अपना शहर चुनें

States

अजीत सिंह हत्याकांड : इनामी शूटर को ब्लॉक प्रमुख और गैंगस्टर ने दी थी आजमगढ़ में पनाह

पुलिस मामले की जांच कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर)
पुलिस मामले की जांच कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

पुलिस के मुताबिक, जिला जेल आजमगढ़ में बंद माफिया कुंटू सिंह और अखंड सिंह ने हत्या की साजिश रची थी और कुख्यात शूटर गिरधारी विश्वकर्मा को दो लोगों ने करीब तीन दिन पूर्व आजमगढ़ में पनाह दी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2021, 8:29 PM IST
  • Share this:
आजमगढ़ : लखनऊ (Lucknow) में अजीत सिंह हत्याकांड (Ajit Singh massacre) के मामले में छानबीन के दौरान पुलिस (Police) को अहम सुराग (Key clue) हाथ लगे हैं. अजीत सिंह की हत्या का ताना-बाना आजमगढ़ (Azamgarh) जिले में ही बुना गया था. इसके लिए जहां जिला जेल आजमगढ़ में बंद माफिया कुंटू सिंह और अखंड सिंह ने हत्या की साजिश रची थी, वहीं कुख्यात शूटर और एक लाख के इनामी गिरधारी विश्वकर्मा को जिले के ही एक सफेदपोश और अखंड के करीबी ने ही करीब तीन दिन पूर्व जिले में पनाह दी थी.

पुलिस जांच का दायरा बढ़ा

लखनऊ में पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, करीब तीन दिन पूर्व कुख्यात शूटर और एक लाख का इनामी गिरधारी आजमगढ़ पहुंचा था. यहीं अजीत सिंह की हत्या की साजिश रची गई थी. शूटर गिरधारी विश्वकर्मा को आजमगढ़ जिले में अखंड सिंह के एक करीबी और जिले के एक ब्लॉक प्रमुख ने शरण दिया और अजीत की हत्या से दो दिनों पूर्व शूटरों को इन्हीं के माध्यम से लखनऊ भेजा गया. इसका सुराग मिलने के बाद पुलिस की टीमों ने अपनी जांच का दायरा बढ़ा दिया है. माना जा रहा है कि जल्द ही पुलिस कुछ बड़े नामों का खुलासा करेगी.



बड़ा सवाल तो यह भी है
लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि आजमगढ़ जेल में बंद धु्रव कुमार सिंह उर्फ कुंटू सिंह और अखंड प्रताप सिंह से शूटर गिरधारी ने कैसे सम्पर्क साधा. जबकि कोरोना काल में जेल में मिलने पर लोगों से प्रतिबंध है. यदि मोबाइल से सम्पर्क साधा गया तो यह साफ है कि जेल में जैमर लगने के बाद अपराधियों ने शूटर से सम्बन्ध साधा होगा. फिलहाल पुलिस पूरी घटना की छानबीन कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज