लाइव टीवी
Elec-widget

अयोध्या: मुस्लिम ने बोला 'जय श्रीराम' तो मांगनी पड़ी मस्जिद में माफी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 30, 2019, 4:42 PM IST
अयोध्या: मुस्लिम ने बोला 'जय श्रीराम' तो मांगनी पड़ी मस्जिद में माफी
मुस्लिम ने बोला 'जय श्रीराम' तो मांगनी पड़ी मस्जिद में माफ़ी (file photo)

सईद का कहना है कि वह नमाज के लिए मस्जिद गए थे. इसी दौरान उन्होंने स्वेच्छा से अल्लाह से माफी मांग ली. हालांकि वह अभी भी अपने ऊपर खतरे से इनकार नहीं करते. उन्होंने कहा कि कुछ लोग उनको अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं.

  • Share this:
अयोध्या. अयोध्या (Ayodhya) में शनिवार को एक मुस्लिम शख्स द्वारा 'जय श्रीराम' बोलने पर मस्जिद में जाकर माफी मांगनी पड़ी. दरअसल 1 सितंबर को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए तपस्वी छावनी के स्वामी परमहंस दास की अगुआई में एक हवन आयोजित किया गया था. इस धार्मिक अनुष्ठान में हिंदू साधु संतों के साथ मुस्लिम समुदाय के लोगों ने भी शिरकत की थी. जहां मुस्लिम समुदाय की महिलाओं और पुरुषों ने राम मंदिर निर्माण की तरफदारी करते हुए जय श्री राम का नारा लगाया था.

इसी जत्थे में शहर क्षेत्र के जब्ती वजीरगंज निवासी हाफिज सईद भी शामिल हुए थे. बता दें कि कार्यक्रम की फोटो और वीडियो सार्वजनिक होने के बाद लोगों को मामले की जानकारी हुई. जानकारी के बाद वजीरगंज निवासी मोहम्मद हाजी सईद को उलाहना और ताना मिलने लगा. धर्म के ठेकेदारों की ओर से उनको मुसलमान धर्म से निष्कासित कर दिया गया और काफिर करार दे दिया गया. आसपास गली मोहल्ले के लोग और मिलने जुलने वाले उन्हें काफिर कह कर बुलाने लगे और कहने लगे कि यह तो अब हिंदू हो गए हैं.

अयोध्या के वजीरगंज निवासी हाफिज सईद
अयोध्या के वजीरगंज निवासी हाफिज सईद


श्रीराम का नारा लगाने के चलते धर्म से बाहर कर दिया गया था

समाज के लोगों में हाजी सईद के खिलाफ तमाम तरह की अफवाहें फैलाई जाने लगीं. कहा गया कि इन्होंने कुरान की शिक्षाओं का अनादर किया है. मंदिर में जाकर हवन पूजन किया है. ऐसे में उनको मुसलमान कहलाने का हक नहीं है. वजीरगंज निवासी हाजी सईद का कहना है कि जय श्री राम का नारा लगाने के कारण उनको धर्म से बाहर कर दिया गया. लोग उन्हें काफिर कहने लगे और हिंदू बताने लगे जबकि उनका अल्लाह ही उनका खुदा है.

स्वेच्छा से अल्लाह से माफी मांग ली
उन्होंने आदाब और आदर के चलते श्री राम का नारा लगाया था. सईद का कहना है कि वह नमाज के लिए मस्जिद गए थे. इसी दौरान उन्होंने स्वेच्छा से अल्लाह से माफी मांग ली. हालांकि वह अभी भी अपने ऊपर खतरे से इनकार नहीं करते. उन्होंने कहा कि कुछ लोग उनको अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं. वहीं तपस्वी छावनी में राम मंदिर निर्माण की बाधाओं को दूर करने के लिए हवन पूजन और अनुष्ठान कराने वाले परमहंस दास का कहना है कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का नारा लगाने वाले राष्ट्रवादी मुसलमान को काफिर करार दिया जा रहा है.
Loading...

यह लोकतंत्र के लिए खतरा है. प्रभु श्री राम ने पूरे समाज को मर्यादा का संदेश दिया. वह किसी धर्म विशेष से बंधे नहीं है. परमहंस ने मांग रखी है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सरकार को कार्रवाई करना चाहिए.

ये भी पढे़ं:

आसमान छूते प्याज के दाम, हमीरपुर के किसानों ने खोजा नया तरीका

हैदराबाद गैंगरेप, मर्डर पर अयोध्या के डीएम का ये ट्वीट हो रहा वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 3:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com