आजमगढ़: दुकानदार से पहले पूछा कि प्रधानी चुनाव लड़ रहे हो, हां कहते ही मार दी गोली

गोली लगने के बाद अस्पताल में भर्ती शिवआसरे यादव.
गोली लगने के बाद अस्पताल में भर्ती शिवआसरे यादव.

शिवआसरे (Shivaasare) ने बदमाशों को रोकने लिए दुकान के अंदर पड़े ईंट-पत्थर इत्यादि फेंकने लगा. बदमाशों के भागने के बाद लोग शिवआसरे को लेकर मंडलीय अस्पताल भागे.

  • Share this:
आजमगढ़. आगामी पंचायत चुनाव (Panchayat Election) की सुगबुगाहट तेज होते ही प्रत्याशियों की हत्या और उनके ऊपर जानलेवा हमले शुरू हो गए हैं. ताजा मामला आजमगढ़ (Azamgarh) जिले के अहरौला थाना क्षेत्र का है, जहां देर शाम बाइक सवार बदमाशों ने एक मिठाई दुकानदार व ग्राम प्रधान प्रत्यशी को गोली मार दी. पैर में गोलियां लगने के बावजूद दुकानदार ने बदमाशों से संघर्ष किया. इसके बाद हवाई फायर करते हुए बदमाश मौके से फरार हो गए. जिसके बाद घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए उसे हायर सेंटर (Higher Cnter) रेफर कर दिया गया. घटना के पीछे ग्राम प्रधान के चुनाव का मामला निकल कर सामने आया है. बताया जा रहा है कि दुकान पर पहुंचते ही बदमाशनों ने पहले सवाल किया कि चुनाव लड़ोगे क्या और उसके बाद गोलियां चला (Opened Fire) दीं. फ़िलहाल मौके पर पहुंची पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गयी है.

जानकारी के मुताबिक, अहरौला थाना क्षेत्र के गजरौला भेदौरा गांव निवासी शिवआसरे यादव (39) पुत्र रामपत की गोपालगंज बाजार में मिठाई की दुकान है. शिवआसरे ग्राम प्रधानी का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. रात में करीब साढ़े आठ बजे वह दुकान पर बैठकर किशुनदेवपुर के ग्राम प्रधान लालमन यादव से बातचीत कर रहे थे. उसी दौरान एक बाइक से तीन युवक दुकान पर अचानक आ धमके. शिवआसरे उन्हें ग्राहक समझकर मुखातिब हुआ तो एक बदमाश ने सवाल किया कि ग्राम प्रधानी का चुनाव लड़ोगे. वह कुछ समझ पाते कि एक बदमाश ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. वह दुकान में अंदर की ओर भागे लेकिन उनके दाहिने पैर में दो गोली लगने से लहूलुहान होकर वही गिर पड़े. गोलियों की आवाज सुन पास-पड़ोस के दुकानदार, राहगीर जहां थे वहीं छिप गए.

दुकान के अंदर पड़े ईंट-पत्थर फेंकने लगा
शिवआसरे ने बदमाशों को रोकने लिए दुकान के अंदर पड़े ईंट-पत्थर इत्यादि फेंकने लगा. बदमाशों के भागने के बाद लोग शिवआसरे को लेकर मंडलीय अस्पताल भागे, जहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए उसे  हायर सेंटर रेफर कर दिया गया. वहीं, इस मामले में परिजनों ने बताया कि करवा चौथ के दिन विपक्षियों ने शिवआसरे का चुनावी पोस्टर को फाड़ दिया था. उसे चुनाव न लड़ने की धमकी भी दी गई थी. ग्राम प्रधानी के चुनाव की आहट मिलने के साथ ही खून-खराब शुरू हो गया है. पुलिस ने बीट पुलिसिंग के बल पर अंकुश का दम भरी थी, लेकिन जमीन पर कुछ और ही दिखाई दे रहा है. एसपीआरए सिद्धार्थ ने बताया कि गोली चलने की सूचना मिली है. फिलहाल अभी यह स्पष्ट नहीं है कि गोली किसने व क्यों मारी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज