प्रवीण तोगड़िया बोले 'राम मंदिर ट्रस्ट को राजनीतिक अखाड़ा न बनने दें'

अयोध्या पहुंचे अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया

अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद (International Hindu parishad) के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया (Praveen Togadia) ने कहा 'राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण का काम साधु-संत खासकर वैष्णो संत, शंकराचार्य अखाड़े आदि को करना चाहिए, अब इसे राजनीति का अखाड़ा ना बनाया जाए. राजनीतिज्ञों को ट्रस्ट से दूर रखा जाए'.

  • Share this:
अयोध्या. अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद (International Hindu parishad) के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया (Praveen Togadia)आज अयोध्या (Ayodhya) पहुंचे जहां उनके समर्थकों ने उनका भव्य स्वागत किया. प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि 450 वर्षों के हिंदुओं के संघर्ष व 4 लाख पूर्वजों के बलिदान के बाद अब अयोध्या में भव्य मंदिर बनने जा रहा है. राम मंदिर ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) से लेकर बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) तक हर मुद्दे पर उन्होंने अपनी राय रखी. इस अवसर पर उन्होंने अशोक सिंघल (Ashok Singhal) को भी याद किया.

प्रवीण तोगड़िया ने कहा मंदिर बनने का यश 100 करोड़ हिंदुओ, त्याग बलिदान करने वाले कार सेवकों व मंदिर आंदोलन का नेतृत्व करने वाले संतों को जाता है. जिन्होंने मंदिर निर्माण की जिद अंत समय तक नहीं छोड़ी. उनका कहना था कि जिस प्रकार सोमनाथ मंदिर के सामने सरदार वल्लभ भाई पटेल व हमीर सिंह गोहिल की स्मृति है उसी तरह अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में परमहंस, अवैद्यनाथ अशोक सिंघल व बलिदानी कार सेवकों की स्मृति दिखाई देनी चाहिए ताकि यहां आने वाले श्रद्धालु उनका आशीर्वाद ले सकें.

राजनीतिज्ञों को ट्रस्ट से दूर रखें
ट्रस्ट को लेकर अपनी राय देते हुए उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण का काम साधु-संत खासकर वैष्णो संत, शंकराचार्य अखाड़े आदि को करना चाहिए, अब इसे राजनीति का अखाड़ा ना बनाया जाए. राजनीतिज्ञों को ट्रस्ट से दूर रखा जाए. मंदिर निर्माण के मॉडल के प्रश्न पर उन्होंने कहा इसे सरकार के विवेक पर छोड़ देते हैं. हालांकि जिन्होंने सवा सवा रुपए चंदा दिया, पूजित शिलाओं का भी प्रयोग मंदिर में होगा तो जनता को लगेगा कि उनका भी राम मंदिर निर्माण में योगदान है. मुस्लिमों को 5 एकड़ जमीन दिए जाने के सवाल पर कहा कि 'हमारी पहले से मांग रही है कि अयोध्या की शास्त्रीय सीमा में मस्जिद नहीं स्वीकार होगी और बाबर के नाम पर तो पूरे भारत में नहीं होगी'.

ट्रस्ट में शामिल होने के प्रश्न पर बोले 'राम जन्मभूमि निर्माण के लिए जिसको भी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी उसको हमारा शुभकामना और समर्थन है'. आगे बोलते हुए उन्होने कहा कि 'हमको आनंद मंदिर बनने में है ट्रस्टी बनने नहीं, ट्रस्ट में साधु-संत, शंकराचार्य अखाड़े, धार्मिक प्रवृति के लोग शामिल हों तो ज्यादा बेहतर है इसको राजनीति का अखाड़ा न बनाया जाए. सक्रिय राजनीति का एक भी सदस्य राम जन्मभूमि निर्माण के लिए बनाए जाने वाले ट्रस्ट में न रहे तो बेहतर होगा.' प्रयागराज से गोंडा जाते समय प्रवीण तोगड़िया अयोध्या पहुंचे थे और उन्होंने अयोध्या में प्रेस वार्ता कर राम मंदिर पर अपना पक्ष रखा है.

ये भी पढ़ें- भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद ताजनगरी में पहली जनसभा करेंगे जेपी नड्डा, समझाएंगे CAA की बारीकियां

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.