आजमगढ़ डबल मर्डर: हत्यारोपी और इंस्पेक्टर के बीच साठगांठ का WhatsApp चैट वायरल, महकमे में हड़कंप

असमर  को अपनी जान का खतरा था. इसके लिए उसने थाने से लेकर पुलिस अधीक्षक तक प्रार्थना पत्र देकर अपनी जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई थी. (सांकेतिक फोटो)
असमर को अपनी जान का खतरा था. इसके लिए उसने थाने से लेकर पुलिस अधीक्षक तक प्रार्थना पत्र देकर अपनी जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई थी. (सांकेतिक फोटो)

निजामाबाद थाना (Nizamabad Police Station) क्षेत्र के चकिया हुसैनाबाद गांव में सोमवार को चाकू मारकर तीन युवकों को घायल कर दिया गया था.

  • Share this:
आजमगढ़. आजमगढ़ जिले (Azamgarh District) में दो दिन पूर्व चाकूबाजी में हुए दोहरे हत्याकांड (Double Murder)  में पुलिस और अपराधियों के गठजोड़ का नया खुलासा हुआ है. आरोपी आरिफ उर्फ मुन्ना और निजामाबाद थाने के इंस्पेक्टर का वाट्सएप चैट (Whatsapp Chat) भी वायरल हुआ है. इस चैट में मारे गये असमर का जिक्र है. यही नहीं चैट में असमर (Asmar) के वाहन और उसका मोबाइल नम्बर और रुपये के लेन-देन का भी जिक्र है. मृतक असमर ने ही थाने से लेकर एसपी तक को प्रार्थन पत्र देकर अपनी जान को खतरा बताया था. थाना प्रभारी और आरोपी का वाट्सएप चैट वायरल होने के बाद पुलिस अधिकारियों में खलबली मची हुई है.

दरअसल, निजामाबाद थाना (Nizamabad Police Station) क्षेत्र के चकिया हुसैनाबाद गांव में सोमवार को चाकू मारकर तीन युवकों को घायल कर दिया गया था, जिसमें से दो युवक असमर और काजिम की मौत हो गयी थी. जबकि मुसीर नामक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था.  उसे उपचार के लिए वाराणसी में भर्ती कराया गया है. इस घटना में परिजनों ने सात लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया था, जिसमें आरिफ उर्फ मुन्ना और उसका पुत्र वासिफ भी आरोपी है. आरिफ उर्फ मुन्ना को कुछ दिनों पूर्व रेलवे टिकट के अवैध कारोबार में पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. बताया जा रहा है कि मृतक असमर लखनऊ में रहता था, जिसे आये दिन आरिफ उर्फ मुन्ना और उसका पुत्र वासिफ धमकी देते रहते थे.

कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है
असमर को अपनी जान का खतरा था. इसके लिए उसने थाने से लेकर पुलिस अधीक्षक तक प्रार्थना पत्र देकर अपनी जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई थी, लेकिन ने पुलिस ने उसकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिया. जबकि इससे पहले भी असमर के उपर जानलेवा हमला हो चुका था. इसी बीच बुधवार की रात को सोशल मीडिया पर निजामाबाद थाने के इंस्पेक्टर अनवर अली खां का एक वाट्सएप चैट वायरल हुआ. इस चैट में थाना प्रभारी और आरोपी आरिफ उर्फ मुन्ना के बीच मृतक असमर के बारे में चर्चा की गयी है. चैट में आरोपी ने थाना प्रभारी को मृतक असमर के वाहन और मोबाइल नम्बर का भी जिक्र है. यही नहीं चैट में रुपये के लेने देन का भी जिक्र किया गया है. चैट वायल होने के बाद से ही पुलिस विभाग में खलबली मची हुई है और कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज