Home /News /uttar-pradesh /

जगत गुरु परमहंस का तपस्वी छावनी पीठ से इस्तीफा: बोले- 'लोग पैर दबाकर संत और गला दबाकर बनते हैं महंत'

जगत गुरु परमहंस का तपस्वी छावनी पीठ से इस्तीफा: बोले- 'लोग पैर दबाकर संत और गला दबाकर बनते हैं महंत'

तपस्वी छावनी के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य ने तपस्वी छावनी पीठ महंत पद से इस्तीफा दे दिया है.

तपस्वी छावनी के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य ने तपस्वी छावनी पीठ महंत पद से इस्तीफा दे दिया है.

Mahant Paramhans Acharya: तपस्वी छावनी के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य ने तपस्वी छावनी पीठ से महंत पद से इस्तीफा दे दिया है.वह हिंदू राष्ट्र के लिए दिल्ली के रामलीला मैदान से अनशन की शुरुआत करेंगे. उन्होंने संत समाज पर हमला बोलते हुए कहा कि 'इस समय संतों में विकृति आ गई है. लोग पैर दबा कर संत बनते हैं और गला दबाकर महंत बन जाते हैं.'

अधिक पढ़ें ...

अयोध्या. तपस्वी छावनी पीठ के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य (Paramhans Acharya) ने एक बार फिर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग को लेकर बड़ा बयान दिया है. इस बार उन्होंने तपस्वी छावनी पीठ से महंत पद से इस्तीफा दे दिया है. उनका कहना है कि भारत को हिंदू राष्ट्र बनाए जाने के लिए अभी से ही काम करना होगा. ऐसे में तपस्वी छावनी के समस्त पदों से इस्तीफा दे रहा हूं. 2023 नवंबर में दिल्ली के रामलीला मैदान में जगत गुरु परमहंस आचार्य ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने के लिए करोड़ों अनुयायियों के साथ अनशन की चेतावनी दी है. इसके साथ ही उन्होंने AC गाड़ियों में घूमने वाले तथा एसी कमरों में रहने वाले महंतों पर हमला करते हुए कहा कि इस समय संतों में विकृति आ गई है. लोग पैर दबा कर संत बनते हैं और गला दबाकर महंत बन जाते हैं.

बीते दिनों भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने के लिए माह मई में जगत गुरु परमहंस आचार्य ने अपनी खुद की चिता सजाई थी, लेकिन प्रशासनिक दबाव के बाद जगत गुरु परमहंस आचार्य को हाउस अरेस्ट किया गया था. एक बार फिर जगत गुरु परमहंस आचार्य गांधी जयंती के दिन जल समाधि लेने की बात कही थी, जिसके बाद भारी पुलिस बल की मौजूदगी में संत परमहंस को फिर से हाउस अरेस्ट किया गया. अपनी जल समाधि की जिद पर अड़े परमहंस दास ने अब एक नया बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि अब 07 नवंबर 2023 में दिल्ली के रामलीला मैदान पर अपने अनुयायियों के साथ भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग को लेकर आंदोलन करेंगे. उनका कहना है कि भारत को हिंदू राष्ट्र की मांग को लेकर उन्हें वृहद स्तर पर आंदोलन करना है ऐसे में तपस्वी पीठ का समस्त भार का निर्वहन नहीं कर सकते हैं.

संत परमहंस दास ने कहा कि हमने यह घोषणा की थी कि 7 नवंबर 2023 में दिल्ली के रामलीला मैदान में अपने करोड़ों अनुयायियों के साथ भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के लिए आमरण अनशन करूंगा. उसकी तैयारी में राष्ट्रव्यापी अभियान चलाना है. मैं अपने दायित्वों से मुक्त हो गया हूं. परमहंस आचार्य ने कहा कि तपस्वी छावनी की संपत्तियों पर अब मेरा कोई भी अधिकार नहीं है. इस निर्णय के लिए मुझे कोई दबाव नहीं दिया गया मैंने स्वतः अपनी खुशी से इस निर्णय को लिया है.

संपत्ति हड़पने बन रहे हैं संत

परमहंस आचार्य ने AC गाड़ियों में घूमने वाले तथा एसी कमरों में रहने वाले महंतों पर हमला करते हुए कहा कि इस समय संतों में विकृति आ गई है. लोग पैर दबा कर संत बनते हैं और गला दबाकर महंत बन जाते हैं. संपन्न और वर्चस्व वाले संतो ने दूसरे के मंदिरों को हड़प लिया है. गुरु और शिष्य में गोलियां चलती हैं. यह संत की मर्यादा नहीं है. मैंने संत समाज को आईना दिखाने का काम किया है. संत समाज आज भटक गया है. संपत्ति के लिए लड़ाई कर रहा है. संतो को लोगों को जागरूक करने की जरूरत है जनता का मार्गदर्शन करने की जरूरत है. धर्मचार्यों की मर्यादा विकृत हो रही है. हम अब सभी पदों से मुक्त होने के बाद हिंदू राष्ट्र की मुहिम को तेजी के साथ आगे बढ़ाएंगे.

Tags: Ayodhya News, Hindu Rashtra Movement, Jagat Guru, Mahant Paramhans Acharya, Uttar pradesh news, परमहंस आचार्य

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर