Home /News /uttar-pradesh /

Different Gift: राम के लिए 47 दिन में रामेश्वरम से अयोध्या तक की दौड़, भगवान को समर्पित किया ​कीर्तिमान

Different Gift: राम के लिए 47 दिन में रामेश्वरम से अयोध्या तक की दौड़, भगवान को समर्पित किया ​कीर्तिमान

पर्वतारोही नरेंद्र यादव.

पर्वतारोही नरेंद्र यादव.

Run For Ram : एक भक्त (Devotee) ने रामलला को अनोखा तोहफा (Different Gift) दिया है. नरेंद्र यादव (Narendra Yadav) नाम के पर्वतारोही ने भगवान (God) के प्रति अपनी आस्था को अनोखे रूप में प्रस्तुत किया है. नरेंद्र रामेश्वरम (Rameshvaram) से 47 दिन में 2911 किलोमीटर की यात्रा कर अयोध्या (Ayodhya) पहुंचे हैं और उन्होंने अपना यह ​कीर्तिमान (Record) रामलला को समर्पित किया है. नरेंद्र 47 दिन की यात्रा कर 7 राज्यों से होकर अयोध्या पहुंचे हैं.

अधिक पढ़ें ...

अयोध्या. अयोध्या में बन रहे भगवान राम के मंदिर को लेकर भक्तगणों में खास उत्साह है. हर व्यक्ति यथासंभव रामलला के मंदिर निर्माण में अपनी ओर से सहयोग कर रहा है. इस कड़ी में एक भक्त ने रामलला को अनोखा तोहफा दिया है. नरेंद्र यादव नाम के पर्वतारोही ने भगवान के प्रति अपनी आस्था को अनोखे रूप में प्रस्तुत किया है. नरेंद्र रामेश्वरम से 47 दिन में 2911 किलोमीटर की यात्रा कर अयोध्या पहुंचे हैं और उन्होंने अपना यह ​कीर्तिमान रामलला को समर्पित किया है. नरेंद्र 47 दिन की यात्रा कर 7 राज्यों से होकर अयोध्या पहुंचे हैं. यह उनकी पहली यात्रा थी जो रन फ़ॉर राम के नाम से उन्होंने रामेश्वरम से शुरू की थी.

मूल रूप से पर्वतारोही नरेंद्र यादव सात महाद्वीपों में 5 महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटी की चढ़ाई कर चुके हैं. उनके नाम 18 विश्व रिकॉर्ड भी दर्ज हैं. पर्वतारोही नरेंद्र यादव माउंटेन रिंग में वर्ल्डकिंग की उपाधि भी प्राप्त कर चुके हैं. उन्होंने भगवान राम के लिए पहली बार रामेश्वरम से अयोध्या तक की दौड़ लगाई. अयोध्या के कारसेवक पुरम में उनका जोर शोर से स्वागत किया गया. पर्वतारोही नरेंद्र ने पहली बार सड़कों पर 7 अक्टूबर से रामेश्वरम से रन फ़ॉर राम नाम से दौड़ लगाई. प्रतिदिन लगभग 55 किलोमीटर दौड़ लगाकर 47 दिन में अयोध्या पहुंचकर पर्वतारोही नरेंद्र ने कीर्तिमान स्थापित किया है. अब इस कीर्तिमान को राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को समर्पित किया.

मेहनत रामजी के चरणों में समर्पित

नरेंद्र यादव ने बताया कि राम के नाम से रामेश्वरम से अयोध्या तक मैराथन दौड़ लगाई है, जिसकी दूरी 2911 किलोमीटर है. इस दौरान सभी ने अपनी क्षमता अनुसार श्री राम जी के मंदिर में अपना योगदान दिया. खिलाड़ी होने के नाते मैंने तय किया था कि अपनी मेहनत हम रामजी के चरणों में समर्पित करेंगे. 24 नवंबर को अयोध्या पहुंचे इसमें पूरे 49 दिन लगे हैं, जिसमें 2 दिन मेडिकल और 47 दिन दौड़ लगाई है. कई विश्व कीर्तिमान एजेंसियों से अनुमति ली गई थी जिसमें प्रमुख रुप से हाईरेंज वर्ल्ड रिकॉर्ड, यूनिक वर्ल्ड रिकॉर्ड, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड से अनुमति ली गई थी. जल्द ही कीर्तिमान स्थापित किए जाने का सर्टिफिकेट मिलेगा जिसे राम जन्मभूमि न्यास को समर्पित करुंगा.

परिश्रम किया समर्पित

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने बताया कि देश के 7 राज्यों से ये यात्रा गुजरी है. तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कटनी, रीवा के मार्ग से प्रयागराज पहुंचे हैं. 21 नवंबर को प्रयागराज के नैनी तक यह पहुंच गए थे प्रयागराज से कटका और फिर कटका से 24 नवंबर को नंदीग्राम पहुंचे हैं. 24 की शाम 6:00 बजे नंदीग्राम से अयोध्या पहुंचे. इन्होंने एक तरह से भगवान राम को अपना परिश्रम समर्पित किया है, सारा भारत एक है इसका अनुभव इन्होंने किया है. चंपत राय ने कहा कि देश के विभिन्न कोनों में भाषा अवरोध नहीं उत्पन्न करती देश एक है और देश के विभिन्न कोनों में राम पूज्य है और श्रद्धा के साथ देखे जाते हैं.

Tags: Ayodhya, Ayodhya ram mandir, Gift, Run

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर