अपना शहर चुनें

States

अयोध्या गैंगरेप पर सियासत तेज, सपा नेता बोले- योगी सरकार में महिलाएं-बच्चियां सुरक्षित नहीं, मिशन शक्ति फेल

पीड़िता ने सपा नेताओं के सामने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाया है.
पीड़िता ने सपा नेताओं के सामने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाया है.

अयोध्या (Ayodhya) में दलित बालिका के साथ गैंगरेप (Gangrape) को लेकर सियासत तेज हो गई है. सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री अवधेश प्रसाद और पूर्व राज्यमंत्री पवन पांडे नेता आज पीड़िता के गांव थाना महाराजगंज क्षेत्र के नारे गांव पहुंचे और योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा.

  • Share this:
अयोध्या. उत्‍तर प्रदेश के अयोध्या (Ayodhya) में दलित बालिका के साथ गैंगरेप (Gangrape)मामले में नया मोड़ आ गया है. पीड़िता ने जनपद के थाना महाराजगंज पुलिस (Maharajganj Police Station ) के 2 महिला कर्मचारियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि दो महिला कर्मचारियों ने उसकी जूतों और बेल्ट से पिटाई की है. साथ ही पीड़िता का आरोप है कि उस पर बयान बदलने का दबाव बनाया गया, लेकिन उसने वही बताया जो सच था. वहीं, इस पूरे मामले को समाजवादी पार्टी ( Samajwadi Party) ने राजनीतिक मुद्दा बना लिया है.

सपा के नेता पहुंचे पीड़िता के घर
सपा नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री अवधेश प्रसाद और पूर्व राज्यमंत्री पवन पांडे नेता अपने कार्यकर्ताओं के साथ पीड़िता के गांव थाना महाराजगंज क्षेत्र के नारे गांव पहुंचे.इस दौरान उन्‍होंने पीड़िता के परिजनों के साथ बातचीत करने के बाद प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है. पूर्व राज्यमंत्री पवन पांडे ने कहा कि थाना महाराजगंज की महिला पुलिस कर्मचारियों ने बयान बदलवाने के लिए पीड़िता बच्ची की पिटाई की. साथ ही कहा कि एक तरफ प्रदेश सरकार मिशन शक्ति चला रही है तो दूसरी तरफ प्रदेश में महिलाएं व बच्चियां सुरक्षित नहीं है. सरकार का नारा बेटी पढ़ाओ-बेटी बढ़ाओ का कोई मतलब नहीं है. प्रदेश में अराजकता का माहौल है और आए दिन महिलाओं व बच्चियों के साथ हैवानियत हो रही है.


ये है पूरा मामला


दरअसल, 2 दिन पूर्व थाना महाराजगंज के नारे गांव में शौच के लिए गई एक दलित बालिका के साथ गांव के ही 2 दबंगों ने रेप किया और फरार हो गए. बालिका जब घर पहुंची तो सारा वाकया उसने अपने परिजनों को बताया जिसके बाद परिजनों ने पुलिस से शिकायत की. पुलिस ने मामले को दर्ज करते हुए दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन पीड़ित बच्ची ने दो महिला पुलिस कर्मचारियों पर पिटाई का आरोप लगाया है. इसके अलावा पीड़िता ने बताया कि उसके कपड़े उतारने के लिए भी कहा गया लेकिन उसने कपड़े नहीं उतारे जिसके बाद उसकी फिर पिटाई की गई. जबकि पीड़िता के आरोपों को महाराजगंज थाने की पुलिस ने बेबुनियाद बताया है. (रिपोर्ट- कृष्‍णा शुक्‍ला)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज