अंटार्कटिका पर्यावरण असंतुलन पर रिसर्च कर लौटी श्रुति का हुआ सम्मान

भारतीय अनुसंधान विभाग द्वारा इंटरनेशनल अंटार्कटिक एक्सपेंडिशन के तहत जलवायु परिवर्तन पर गठित 90 सदस्यीय टीम का गठन किया गया था. इस शोध में उत्तर प्रदेश से मात्र दो लोगों का चयन हुआ था. इसमें आजमगढ़ जिले की श्रुति भार्गव चयनित थीं

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 9:05 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 24, 2018, 9:05 PM IST
अंटार्कटिका में हो रहे पर्यावरण असंतुलन के प्रभाव का अध्ययन करने गई 90 सदस्यों की टीम में आजमगढ़ जनपद की बेटी श्रुति भार्गव का भी चयन हुआ था. अब अध्ययन के बाद घर लौटी श्रुति भार्गव का सम्मान नारी शक्ति संस्थान ने किया. इस दौरान उपस्थित लोगों ने श्रुति को देश के लिए.

बता दें कि भारतीय अनुसंधान विभाग द्वारा इंटरनेशनल अंटार्कटिक एक्सपेंडिशन के तहत जलवायु परिवर्तन पर गठित 90 सदस्यीय टीम का गठन किया गया था. इस शोध में उत्तर प्रदेश से मात्र दो लोगों का चयन हुआ था. इसमें आजमगढ़ जिले की श्रुति भार्गव चयनित थीं. इस दल का कार्य यह था कि अंटार्कटिका पर पड़ने वाले जलवायु परिवर्तन का अध्ययन करना. इसमें दल को वहां दो सप्ताह तक रहकर अध्ययन करना था.

'हमारे राजीव' चित्र प्रदर्शनी से अमेठी किले को मजबूत करने में जुटी टीम राहुल

स्वागत के दौरान सुश्री भार्गव ने बताया कि वहां शोध के बाद पूरी टीम ने पाया कि जलवायु परिवर्तन की वजह से 10 गुना तेजी से अंटार्कटिक में बर्फ पिघल रही है. इससे आने वाले समय में बहुत जल्द ही समुद्र के तटीय देश डूब जाएंगे. इससे बचने के लिए हम लोगों को पर्यावरण के प्रति काफी संजीदा होना होगा और पर्यावरण को बचाने के लिए उसके संरक्षण में ठोस कदम उठाये जाने की आवश्यकता है.

बिजनौर: गंगा नदी में नाव पलटने से एक महिला की मौत, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर