होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Shravana Putrada Ekadashi: पुत्रदा एकादशी पर इन बातों का रखें खास ध्यान, जानें शुभ मुहूर्त समेत सबकुछ

Shravana Putrada Ekadashi: पुत्रदा एकादशी पर इन बातों का रखें खास ध्यान, जानें शुभ मुहूर्त समेत सबकुछ

Shravana Putrada Ekadashi 2022: पुत्रदा एकादशी व्रत में भगवान विष्णु की पूरे विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है. हिंद ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पुत्रदा एकादशी व्रत करने से निसंतान दंपत्ति को संतान सुख की प्राप्ति होती है.
पुत्रदा एकादशी का व्रत आज (8 अगस्त) रखा जाएगा और इसका पारण 9 अगस्त को प्रातः काल किया जायेगा.

सर्वेश श्रीवास्तव

अयोध्या. सावन का पवित्र महीना चल रहा है. इस दौरान भगवान शंकर की पूजा-अर्चना पूरे विधि-विधान के साथ की जाती है. हिंदू पंचांग के अनुसार सावन माह में कई सारे व्रत और त्योहार आते हैं. उसी में से एक पुत्रदा एकादशी भी पड़ता है, जो आज (8 अगस्त) है. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत काफी महत्वपूर्ण माना जाता है और इस दौरान भगवान विष्णु की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है.

धार्मिक मान्यता के अनुसार पुत्रदा एकादशी व्रत करने से निसंतान दंपत्ति को संतान सुख की प्राप्ति होती है. पुत्रदा एकादशी सभी एकादशियों में महत्वपूर्ण एकादशी मानी जाती है. ज्योतिषाचार्य पंडित कल्कि राम बताते हैं कि पुत्र की प्राप्ति के लिए सबसे पहले लोमश ऋषि ने पुत्रदा एकादशी का व्रत रखा था. इस व्रत को रखने से उनको उत्तम संतान की प्राप्ति हुई थी, जिन्हें आगे चलकर महा ऋषि और भगवान ब्रह्मा के पुत्र की संज्ञा मिली थी. इसके बाद से पुत्रदा एकादशी का व्रत रखा जाता है

आपके शहर से (अयोध्या)

अयोध्या
अयोध्या

जानिए पुत्रदा एकादशी की तिथि और मुहूर्त
ज्योतिषाचार्य पंडित कल्कि राम बताते हैं कि पुत्रदा एकादशी का आरम्भ 7 अगस्त 2022 रविवार की रात 11 बजकर 49 मिनट पर होगा. इसका समापन 8 अगस्त 2022 दिन सोमवार की रात 9 बजे है. उदयातिथि के अनुसार पुत्रदा एकादशी का व्रत 8 अगस्त को रखा जाएगा. इसका पारण 9 अगस्त शुभ दिन मंगलवार को प्रातः काल किया जायेगा.

क्या है पुत्रदा एकादशी की पूजा विधि ?
सुबह स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहन कर पूजा स्थान पर जाकर भगवान विष्णु की प्रतिमा के सामने दीपक जलाना चाहिए. उसके बाद गंगाजल लेकर व्रत का संकल्प लेना चाहिए. भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना में तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल करने के साथ एकादशी के व्रत में सात्विकता का खास ख्याल रखना चाहिए.

सफल एकादशी के लिए करें यह काम
इस दिन भगवान विष्णु का पूजा-पाठ करने से सभी पापों का नाश हो जाता है. पुत्रदा एकादशी के दिन दान करना शुभ माना जाता है. पुत्र की प्राप्ति के लिए पुत्र की दीर्घायु के लिए पुत्रदा एकादशी का व्रत रखा जाता है

(नोट- यहां दी गई जानकारी मान्यताओं पर आधारित है NEWS 18 LOCAL इसकी पुष्टि नहीं करता.)

Tags: Ayodhya News, Lord vishnu

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें