा के चुनाव में बीजेपी की बुरी हार होगी. एक बार फिर समाजवादी पार्टी सरकार बनेगी और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनेंगे.

ओवैसी ने अयोध्या पहुंचकर ठोकी चुनावी ताल, बाहुबली अतीक अहमद सपरिवार AIMIM में शामिल

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी

Asaduddin Owaisi in Ayodhya: असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या में खुद को और अपनी पार्टी को 'उप्र के मुस्लिमों की आवाज़' बताते हुए कहा, 'भाजपा को चुनाव हराना ही मकसद है.' सज़ायाफ्ता डॉन के पार्टी में शामिल होने के बारे में ओवैसी ने दलीलें भी दीं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 08, 2021, 17:59 IST
SHARE THIS:

अयोध्या. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के सिलसिले में अयोध्या और आसपास के इलाकों में रैलियां करने पहुंचे AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में कई लोगों ने AIMIM की सदस्यता ली. इनमें सबसे प्रमुख नाम उप्र के बाहुबली माफिया कहे जाने वाले पूर्व संसद सदस्य अतीक अहमद का नाम रहा. AIMIM ने दावा किया कि अहमद ने अपने पूरे परिवार और समर्थकों के साथ पार्टी का दामन थामा. इसी सिलसिले में अयोध्या में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी चुनाव लड़ेगी ओर जीतेगी यानी ‘यूपी के मुस्लिमों की जीत होगी.’

ओवैसी ने अहमद के परिवार के उनकी पार्टी से जुड़ने के बारे में मीडिया से कहा, ‘क्रिमिनल रिकॉर्ड होने के बावजूद अतीक अहमद को पार्टी से जोड़े जाने के सवाल पर मैं बताना चाहता हूं कि एडीआर रिपोर्ट के मुताबिक आपराधिक रिकॉर्ड वाले सबसे ज़्यादा विधिनिर्माता बीजेपी के हैं… एक बीजेपी सांसद के खिलाफ तो आतंकवाद के आरोप तक हैं.’ इसके साथ ही, ओवैसी ने यह भी कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ तक केस चल रहे हैं.

ये भी पढ़ें : एक दिन के लिए प्रयागराज आएंगे राष्ट्रपति कोविंद.. कार्यक्रमों, सुरक्षा, ट्रैफिक डायवर्जन के डिटेल्स जानिए

uttar pradesh news, up news, owaisi speech, owaisi bayaan, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, ओवैसी भाषण, ओवैसी बयान

एआईएमआईएम ने ट्वीट कर अतीक अहमद के पार्टी जॉइन करने की सूचना भी दी.

अतीक अहमद पर केस और ओवैसी का बचाव
लोकसभा के पूर्व सांसद अहमद के खिलाफ करीब 90 आपराधिक मामले दर्ज हैं, जिनमें हत्या, अवैध उत्खनन, रंगदारी, जालसाज़ी और अपहरण जैसे मुकदमे भी हैं. लेकिन अहमद के बचाव में ओवैसी ने कुछ इस तरह दलील दी : ‘मुज़फ्फरनगर दंगों में कई बीजेपी नेताओं के खिलाफ केस हुए, लेकिन खारिज हो गए… प्रज्ञा, कपिल, कुलदीप, अजय जैसे कई नाम चर्चित नेता हैं. लेकिन अतीक, मुख्तार अंसारी नाम के नेताओं पर केस चलते ही जा रहे हैं. शायद इनके नाम कुछ और होते तो केस खत्म हो चुके होते.’

ये भी पढ़ें : ‘UP विधानसभा में भी नमाज़ कक्ष बनाया जाए’, किस SP विधायक ने की मांग और क्या है बहस?

गौरतलब है कि विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र ओवैसी तीन दिनों के दौरे पर उप्र पहुंचे हैं और वह कुछ अन्य राजनीतिक दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ने के संकेत भी दे रहे हैं. हालांकि उन्होंने कहा कि बसपा और सपा जैसे दलों के साथ मिलने के लिए वह पहल नहीं करेंगे. यह भी याद रखना चाहिए कि पिछले चुनाव में ओवैसी की पार्टी का खाता भी उप्र में नहीं खुला था.

दीपावली पर दीपोत्सव में शामिल होने के लिए अयोध्या जा सकते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी अयोध्या आ सकते हैं. (फाइल फोटो)

साल 2017 की मार्च में यूपी में भाजपा सरकार आने के बाद दीपोत्सव की परंपरा शुरू हुई. हर साल दीपावली के दो दिन पहले यानी धनतेरस से दीपोत्सव की शुरुआत होती है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 08, 2021, 10:56 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi), दीपावली (Dipawali 2021) में अयोध्या (Ayodhya) जा सकते हैं. माना जा रहा है कि वह हर साल आयोजित होने वाले दीपोत्सव (Deepotsav 2021) के कार्यक्रम में भी शामिल हो सकते हैं. आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रधानमंत्री का दौरा अहम माना जा रहा है. News18 संवाददाता अजीत सिंह ने बताया कि पीएम के अयोध्या दौरे में कुछ और कार्यक्रम होंगे. संभवतः पीएम, दीपोत्सव के दिन ही अयोध्या में रहेंगे. मिली जानकारी के अनुसार दीपोत्सव के कार्यक्रम में राज्यपाल, मुख्यमंत्री, कई केंद्रीय मंत्री और यूपी सरकार के काबीना मंत्री शामिल होंगे.

हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि पीएम के अयोध्या पहुंचने की तारीख क्या है. इस बार दीपावली 4 नवंबर को है और दीपोत्सव का कार्यक्रम धनतेरस से यानी 2 नवंबर को शुरू होगा. ऐसे में माना जा रहा है कि पीएम, धनतेरस के दिन ही अयोध्या आएंगे.

गौरतलब है कि केंद्र और राज्य सरकार लगातार अयोध्या को लेकर समय-समय पर रिपोर्ट्स लेती रहती हैं. विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर देखें तो अयोध्या इस वक्त राजनीतिक दलों के एजेंडे में है. एक ओर जहां बसपा ने प्रबुद्ध सम्मेलन वहीं से शुरू किया तो ओवैसी भी अयोध्या गए थे. राजा भैया ने भी अयोध्या से शुरुआत की और बीजेपी भी बड़ा प्लान बना रही है. बीते साल 5 अगस्त को पीएम मोदी ने राम मंदिर के निर्माण का शिलान्यास भी किया था.

इस बार अपना ही रिकॉर्ड तोड़ेगी योगी सरकार
साल 2017 की मार्च में यूपी में भाजपा सरकार आने के बाद दीपोत्सव की परंपरा शुरू हुई. हर साल दीपावली के दो दिन पहले यानी धनतेरस से दीपोत्सव की शुरुआत होती है. हाल ही में अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने बताया था कि इस बार दीपोत्सव में 7 लाख 50 हजार दीपक प्रज्वलित होंगे. एक बार फिर अवध विश्वविद्यालय के 7500 वालंटियर साढ़े सात लाख दीपक जलाकर के अपना ही कीर्तिमान दोबारा से तोड़ने का प्रयास करेंगे.

इस आयोजन में अयोध्या के जितने भी ऐतिहासिक कुंड और पौराणिक बिल्डिंग हैं, उन पर भी दीपक प्रज्वलित किया जाएगा. गौरतलब है कि अयोध्या में यह पांचवा दीपोत्सव होगा.

ब्राह्मणों की सियासत में अयोध्‍या से असदुद्दीन ओवैसी ने भी खेला कार्ड, अशफाक और बिस्मिल की दोस्ती का क‍िया जिक्र

एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी यूपी व‍िधानसभा चुनाव के प्रचार के ल‍िए अयोध्या के रुदौली में पहुंचे

Asaduddin Owaisi in Ayodhya: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को अयोध्‍या के रुदौली में एक जनसभा को संबोध‍ित करते हुए ब्राह्मणों की सियासत की कड़ी में अशफाकउल्लाह खान और रामप्रसाद बिस्मिल की दोस्ती का जिक्र करते हुए हिन्दू मुस्लिम एकता का उदाहरण दिया.

SHARE THIS:

उत्‍तर प्रदेश में व‍िधानसभा चुनाव से पहले ब्राह्मणों की सियासत तेज हो गई है. बसपा सुप्रीमो मायावती की पार्टी जहां प्रदेशभर में ब्राह्मण सम्‍मेलन कर रही है तो दूसरी तरफ यूपी व‍िधानसभा चुनाव के प्रचार के ल‍िए अयोध्या के रुदौली में पहुंचे ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी ब्राह्मण कार्ड चला है. ओवैसी ने पोस्टर में फैजाबाद शब्द को लेकर हुए विवाद पर कहा कि अयोध्या भी भारत में है फैजाबाद भी भारत में है. फैजाबाद नाम से सरकार को जलन क्यों है? यहां तो अशफाकउल्लाह खान को फांसी दी गई थी. अशफाकउल्लाह खान और राम प्रसाद बिस्मिल की दोस्ती कैसी थी समझिए? मंदिर पर हमला करने आए लोगों पर अशफाकउल्लाह गोली चलाने को तैयार थे. ब्राह्मणों की सियासत की कड़ी में ओवैसी ने अशफाकउल्लाह खान और रामप्रसाद बिस्मिल की दोस्ती का जिक्र करते हुए हिन्दू मुस्लिम एकता का उदाहरण दिया. राम प्रसाद बिस्मिल को पंडित राम प्रसाद बिस्मिल कहकर ओवैसी ने संबोधित किया. ओवैसी ने कहा कि हम कश्मीर गए तो अयोध्या भी जाएंगे.

ओवैसी ने सपा, बसपा, कांग्रेस और भाजपा को जमकर कोसा
अयोध्या के रुदौली में असुदुदीन ओवैसी ने सपा, बसपा, कांग्रेस और भाजपा को जमकर कोसा. विधानसभा चुनाव को लेकर बिगुल फूंका और कहा कि आने वाले चुनाव को पार्टी लड़ने जा रही है, लेकिन ये 2017 वाली मजलिस नहीं है अब हमारा संगठन मजबूत है. हमारी पहली कोशिश है कि यूपी जो बड़ा प्रदेश है यहां से हमारी मुस्लिम लीडरशिप की शुरुआत हो. आज जो लाचार है वो यूपी का मुसलमान है. यूपी में सबको हिस्सा मिला लेकिन यूपी के मुसलमानों को उनका हिस्सा नहीं मिला. सेक्युलरिज्म के नाम पर मुसलमान ठगे गए है. फिरकापरस्ती को हराना होगा. रुदौली में हमें मजलिस का विधायक बनाना होगा. हम पर वोट कटवे का आरोप लगता है, लेकिन कोई यहां के मुस्लिम नेताओं का नाम नहीं लेता. ओवैसी ने रुदौली के ओवर ब्रिज के बारे में कहा कि अगर बाबा से पूछेंगे ये क्यों नहीं बना तो बाबा कहेंगे नाम बदल दो उसका.

ओवैसी का योगी और अख‍िलेश पर वार
असुदुदीन ओवैसी ने कहा क‍ि रुदौली में कम्युनिटी सेंटर के हालात खराब है. पाइप लाइन के लिए रोड खुदे पड़े है, लेकिन बाबा नाम बदलने पर ही जुटे रहते है. क्या फिरोजाबाद में जो बच्चे बुखार से मरे है नाम बदलने से वापस आ जाएंगे? अखिलेश पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि अखिलेश ने हमेशा मुस्लिमों को डराने की बात की. सपा को यादवों की पार्टी बताते हुए कहा कि सपा से मुस्लिम उम्मीदवार हारा और बीजेपी का यादव उम्मीदवार जीता ऐसा क्यों? बिहार में हमने 5 विधायक जितवाए. हमें कामयाबी मिली. ओवैसी बोले देश की पार्टियां मुस्लिम लीडरशिप डेवलेप नहीं होने देना चाहती.

अयोध्या में 6 दिसंबर को सारी दुनिया ने देखा क्या हुआ? आज सेकुलर पार्टियां उसका जिक्र करने से डरते है. डरा-डरा कर वोट लेते रहे है. हमको डराया जाएगा, लेकिन हम बीजेपी को ही हराने आए है. कोविड में लोगों की जाने गई. ऑक्सीजन की कमी से लोग मारे गए. नदी किनारे लाशें दफन हुई, जिन्हें कुत्तों ने तक नोचा. सपा पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि 19 फीसदी मुसलमान है और 9 फीसदी यादव है लेकिन सीएम आपका ही बनेगा और हमे चपरासी की नौकरी भी नहीं बनेगी. ओवैसी बोले अखिलेश और मायावती से बात होगी लेकिन बराबरी पर बात होगी.

Load More News

More from Other District