लाइव टीवी

राम जन्मभूमि का दर्शन कर बोले तारिक फतेह- मुस्लिम यूनिवर्सिटी से हटे जिन्ना की तस्वीर
Ayodhya News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 22, 2020, 5:23 PM IST
राम जन्मभूमि का दर्शन कर बोले तारिक फतेह- मुस्लिम यूनिवर्सिटी से हटे जिन्ना की तस्वीर
अयोध्या पहुंचे तारिक फतेह ने राम जन्मभूमि और हनुमानगढ़ी के दर्शन किए.

तारिक फतेह (Tariq Fateh) ने कहा कि मुस्लिम महिलाएं एनआरसी (NRC) और सीएए (CAA) का विरोध नहीं कर रही हैं. दरअसल उनके पतियों ने उन्हें विरोध में बैठाया है. तारिक फतेह ने कहा कि मुस्लिम पति पहले अपनी बीवियों को बुर्के से बाहर करें. उनसे पाबंदी हटाएं.

  • Share this:
अयोध्या. प्रख्यात समालोचक तारिक फतेह (Tariq Fateh) बुधवार को राम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) पहुंचे. यहां तारिक फतेह ने हनुमानगढ़ी (Hanuman Garhi) और राम जन्मभूमि (Ram Janmbhumi) में दर्शन पूजन किया और संतों से मुलाकात की. इस दौरान मीडिया से बातचीत में तारिक फतेह ने कहा कि मुस्लिम महिलाएं एनआरसी (NRC) और सीएए (CAA) का विरोध नहीं कर रही हैं. दरअसल उनके पतियों ने उन्हें विरोध में बैठाया है. तारिक फतेह ने कहा कि मुस्लिम पति पहले अपनी बीवियों को बुर्के से बाहर करें. उनसे पाबंदी हटाएं. बहन-बेटियों को बुर्के में बंद रखें और शाहीन बाग के लिए कहें कि आगे आओ, यह दोगलापन है.

तारिक फतेह ने कहा कि एनआरसी का विरोध मुस्लिम समाज के मन में असुरक्षा की भावना है. एनआरसी से बांग्लादेशी हिंदुओं के भारत में आने पर उनके मन में असुरक्षा की भावना जगी है. मुस्लिमों के दिमाग में है कि हमारी आबादी अगर अधिक हो जाएगी तो हम भारतीय पॉलिसी को सामना कर पाएंगे. बांग्लादेश से भारत आने वाले हिंदुओं से उनकी जनसंख्या कम हो जाएगी. हिंदू बढ़ जाएंगे तो हमारा क्या होगा? तारिक फतेह ने कहा कि यह उनका फितूर है. मुस्लिम समाज के लोग अभी भी पार्टीशन के दौर में नहीं निकले हैं. वरना एनआरसी का विरोध मुस्लिम यूनिवर्सिटी से न शुरू होकर जेएनयू से शुरू होता.

बंद की जाए मुस्लिम यूनिवर्सिटी

इसके साथ ही तारिक फतेह ने सवाल किया कि यूनिवर्सिटी में धर्म का क्या काम? यह समझ से बाहर है. ताहिर फतेह ने कहा कि यूनिवर्सिटी में मुस्लिमों का 50 परसेंट रिजर्वेशन है. उन्होंने पूछा कि आप की आबादी 13 परसेंट है. तारिक फतेह ने मांग की कि मुस्लिम यूनिवर्सिटी बंद की जाए. पहले यूनिवर्सिटी से जिन्ना की तस्वीर उतारी जाए, तब माना जाएगा कि आप देश के लिए बात कर रहे हैं. आप जिन्ना की तस्वीर उतारने नहीं देते.

'एनआरसी का विरोध दरअसल मुस्लिमों द्वारा भारतीय संविधान का रिजक्शन'

उन्होंने कहा कि आर्टिकल 14 संविधान की लड़ाई है झूठ क्यों बोल रहे हो? उन्होंने कहा कि एनआरसी का विरोध दरअसल मुस्लिमों द्वारा भारतीय संविधान का रिजक्शन है. वहीं कांग्रेस के ऊपर हमलावर होते हुए तारिक फतेह बोले कि कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद आगे आकर सीएए के विरोध में इलेक्शन करें. इलेक्शन में तय हो जाएगा अगर व जीत जाते हैं तो सीएए को हटा दें.

वहीं राम मंदिर निर्माण पर बनाए जाने वाले ट्रस्ट पर तारिक फतेह ने कहा कि जिन लोगों ने राम मंदिर निर्माण पर लड़ाई लड़ी है, वह लोग ट्रस्ट में शामिल हों. राम मंदिर की जंग 500 साल की यह जंग थी. एक बाहरी व्यक्ति आया. उसने बिना किसी से पूछे मस्जिद बना दिया. उसे वह जमीन किसने दी? सुप्रीम कोर्ट द्वारा मुस्लिम समाज को 5 एकड़ जमीन देने पर बोले हिंदुस्तान में मस्जिद की कमी है क्या? जहां मस्जिद है, जुम्मे की नमाज भी वहां पर भी हमारे भाई सड़कों पर नमाज अदा कर रहे हैं.रोहिंग्या की सारी लीडरशिप पाकिस्तान में 

उन्होंने कहा कि नमाज पढ़ने के लिए मस्जिद की जरूरत नहीं है. घर बैठे भी नमाज अदा की जा सकती है लेकिन वहां पर मौलवी नहीं होगा. घर पर आप नमाज अदा करते हैं तो जिसकी दुकान लगी है वह कुछ नहीं कर सकता है. वहीं राम मंदिर के भव्य निर्माण के बाद राम जन्मभूमि के दर्शन पर बोलते हुए कहा कि अगर वीजा मिलता है तो जरूर राम मंदिर का दर्शन करूंगा लेकिन वीजा मिलेगा तब. रोहिंग्या मुसलमानों पर तंज करते हुए तारिक फतेह ने कहा कि बिना वीज़ा रोहिंग्या मुसलमान जम्मू तक बैठे हैं. बीच में पटना में भी नहीं रुके. रोहिंग्या की सारी लीडरशिप पाकिस्तान में है. उसका जो टॉप का लीडर है, वह कभी वर्मा नहीं गया. पैदा कराची में हुआ.

पीस पार्टी द्वारा राम मंदिर मामले पर रिब्यू पिटीशन करने पर बोलते हुए कहा कि रिव्यू पिटिशन दाखिल करने से उनकी हिंदी और इंग्लिश ठीक हो जाएगी. उसी बहाने सीएए भी पढ़ लेंगे. जाहिल हैं. अपने धर्म के विरोध में जाएंगे.

ये भी पढ़ें:

आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी से 104 बीघा जमीन वापस लेने की कार्रवाई शुरू

वाराणसी: CAA समर्थन में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने ली ये शपथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अयोध्या से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 5:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर