Home /News /uttar-pradesh /

Ram Mandir: तय सीमा से लेट चल रहा राम मंदिर का निर्माण कार्य, जनवरी तक पूरा होगा राफ्ट का काम

Ram Mandir: तय सीमा से लेट चल रहा राम मंदिर का निर्माण कार्य, जनवरी तक पूरा होगा राफ्ट का काम

जनवरी तक पूरा होगा राफ्ट का काम.

जनवरी तक पूरा होगा राफ्ट का काम.

Ram Mandir Construction: राफ्ट (Raft) बनाने के लिए पहले 15 नवंबर (15th November) तक की समय सीमा तय की गई थी मगर बाद में तकनीकी खामियों (Technical issues) की वजह से अब इसको नए सिरे से और तकनीकी का प्रयोग करते हुए और भी मजबूत बनाया जाने के लिए बदलाव किया गया है. पहले 27 मीटर चौड़े 17 ब्लॉक राफ्ट के बनाए जाने थे लेकिन बाद में तकनीकी कमियों के कारण अब इंजीनियर्स ने बदलाव किया है.

अधिक पढ़ें ...

अयोध्या. रामलला के मंदिर निर्माण में तेजी के साथ काम किया जा रहा है. रामलला के भव्य मंदिर की बुनियाद बनकर तैयार हो गई है और उसके ऊपर राफ्ट बनाने का काम किया जा रहा है. राफ्ट बनाने के लिए पहले 15 नवंबर तक की समय सीमा तय की गई थी मगर बाद में तकनीकी खामियों की वजह से अब इसको नए सिरे से और तकनीकी का प्रयोग करते हुए और भी मजबूत बनाया जाने के लिए बदलाव किया गया है.

बता दें कि पहले 27 मीटर चौड़े 17 ब्लॉक राफ्ट के बनाए जाने थे लेकिन बाद में तकनीकी कमियों के कारण अब इंजीनियर्स ने बदलाव किया है. अब 9 मीटर चौड़े, डेढ़ मीटर ऊंचे और लगभग 9 मीटर लंबे 32 ब्लॉक का निर्माण किया जाएगा. राफ्ट के निर्माण का काम भी जनवरी तक पूरा होने की उम्मीद है. बीते दिनों डाले गए राफ्ट के ब्लॉक में दरार देखने के बाद उसके साइज और चौड़ाई को लेकर इंजीनियर्स ने बदलाव किया है. निमार्ण कार्य में हो रही देरी के बाद भी ट्रस्ट का दावा है कि 2023 तक रामलला अपने गर्भगृह में बैठ जाएंगे. मंदिर की मजबूती के लिहाज से किसी भी तरीके का समझौता नहीं किया जाएगा.

जमीन में डाली गई चट्टान करेगी नींव का काम

बीते दिनों 400 फुट लंबा 300 फुट चौड़ा और 50 फुट गहरे भूखंड में चट्टान की भराई की गई थी, जिसका उपयोग मंदिर की बुनियाद के तौर पर किया गया था. मंदिर हजारों वर्ष तक सुरक्षित रहें इसके लिए ट्रस्ट और इंजीनियर प्रयासरत हैं. भारत के इतिहास में इतने बड़े भूखंड में इतनी बड़ी बुनियाद कभी नहीं भरी गई है. ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि रंग महल के बैरियर पर जिस लेवल पर आप खड़े रहते हैं, उस लेवल से लगभग 14 मीटर गहराई तक एक बहुत विशाल क्षेत्र में चट्टान ढाली गई. देश का कोई इंजीनियर नहीं कह सकता कि स्वतंत्र भारत में ऐसी कोई चट्टान जमीन में डाली गई है. यह चट्टान मंदिर की नींव का काम करेगी. चट्टान लगभग एक लाख पचासी हजार घन मीटर क्षेत्र में डाली गई है. इसके ऊपर और अधिक भार वहन करने वाली क्षमता वाली 5 फीट ऊंची दूसरी चट्टान ढाली जा रही है. उसकी पद्धति में बदलाव किया गया है. नीचे की चट्टान रोलर से दबाई जाती थी, राफ्ट की चट्टान ऑटोमेटिक मशीनों से इस प्रकार से ढाली जा रही है कि उसको रोलर करने की आवश्यकता नहीं है.

मिर्जापुर का बलुआ पत्थर सोखता है पानी

राफ्ट के निर्माण को लेकर चंपत राय ने बताया कि राफ्ट में पानी नहीं भरा जा रहा है उसे प्राकृतिक रूप से ठंडा होने दिया जा रहा है. इसमें 28 दिन का समय लगेगा. जनवरी में इसके पूरा होने की उमीद है, अब जल्दबाजी नहीं हो सकती है. प्राकृतिक रूप से जितना भी समय लगेगा हमें उसका इंतजार करना होगा. इस राफ्ट पर एक के ऊपर एक पत्थर रखकर 6 मीटर लगभग 20 फीट ऊंची प्लिंथ डाली जाएगी. चंपत राय ने बताया कि एक नया विचार बीच में आया है की राफ्ट के ऊपर पत्थरों की फिटिंग के पहले एक बड़ी मजबूत ग्रेनाइट लेयर डाल दिया जाए. ग्रेनाइट चारों ओर से लगाया जाएगा और इसके पीछे का प्रमुख कारण यह है कि बलुआ पत्थर जो मिर्जापुर का है वह पानी सोखता है, नमी ग्रहण करता है, मिट्टी में नमी रहेगी. वर्षा होगी तो पानी जमीन में जाएगा तो कुछ सालों के बाद पानी मंदिर की ओर चलेगा इसलिए ग्रेनाइट पत्थर से इसको चारों तरफ से पैक कर दिया जाएगा.

राफ्ट में दरार ने किया था परेशान

राफ्ट के निर्माण के लिए अपनाए जा रही तकनीक पर चंपत राय ने बताया कि पानी की बजाय बर्फ का इस्तेमाल हो रहा है. बर्फ का चूरे के इस्तेमाल से पत्थर भी ठंडा हो जाएगा और पत्थर की गर्मी भी शांत हो जाएगी. बुनियाद के ऊपर राफ्ट के निर्माण में पहले की अपेक्षा बाद में बदलाव किया गया क्योंकि पूर्व में राफ्ट के जो ब्लॉक डाले गए, उनमें दरार दिखने लगी थी. इंजीनियरों की सलाह पर अब ब्लॉक में चेंज किया गया है. पहले 27 मीटर चौड़ा ब्लॉक डाला जा रहा था. अब उसको घटाकर 9 मीटर चौड़ाई की गई है. राफ्ट एक साथ नहीं डाली जा सकती क्योंकि रोलिंग करने के लिए लंबा रोलर चलाना पड़ता है. बाद में इंजीनियर्स की सलाह बनी, अब 17 की जगह 32 भाग कर दो छोटे छोटे टुकड़े का डेढ़ मीटर ऊंचा, 9 मीटर चौड़ा और डेढ़ मीटर गहरा राफ्ट रखा जा रहा है.

Tags: Ayodhya, Ayodhya News, Ayodhya ram mandir, Ram Mandir

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर