होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /अयोध्या: सीएम योगी आदित्यनाथ की मूर्ति वाले मंदिर पर चल सकता है बुलडोजर, अवैध कब्जे का आरोप, जांच शुरू

अयोध्या: सीएम योगी आदित्यनाथ की मूर्ति वाले मंदिर पर चल सकता है बुलडोजर, अवैध कब्जे का आरोप, जांच शुरू

उत्तर प्रदेश में रामनगरी के नाम से प्रसिद्ध अयोध्या में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मूर्ति वाला मंदिर इन दिनों खूब चर ...अधिक पढ़ें

सर्वेश श्रीवास्तव/अयोध्या. उत्तर प्रदेश के अयोध्या में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मूर्ति वाले मंदिर पर बुलडोजर चल सकता है. राम नगरी में भगवान राम के जन्म स्थली के बाद सबसे ज्यादा सुर्खियों में अगर कोई मामला है तो वह है अयोध्या के कल्याण भदरसा मजरे मौर्या का पुरवा में निर्मित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मंदिर. दरअसल एक युवक द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मंदिर बनाया गया है. जिसमें सीएम योगी की मूर्ति बनवाकर पूजा-आरती भी शुरू हो गई थी.

मंदिर पर चढ़ावा और पूजा-अर्चना की खबरें जैसे ही मीडिया की सुर्खियां बनी मंदिर को लेकर एक नया विवाद सामने आ गया. मंदिर निर्माण करने वाले युवक के चाचा ने युवक पर सरकारी जमीन को हड़पने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करा दी है. इसके बाद से चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है कि योगी के मंदिर पर बुलडोजर चल सकता है.

जानिए क्या है पूरा मामला?
दरअसल श्रीराम जन्मभूमि से करीब 25 किलोमीटर दूर प्रयागराज हाईवे पर भरत कुंड के पास कल्याण भदरसा गांव के मौर्या का पुरवा में प्रभाकर मौर्य नाम के एक व्यक्ति ने योगी आदित्यनाथ का मंदिर बनवाकर पूजा अर्चना शुरू कर दिया था. जिसे बाद प्रभाकर मौर्य के चाचा ने आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करा दी कि, प्रभाकर द्वारा ग्राम समाज की बंजर जमीन पर कब्जा करने और पुलिस प्रशासन को गुमराह करने के कारण सीएम योगी की मूर्ति स्थापित की गई है.

आपके शहर से (लखनऊ)

आरोपी मंदिर पर ताला लगाकर फरार
आरोपी प्रभाकर मौर्य के चाचा ने जैसे ही सरकारी भूमि पर कब्जा करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई. प्रभाकर मंदिर के गेट पर ताला लगाकर फरार हो गया है. वहीं एसडीएम सोहावल ने पूरे मामले को लेकर जांच पड़ताल शुरू करवा दी है. बताया जा रहा है कि रिपोर्ट आने के बाद मामले में बड़ी कार्रवाई की जा सकती है. जमीन पर अवैध रूप से कब्जा मिलने पर उसे तोड़ा भी जा सकता है.

Tags: Ayodhya News, CM Yogi Adityanath, Uttar pradesh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें