अपना शहर चुनें

States

अयोध्या दर्शन करने आई राजस्थानी महिला को पीएसी वाहन ने मारी टक्कर, पुलिस ने की श्रद्धालुओं से बदसलूकी

इस हादसे में महिला के पैर में चोट आई है. शिकायत करने पर पुलिस वालों ने धमकाया. (सांकेतिक तस्वीर)
इस हादसे में महिला के पैर में चोट आई है. शिकायत करने पर पुलिस वालों ने धमकाया. (सांकेतिक तस्वीर)

अयोध्या राज जन्मभूमि के दर्शन करने गई महिला श्रद्धालु पीएसी वाहन की टक्कर से घायल हो गई. उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. श्रद्धालुओं का आरोप है कि विरोध करने पर पुलिस ने उन्हें धमकाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 11:15 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. अयोध्या (Ayodhya) में राम जन्मभूमि (ram janmabhumi) के दर्शन करने गए राजस्थान (rajasthan) के श्रद्धालुओं का सामना पीएसी के अमानवीय जवानों से हो गया. धर्मनगरी अयोध्या पहुंचे अलवर राजस्थान के श्रद्धालुओं में शामिल एक महिला को पीएससी के वाहन ने जोरदार टक्कर (Accident) मार दी. आरोप है कि टक्कर के बाद वाहन चालक जवान ने गाड़ी नहीं रोकी और महिला का पैर कुचलती हुई निकल गई. इस हादसे में महिला गंभीर रूप से घायल हो गई. अलवर राजस्थान से आई महिला का इलाज फैजाबाद के एक निजी अस्पताल में चल रहा है. महिला के पैर में गंभीर चोटें आई हैं. महिला के साथ आए उसके परिजनों ने पुलिस के ऊपर बदसलूकी का आरोप भी लगाया है.

तंग गली में तेज रफ्तार

हनुमानगढ़ी से कनक भवन जाने वाले मार्ग पर रामलला का दर्शन कर निकल रही महिला श्रद्धालु के पैर पर पीएसी के गाड़ी चढ़ गई. जिसकी वजह से महिला श्रद्धालु का पैर टूट गया है. उनका इलाज फैजाबाद के एक निजी अस्पताल में चल रहा है. अलवर राजस्थान से आए श्रद्धालुओं ने पुलिस के ऊपर बदसलूकी का आरोप भी लगाया है. श्रद्धालुओं का कहना है कि तंग रास्ते पर गाड़ी तेज रफ्तार से चलाई जा रही थी और इसी वजह से यह हादसा हो गया.



कैमरे के सामने पुलिस ने चुप्पी साधी
घायल महिला के परिजनों ने कहा कि उन्होंने राम जन्मभूमि का दर्शन किए. इसके बाद कनक भवन के दर्शन करने के लिए जा रहे थे. यहां पुलिस की तेज रफ्तार गाड़ी हॉर्न बजाते हुए गुजरने लगी. वाहन रोकने पर भी नहीं रुक रहे थे. टक्कर मारने के बाद घायल महिला के पैर पर वाहन चढ़ा दिया गया. जब पुलिस की गाड़ी को रोकने का प्रयास किया गया तो पुलिस के जवानों ने बदसलूकी भी की. उन्हें धमकाया भी गया. पीडि़ता के परिजनों ने पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन हमारे सहयोग के लिए है, हमारी मदद के लिए है, लेकिन यहां पर प्रशासन हमारे साथ अभद्रता कर रहा है. इस मामले पर जब पुलिस के अधिकारियों से बात की गई तो वह कैमरे के सामने आने को नहीं तैयार हुए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज