लाइव टीवी

यूपी की इस यूनिवर्सिटी में बिना परीक्षा दिए पास हो गए एमएससी के छात्र
Ayodhya News in Hindi

KB Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 27, 2019, 3:46 PM IST
यूपी की इस यूनिवर्सिटी में बिना परीक्षा दिए पास हो गए एमएससी के छात्र
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक ऐसा विश्वविद्यालय है जहां के विद्यार्थी एमएससी (MSc) जैसी परीक्षा में अनुपस्थित रहकर फर्स्ट डिविजन में पास हुए हैं. क्या है पूरा मामला, जानने के लिए पढ़ें खबर...

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक ऐसा विश्वविद्यालय है जहां के विद्यार्थी एमएससी (MSc) जैसी परीक्षा में अनुपस्थित रहकर फर्स्ट डिविजन में पास हुए हैं. क्या है पूरा मामला, जानने के लिए पढ़ें खबर...

  • Share this:
अयोध्या. उत्तर प्रदेश में एक ऐसी यूनिवर्सिटी है जहां के छात्र परीक्षा में शामिल नहीं होते हैं यानी परीक्षा से अनुपस्थित रहते हैं, लेकिन फिर भी वे फर्स्ट डिवीजन में पास होते हैं और वह भी एमएससी जैसे महत्वपूर्ण कोर्स में. फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी और गणित जैसे विषय में बिना परीक्षा दिए कई छात्र फर्स्ट क्लास पास हो गए। हम बात कर रहे हैं अयोध्या की डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी (Dr. Ram Manohar Lohia Awadh University) की. यह चौंकाने वाला खुलासा एक आरटीआई (RTI) के जरिए हुआ है.

पूरी फिल्म अभी सामने आनी बाकी है!
अयोध्या स्थित राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से संबद्ध श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय से जो सच बाहर आया है, वह निश्चित रूप से चौंका देने वाला है. साथ ही साथ यह खुलासा एक सवाल भी खड़ा करता है कि जिस खुलासे को देखकर हर कोई चौंक जाएगा कि वह क्या महज ट्रेलर भर है? पूरी फिल्म अभी सामने आनी बाकी है! जी हां, राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से संबद्ध अयोध्या के श्री राम जानकी महाविद्यालय, रामनगर अमावा सूफी में एडमिशन लेने वाले एमएससी फाइनल ईयर के छात्रों का सेंटर 2018- 2019 के सत्र में यूनिवर्सिटी से ही संबद्ध एक और कॉलेज श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय में गया था.

'हमने विश्वविद्यालय भेज दी थी अनुपस्थित छात्रों की सूची'

हैरत की बात यह है कि फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी, गणित जैसे विषय में जिन छात्रों को एग्जामिनेशन सेंटर यानी श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय ने अनुपस्थित बताया है, वे सभी छात्र राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटीी से फर्स्ट डिविजन में पास हो गए. अब सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे? इसका जवाब खुद श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय के प्राचार्य के पास भी नहीं है और वह एक ही बात कहते हैं हमने तो अनुपस्थित छात्रों की पूरी रिपोर्ट यूनिवर्सिटी को भेज दी थी. अब यूनिवर्सिटी जाने की अनुपस्थित छात्र कैसे पास हो गए.

राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय का फाइल चित्र.


यह पूरा खुलासा हुआ कैसे...?जब एक महाविद्यालय में एमएससी फाइनल ईयर जैसे कोर्स में दर्जनों छात्र बिना परीक्षा दिए फर्स्ट क्लास पास हो गए तो बाकी क्लास का क्या हाल होगा? और क्या यह संभव नहीं कि राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से संबद्ध कुछ अन्य महाविद्यालयों में भी यही हाल हो और क्या इसकी गहनता से जांच करने की आवश्यकता नहीं है. इससे पहले आपको यह बताते हैं कि यह पूरा खुलासा हुआ कैसे...? दरअसल इलाहाबाद हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करने वाले अधिवक्ता और अयोध्या के मिल्कीपुर क्षेत्र के रहने वाले पवन कुमार पांडे ने राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी से 2018-19 सत्र में श्री राम जानकी महाविद्यालय में अध्ययनरत एमएससी सेकंड ईयर के कितने छात्र परीक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, बॉटनी और गणित जैसे विषय में अनुपस्थित रहे, इस बाबत जन सूचना मांगी थी. इसके जवाब में विश्वविद्यालय ने उक्त जानकारी एग्जामिनेशन सेंटर से प्राप्त करने को कहा. इसके बाद जब यह सूचना एग्जामिनेशन सेंटर श्री राम सिंह गुलेरिया महाविद्यालय से मांगी गई तो उन्होंने जो जानकारी मुहैया कराई उसी से इस पूरे फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया.

ये भी पढ़ें - 

ठिठुरी दिल्लीः मौसम की सबसे सर्द रात, पारा 4.2 डिग्री पर, Pollution ने भी फुलाई सांसें

अमृता vs शिवसेना: एक्सिस बैंक से खातों को स्थानांतरित करेगा ठाणे नगर निगम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 27, 2019, 1:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर