BJP सांसद रवि किशन ने खुद को बताया भरत, बोले- CM योगी की खड़ाऊंं लेकर कर रहा हूं काम

अयोध्या रामलीला कमेटी के तत्वावधान में मंगलवार की रात कैकेयी अंतर्द्वंद्व, कैकेयी-दशरथ संवाद और श्रीराम वन गमन लीला का मंचन किया गया.
अयोध्या रामलीला कमेटी के तत्वावधान में मंगलवार की रात कैकेयी अंतर्द्वंद्व, कैकेयी-दशरथ संवाद और श्रीराम वन गमन लीला का मंचन किया गया.

बीजेपी सांसद रवि किशन (MP Ravi Kishan) ने कहा कि लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद यह पहला मौका है जब वह अभिनय के लिए अयोध्‍या आए हैं.

  • Share this:
अयोध्या. गोरखपुर के सांसद रवि किशन (MP Ravi Kishan) 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक अयोध्या में चलने वाली रामलीला (Ram Leela) में मंगलवार को भरत की भूमिका में नजर आए. मंच पर भरत के किरदार (Bharat Character) का अभिनय कर सांसद ने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया. सांसद रवि किशन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासन में राम मंदिर का निर्माण सुनिश्चित हुआ, जो पूरे देश वासियों के लिए और हम सब के लिए गौरव का पल है. उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण कार्य (Ram Temple Construction Work) शुरू हो गया है और ऐसे में यहां पहली बार रामलीला का आयोजन किया जा रहा है. इस रामलीला में मुझे भरत का किरदार करने का अवसर मिला, जिसके लिए मैं रामलीला समिति के लोगों के प्रति आभार प्रकट करता हूं. समिति ने मुझे यह सौभग्य दिया जो मेरे लिए एक ऐतिहासिक और सुखद पल है.

जानकारी के मुताबिक, इस दौरान सांसद रवि किशन ने रामलीला स्थल लक्ष्मण किला मैदान का भी निरीक्षण किया. सांसद रवि किशन ने कहा कि मेरे लिए बहुत खुशी का पल है. सांसद बनने के बाद यह पहला मौका है कि अभिनय के लिए मैं यहां पर आए हूं. उन्होंने कहा कि भरतजी ने जैसे भगवान राम की खड़ाऊंं लेकर 14 साल तक अयोध्या की सेवा की थी, ठीक वैसे ही मैं पूज्य योगी महाराज की खड़ाऊंं लेकर गोरखपुर की जनता की सेवा कर रहा हूं. रवि किशन ने कहा कि यह एक बहुत बड़ा संदेश है कि एक बड़े भाई के लिए छोटा भाई कैसे सब कुछ त्याग देता है. मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे रामलीला में अभिनय का अवसर मिला. यह समझिये कि जीते जी मोक्ष मिल गया. एक तरफ जहां राम मंदिर का निर्माण हो रहा है. उसी धरती पर मैं भरत की भूमिका में हूं. जय श्री राम के साथ मैं गोरखपुर की देव तुल्य जनता को भी साधूवाद देता हूं. उन्होंने कहा कि फिल्म के रूप में गोरखपुर में एक नए रोजगार का सृजन हो रहा है और आमजन के हित के लिए अन्य योजनाओं पर भी कार्य चल रहा है.

श्रीराम वन गमन लीला का मंचन
अयोध्या रामलीला कमेटी के तत्वावधान में मंगलवार की रात कैकेयी अंतर्द्वंद्व, कैकेयी-दशरथ संवाद और श्रीराम वन गमन लीला का मंचन किया गया. रामलीला के चौथे दिन का शुभारंभ राम के राज्याभिषेक की बात सुन कैकेयी ने राजा दशरथ से दो वरदान मांगे. चौदह वर्ष के वनवास की सुन श्रीराम अपने अनुज लक्ष्मण और पत्नी सीता के साथ वन की ओर निकल पडे़. जब भरत अपने भाई शत्रुघ्न के साथ अयोध्या आते हैं तो अयोध्या की जनता उनसे मुंह फिर लेती है. भरत का मन विचलित होता है और राज महल पहुंचकर राजा दशरथ और प्रभु श्री राम के बारे में पूछते हैं. जब उन्हें पता चलता है कि प्रभु श्री राम को वनवास और उनको राजा बनाया गया है तो उन्होंने अपनी मां से कहा कि मां आप ने तो जीते जी मेरा नाश कर दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज