लाइव टीवी

राम मंदिर ट्रस्ट को 'रामलला' की तरफ से चढ़ावे और दान के मिलेंगे 10 करोड़

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 16, 2019, 9:38 AM IST
राम मंदिर ट्रस्ट को 'रामलला' की तरफ से चढ़ावे और दान के मिलेंगे 10 करोड़
राम मंदिर के लिए नए बन रहे ट्रस्ट को रामलला के चढ़ावे और दान के 10 करोड़ रुपये मिलेगे.

बता दें ये रकम कमिश्नर अयोध्या (Ayodhya) के खाते में जमा है. केंद्र सरकार को इस संबंध में रिपोर्ट भेज दी गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट (SC) के फैसले के अनुसार 2.77 एकड़ भूमि समेत भव्य राम मंदिर के लिए अधिगृहीत पूरी जमीन की देखरेख भी सरकार की ओर से बनने वाला ट्रस्ट करे.

  • Share this:
अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट (SC) के अयोध्या फैसले (Ayodhya Verdict) के बाद राम मंदिर (Ram Temple) बनाने की तैयारी तेज हो गई है. मामले में सरकार ने नए राम मंदिर ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) बनाने को लेकर कवायद शुरू कर दी है, वहीं ट्रस्ट में जगाने बनाने को लेकर भी दावेदारी सामने आने लगी है. दरअसल सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार वर्तमान में राम जन्म भूमि में रामलला से संबंधित सभी संपत्तियां इस नए राम मंदिर ट्रस्ट के पास जाएंगीं. इसी क्रम में रामलला को प्राप्त चढ़ावे व दान के रूप में करीब 10 करोड़ की नकदी भी ट्रस्ट के हिस्से जाएगी. बता दें ये रकम कमिश्नर अयोध्या के खाते में जमा है. केंद्र सरकार को इस संबंध में रिपोर्ट भेज दी गई है.

पूरी अधिगृहीत जमीन की देखरेख करे नया ट्रस्ट

दरअसल रामलला पर चढ़ावे का पूरा हिसाब-किताब कमिश्नर के बैंक खाते से ही होता था. लेकिन नई व्यवस्था के अनुसार ट्रस्ट अब ये सारे काम करेगा. बता दें रामलला के नाम से भू-संपत्ति दर्ज नहीं है, भूमि नजूल के खाते में है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 2.77 एकड़ भूमि समेत भव्य राम मंदिर के लिए अधिगृहीत पूरी जमीन की देखरेख भी सरकार की ओर से बनने वाला ट्रस्ट करे.

पुजारियों और कर्मचारियों को इतनी मिलती है तनख्वाह

अन्य खर्च की बात करें तो रामलला के मुख्य पुजारी को 13 हजार रुपए प्रति माह मिलते हैं, वहीं चार अन्य पुजारियों को 8-8 हजार रुपये मासिक दिया जाता है. इसके अलावा कार्यरत 4 कर्मचारियों को तो 6-6 हजार रुपये दिए जाते हैं. वहीं राग-भोग के लिए हर महीने करीब 30 हजार रुपये मिलते हैं. रामलला समेत अन्य विराजमान विग्रहों के वस्त्र आदि के लिए इस बार रामनवमी पर 51 हजार रुपये मिला था, जबकि वस्त्र से लेकर पंचमेवा, पांच तरह की पंजीरी, पंचामृत आदि में खर्च 56 हजार हुआ था. वैसे रामनवमी पर इसके पहले 42 हजार ही मिलता था.

ये भी पढ़ें:

योगी की मंत्री स्वाति सिंह की CO को कथित धमकी, डीजीपी ने एसएसपी लखनऊ से मांगी रिपोर्टचिन्मयानंद को झटका, हाईकोर्ट के पीड़िता के बयान की कॉपी देने के आदेश पर SC ने लगाई रोक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 9:38 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर