होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने अयोध्या में सुरक्षा बैरियर हटाने की क्यों रखी मांग? कहा- अब बंद कीजिए तमाशा

सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने अयोध्या में सुरक्षा बैरियर हटाने की क्यों रखी मांग? कहा- अब बंद कीजिए तमाशा

अयोध्या पहुंचे कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने बताया कि अयोध्या के अंदर कुछ तकलीफें हैं, जो बाहर नहीं आ रही हैं.

अयोध्या पहुंचे कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने बताया कि अयोध्या के अंदर कुछ तकलीफें हैं, जो बाहर नहीं आ रही हैं.

Ayodhya News: अयोध्या पहुंचे कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने बताया कि अयोध्या के अंदर कुछ तकलीफें हैं, जो बाहर नहीं आ रही हैं. उन विषयों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने रखा, जिसमें कुछ समस्या पहले ही दूर हो गई और अभी भी अयोध्या में जो अनावश्यक बैरियर लगे हुए हैं. उस पर समीक्षा होनी चाहिए. आने-जाने का प्रतिबंध लगाए गए हैं. वह समाप्त होना चाहिए. जो नए मार्गों को लेकर योजना बनाई जाए, इसमें अयोध्या के लोगों की भागीदारी हो.

अधिक पढ़ें ...

अयोध्या. राम मंदिर की सुरक्षा के नाम पर बंदिशों से जकड़ी अयोध्या को लेकर अब कैसरगंज से भाजपा के सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने सभी बैरियरों को हटाए जाने की मांग की है. अयोध्या के गलियों में लगे बैरियर पर नाराजगी जताते हुए अपनी ही योगी सरकार पर बरसते हुए कहाकि सुरक्षा के नाम पर तमाशा बंद करो, क्योंकि बंदिशों के कारण दुकानदार भूखे ही मर रहे हैं और मंदिरों में भी आरती भोग की समस्या खड़ी हो रही है.

सांसद ने बताया कि अयोध्या के इस समस्या को लेकर मुख्यमंत्री से ही मुलाकात की है और राम जन्मभूमि परिसर की सुरक्षा संसद भवन व राष्ट्रपति भवन के तर्ज पर कराए जाने की सलाह दी है.

अयोध्या के अंदर कुछ तकलीफें हैं: सांसद बृजभूषण शरण सिंह

अयोध्या पहुंचे कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने बताया कि अयोध्या के अंदर कुछ तकलीफें हैं, जो बाहर नहीं आ रही हैं. उन विषयों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने रखा, जिसमें कुछ समस्या पहले ही दूर हो गई और अभी भी अयोध्या में जो अनावश्यक बैरियर लगे हुए हैं. उस पर समीक्षा होनी चाहिए. आने-जाने का प्रतिबंध लगाए गए हैं. वह समाप्त होना चाहिए. जो नए मार्गों को लेकर योजना बनाई जाए, इसमें अयोध्या के लोगों की भागीदारी हो.

अयोध्या में प्रशासन जब चाहे प्रतिबंध लगा दे और जब चाहे हटा दें, क्यों?

सांसद ने कहा कि अयोध्या में प्रशासन जब चाहे प्रतिबंध लगा दे और जब चाहे हटा दें. इसका क्या मतलब है. जैसे कि राम कोट क्षेत्र पूरी तरह सील है। यहां कोई राजा महाराजा नहीं है. मंदिरों की कुछ खेतीबारी है, लेकिन ज्यादा काम जन सहयोग से चलता है और जब मंदिर पर यात्री नही आएंगे तो यहां के मंदिर अपने आप बंद हो जाएंगे. यह नहीं होना चाहिए. प्रमुख रास्तों को छोड़कर कई रास्तों को बंद कर दिया गया है.

बाईपास, नया घाट व अन्य जगहों पर बैरियर का क्या मतलब है. ये किसलिए है, इतनी बड़ी संख्या सिपाहियों को तैनात किया गया है. इसे हटाने से 500 से अधिक सिपाही खाली हो जाएंगे. इससे जनता परेशान अधिकारी परेशान, सिपाही भी परेशान हो रहे हैं.

राम जन्मभूमि परिसर की सुरक्षा भी राष्ट्रपति भवन व संसद भवन के तर्ज पर की जाए

बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि राम जन्मभूमि परिसर की भी सुरक्षा राष्ट्रपति भवन व संसद भवन के तर्ज पर किया जाएगा. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से राष्ट्रपति भवन, पीएम हाउस व संसद भवन की सुरक्षा में आसपास का कोई रास्ता बंद नही किया जाता है. परिसर की सुरक्षा हो लेकिन अगल बगल के कोई रास्ता बंद मत करिए. राम जन्मभूमि परिसर के बगल के मंदिरों को रोजी रोटी बंद मत करिए. बहुत हो गया, अब यह तमा बंद करिए. समीक्षा करें मुख्यमंत्री जी और लोगों के साथ बैठें.

हर गलियों में बैरियर लगाए घूम रहे हैं सभी रास्ते बंद कर दिए और सिर्फ एक रास्ता खोल दिये. इन रास्तों पड़ने वाले दुकानदार भूखों मर रहे हैं. इस क्षेत्र में पड़ने वाले मंदिरों में भी लोग भूखों मर गए और अगर कुछ खेती न होती तो आरती भोग भी बंद हो जाते. सभी रास्ते बंद होने से कहा जाता है भीड़ बढ़ गई.

Tags: Ayodhya News, Ayodhya Security Alert, BJP MP Brijbhushan Sharan Singh

अगली ख़बर