संतों ने ममता बनर्जी को लिखा पोस्टकार्ड, ‘श्रीराम का विरोध छोड़ो या भारत छोड़ो’

डॉ. राम विलास दास वेदांती व स्वामी परमहंस दास ने गुरुवार को ममता बनर्जी की सद्बुद्धि के लिए बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया. तपस्वी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास ने पोस्टकार्ड में लिखा है कि ममता बनर्जी, ‘जय श्रीराम का विरोध छोड़ो या तो फिर भारत छोड़ो’.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 6, 2019, 4:17 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 6, 2019, 4:17 PM IST
अयोध्या में संतों ने ममता बनर्जी को श्रीराम लिखा पोस्टकार्ड भेजना शुरू कर दिया है. तपस्वी छावनी में डॉ. राम विलास दास वेदांती व स्वामी परमहंस दास ने गुरुवार को ममता बनर्जी की सद्बुद्धि के लिए बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया. साथ ही देवी शक्ति यज्ञ के माध्यम से शीघ्र राम मंदिर निर्माण की बाधा दूर करने की प्रार्थना की गई. तपस्वी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास ने पोस्टकार्ड में लिखा है कि ममता बनर्जी, ‘जय श्रीराम का विरोध छोड़ो या तो फिर भारत छोड़ो’.

कथित रूप से श्रीराम विरोधी विचारधारा वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सद्बुद्धि आए, इसके लिए तपस्वी छावनी में बुद्धि शुद्धि यज्ञ का आयोजन किया गया. आयोजन के मुख्य यजमान श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. राम विलास दास वेदांती व स्वामी परमहंस दास थे. संतों ने ममता बनर्जी की राम विरोधी सोच के लिए बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया.

यज्ञ के बाद न्यास के वरिष्ठ सदस्य व पूर्व सांसद डॉ. राम विलास दास वेदांती ने सीएम ममता बनर्जी को श्रीराम नाम लिखा पोस्टकार्ड लिखा, जिसे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पोस्ट किया गया. साथ ही वेदांती ने संतों से आह्वान किया कि सभी लोग पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को श्रीराम नाम लिखा पोस्टकार्ड भेजें.

तपस्वी छावनी के महंत स्वामी परमहंस दास का कहना है कि बुद्धि शुद्धि यज्ञ के साथ देवी शक्ति यज्ञ के माध्यम से राम मंदिर निर्माण की बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना की गई है, जिससे केंद्र की सरकार को ईश्वरीय शक्ति मिल सके. संतों का मानना है कि केंद्र की सरकार कश्मीर में धारा 370 समाप्त करे, जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाए. स्वामी परमहंस दास का कहना है कि जो राम विरोधी हैं उनके लिए देश में कोई जगह नहीं है.

ये भी पढ़ें - 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 6, 2019, 1:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...