अब घर बैठे करें रामलला के दर्शन, Facebook-यूट्यूब पर आरती का होगा लाइव प्रसारण
Ayodhya News in Hindi

अब घर बैठे करें रामलला के दर्शन, Facebook-यूट्यूब पर आरती का होगा लाइव प्रसारण
आरती का सीधा प्रसारण सोशल मीडिया में किया जाएगा.

पांचों आरतियों का सीधा प्रसारण सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारण करने की तैयारी में है. अब जल्द ही राम भक्त अपने आराध्य के आरतियों का दर्शन घर बैठे फेसबुक (Facebook), टि्वटर (Twitter) और यूट्यूब (Youtube) के माध्यम से कर सकेंगे.

  • Share this:
अयोध्या. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Ram Janmabhoomi Trust) भक्तों को नई सौगात देने की तैयारी में है. रामलला (Ramlala) की आरती का श्रद्धालु अब घर बैठे सोशल मीडिया (Social Media) के माध्यम से दर्शन कर सकेंगे. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र रामलला की आरती का दर्शन अभी श्रद्धालु नहीं कर पा रहे हैं. सुबह से मंगला आरती से लेकर रात्रि की शयन आरती तक लगभग 5 आरतियां मंदिरों में होती हैं. वहीं पांचों आरतियों का सीधा प्रसारण सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारण करने की तैयारी में है. अब जल्द ही राम भक्त अपने आराध्य के आरतियों का दर्शन घर बैठे फेसबुक (Facebook), टि्वटर (Twitter) और यूट्यूब (Youtube) के माध्यम से कर सकेंगे.

मालूम हो कि रामलला के पक्ष में फैसला आने के बाद सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर ट्रस्ट का गठन हुआ.  25 मार्च को श्री रामलला को अस्थाई मंदिर में शिफ्ट किया गया था. इसके पास जमीन के समतलीकरण का कार्य शुरू हुआ और मंदिर निर्माण की प्रक्रिया का आरंभ हुआ. जानकारी के मुताबिक, अब जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन भी कर सकते हैं.

शृंगार की फोटो भी होगी अपलोड



रामलला के दर्शन अवधि में श्रद्धालुओं को आरती का दर्शन नहीं हो रहा था. राम मंदिर में सुबह सबसे पहले मंगला आरती होती है. उसके बाद शृंगार आरती होती है, फिर बाल भोग लगता है. दोपहर में भोग आरती के बाद भगवान विश्राम में जाते हैं और फिर रात्रि को शयन आरती की जाती है. भगवान के शृंगार का प्रतिदिन श्रद्धालुओं को हो सकेगा दर्शन. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने हर दिन के श्रृंगार आरती का प्रसारण करने का फैसला ले चुका है. अब शृंगार के फोटो और वीडियो भी अपलोड किए जाएंगे.
शृंगार के फोटो और वीडियो भी अपलोड किए जाएंगे.


संत समाज ने किया स्वागत

रामलला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि जिस दिन रामलला को अस्थाई भवन में शिफ्ट किया गया था उसी दिन इस बात की भी घोषणा की गई थी कि भक्तों को रामलला की आरती और दर्शन ऑनलाइन मिल सकेगा. यह सुनकर सभी में प्रसन्नता थी कि राम राम जन्मभूमि की आरती ऑनलाइन देखने को मिलेगी. साथ ही श्रद्धालुओं को रामलला के वस्त्रों को तथा उनके श्रृंगार का भी दर्शन प्रतिदिन हो सकेगा. ट्रस्ट की घोषणा का हम इसका स्वागत करते हैं, सम्मान करते हैं. उन्होंने कहा कि रामलला की पांच आरतियां प्रतिदिन होती हैं. सबसे पहले श्रृंगार आरती होती है, दोपहर में भोग आरती और शाम को संध्या आरती होती है. वहीं, मंगला आरती गोपनीय आरती होती है. इसका दर्शन नहीं कराया जाता. सबसे आखरी में शयन आरती होगी. इसके बाद भगवान रात्रि विश्राम के लिए जाते हैं.

ये भी पढ़ें: 

जमुई: खुदकुशी से पहले युवक का वीडियो वायरल, बोला- मदद मांगी, पर किसी ने नहीं सुनी.....

उदयपुर को मिल सकती है फिल्म सिटी की सौगात, CM अशोक गहलोत के फैसले का इंतजार

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज