आजमगढ़: नरबलि के लिए हुआ था मासूम रितिक का अपहरण, पुलिस ने बचाया

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए संदिग्ध ठिकानों पर दबिश दी जा रही है. पुलिस ने आधार कार्ड के आधार पर आरोपी की पहचान की.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 20, 2019, 4:16 PM IST
आजमगढ़: नरबलि के लिए हुआ था मासूम रितिक का अपहरण, पुलिस ने बचाया
मां की गोद में रितिक
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 20, 2019, 4:16 PM IST
आजमगढ़ जिले के महराजगंज के हनुमान चौक से 17 जून को मासूम रितिक का अपहरण नरबलि देने के लिए किया गया था. इसका खुलासा पुलिस ने बच्चे के सही-सलामत बरामदगी के बाद किया. पुलिस के मुताबिक, आरोपी महिला बच्चे का अपहरण कर उसे कप्तानगंज थाने के पिपरिया गांव निवासी एक परिचित के घर छोड़कर फरार हो गई थी. फिलहाल पुलिस ने बच्चे को बरामद कर लिया है और आरोपियों की तलाश में संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी कर रही है.

दरअसल, महराजगंज थाना क्षेत्र के देवारा कदीम महरूमपुर गांव निवासी सोनी देवी 17 जून की शाम को अपने दो साल के बेटे रितिक के साथ कहीं से आ रही थीं. वह महराजगंज कस्बे के हनुमान चौक पर ऑटोरिक्शा से नीचे उतरीं और मोबाइल पर किसी से बात करने लगीं. उनका बेटा बगल में खड़ा था. इतने में ऑटो में बैठी एक महिला और पुरुष बच्चे को लेकर फरार हो गए.

आधार कार्ड से हुई शिनाख्त



घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गई. जांच के दौरान ऑटोरिक्शा में एक पर्स गिरा पड़ा मिला, जिसमें आधार कार्ड सहित अन्य पेपर थे. आधार कार्ड के जरिए पहचान हुई कि महिला महराजगंज थाने के सनपुर गांव निवासी निशा देवी है. पुलिस ने निशा के घर पहुंचकर पूछताछ की तो पता चला कि निशा के कोई बेटा नहीं है. निशा महराजगंज थाने के सहदेवगंज निवासी छिनक यादव के साथ गोरखपुर जिले के बरदुवारी के रहने वाले एक सोखा (तांत्रिक) के यहां झाड़-फूंक के लिए अक्सर जाती थी, जिसके बाद पुलिस सर्विलांस की मदद से छिनक यादव का लोकेशन ट्रेस की तो पता चला कि वह समस्तीपुर (बिहार) में है. साथ ही पता चला कि निशा और छिनक यादव ने रितिक की बलि देने के लिए उसे अगवा किया हैं.

समस्तीपुर में मिली लोकेशन

लोकेशन मिलने पर पुलिस टीम बिहार पहुंची तो पता चला कि दोनों आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए हैं. हालांकि, समस्तीपुर जिले की पुलिस को दोनों ने बताया था कि बच्चा कप्तानगंज थाने के पिपरिया गांव निवासी एक व्यक्ति के यहां रखा हुआ हैं. ऐसे में पुलिस पिपरिया गांव पहुंची और बच्चे को बरामद कर लिया.
Loading...

फिलहाल फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए संदिग्ध ठिकानों पर दबिश दी जा रही है. एसपी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि दो वर्षीय बालक रितिक के अपहरण की सूचना मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई थी, जिसका परिणाम रहा हमारी पुलिस किसी प्रकार की अनहोनी होने से पहले ही बच्चे को बरामद कर लिया आरोपियों की तलाश की जा रही है.

(रिपोर्ट: अभिषेक उपाध्याय)

ये भी पढ़ें:

खुशखबरी: अब बुलेट ट्रेन से 2 घंटे 40 मिनट में वाराणसी से दिल्ली वाया लखनऊ

सावधान! भीम, पेटीएम व गूगल पे भी नहीं रहा सुरक्षित, इस तरह सेंधमारी कर रहे ठग

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आजमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 2:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...