SC के फैसले से पहले अयोध्या में भव्य दीपोत्सव मनाने की तैयारी, दीपों की लौ में होंगे भगवान राम के दर्शन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, अयोध्या सात मोक्ष दायिनी पुरियों में से एक है और इनमें से पहले स्थान पर आता है. योगी ने कहा कि भारत आस्था का देश है और आस्था का नंबर एक प्रतीक (नगर) है अयोध्या (Ayodhya). अयोध्या को पहचान दिलाना है, वहां सुविधाएं विकसित करना है.

  • Share this:
    अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में राम जन्मभूमि मामले की सुनवाई अब समाप्ति की ओर है. वहीं कोर्ट के फैसले से पहले योगी सरकार रामनगरी अयोध्या में भव्य दीपोत्सव की तैयारी में जुटी हुई है. इस बार दीपोत्सव में दीपों की लौ में भगवान श्री राम के दर्शन कराने की योजना है. सबसे खास बात है कि इस बार अयोध्या के 16 घाटों पर दीयों के माध्यम से पूरी अयोध्या के दर्शन हो जाएंगें. वहीं दीपों के जलने के बाद जब ऊंचाई से उन्हें देखा जाएगा तो उसमें भगवान राम की आकृति दिखेगी.

    भगवान राम के होंगे दर्शन

    इसके लिए अवध विश्वविद्यालय का दृश्य कला विभाग खास तैयारी कर रहा है. इसलिए इस बार दीपों को सीधा ना लगाकर ग्राफिक्स के माध्यम से घाटों पर सजाया जाएगा. इन्हीं ग्राफिक्स को देखने पर भगवान श्री राम, सीता और हनुमान समेत अयोध्या के प्रमुख दर्शनीय स्थलों की आकृतियों को घाटों पर ही देखा जा सकेगा.

    26 अक्टूबर को होगा दीपोत्सव का आयोजन

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने न्यूज18 से खास बातचीत में कहा कि हमारी सरकार व्यापक कार्य योजना को लेकर कार्य कर रही है. दीपोत्सव का कार्यक्रम 26 अक्टूबर को है. हमने लक्ष्य तय किया है. वहां सभी घाटों, मंदिर, घरों और हर घर में दीपोत्सव का आयोजन हो और दीपावली के भव्य आयोजन के साथ हम अयोध्या को एक बार फिर विश्व पटल पर संदेश दिया जा सके.

    अयोध्या में पर्यटन को बढ़ावा 

    उन्होंने कहा इसकी तैयारी हम अयोध्या में कर रहे हैं. वहीं, भगवान राम की लगने वाली मूर्ति पर बोलते हुए सीएम योगी ने कहा, काफी चीजें अयोध्या के विकास के लिए हो रही है. उसके बेहतर परिणाम सामने आएंगे.' उल्लेखनीय है इस समय अयोध्या में पर्यटन की कई योजनाएं चल रही है.

    अयोध्या को पहचान दिलाना हमारी टॉप प्राथमिकता

    News18 को दिए विशेष इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, अयोध्या सात मोक्ष दायिनी पुरियों में से एक है और इनमें से पहले स्थान पर आता है. योगी ने कहा कि भारत आस्था का देश है और आस्था का नंबर एक प्रतीक (नगर) है अयोध्या (Ayodhya). अयोध्या को पहचान दिलाना है, वहां सुविधाएं विकसित करना है, इसलिए अयोध्या हमारी टॉप प्राथमिकता में है.

    पिछली बार बनाया था रिकॉर्ड

    बता दे कि पिछली बार विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक साथ सर्वाधिक दीप जलाकर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान बनाया था. इसी क्रम में योगी सरकार अयोध्या की दीपावली को इस बार पूरी तरह से भव्य बनाने में जुटी हुई है.

    ये भी पढ़ें:

    अयोध्या: दीपोत्सव के लिए विश्व हिंदू परिषद को नहीं मिली अनुमति

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.