COVID-19: सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं, आजमगढ़ एसपी ने जारी किए ये निर्देश
Azamgarh News in Hindi

COVID-19: सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं, आजमगढ़ एसपी ने जारी किए ये निर्देश
आजमगढ़ एसपी प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह

एसपी प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह (SP Triveni Singh) ने शहर में सोशल मीडिया (Social Media) पर लगाम लगाने के लिए कमर कस ली है. जिसके चलते आजमगढ़ पुलिस (Azamgarh {Police) ने निर्देश सोशल मीडिया से जुड़े कुछ निर्देश जारी किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2020, 7:36 PM IST
  • Share this:
आज़मगढ़. कोरोनावायरस (Coronavirus) के कहर के बीच साइबर अपराधियों (Cyber Crimes) ने लोगों की जेब पर डाका डालने के लिए अपना जाल फैलाना शुरू कर दिया है. पुलिस प्रशासन को डर है कि साइबर अपराधी फर्जी वेबसाइट अथवा एप के जरिए लोगों से ठगी कर रहे है. एसपी प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह ने ऐसे अपराधियों पर लगाम कसने के लिए टीम गठित कर दी है. इसके साथ ही उन्होंने सभी थानों से रिपोर्ट तलब करने के साथ ही ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया है. वहीं एसपी ने शहर में सोशल मीडिया पर भी लगाम लगाने के लिए कमर कस ली है. जिसके चलते आजमगढ़ पुलिस ने निर्देश सोशल मीडिया से जुड़े कुछ निर्देश जारी किए हैं.

कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान सोशल मीडिया और मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर कोरोना को लेकर अफवाह, फर्जी समाचार, गलत सूचना और आपत्तिजनक व भड़काऊ सन्देश प्रसारित किये जा रहे हैं. ऐसे संदेशों के लिए आजमगढ़ पुलिस द्वारा यूजर और एडमिन के लिए निर्देश जारी किए गए हैं. जिसमें भड़काऊ मैसेज भेजने वाले सदस्य और ग्रुप एडमिन दोनों पर कार्रवाई की जाएगी.





छिपे हुए लोगों की जानकारी देने पर मिलेगा ईनाम
इसके अलावा दिल्ली में तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने के बाद जिले में पहुंचे प्रतिनिधियों के लापता हो जाने पर उन्हें ढूंढने के लिए पुलिस ने इन लोगों की जानकारी देने पर इनाम देने की घोषणा की है. पुलिस ने अब तक विभिन्न मदरसों, मस्जिदों और घरों में छिपे 33 जमात कार्यकर्ताओं का पता लगाकर उनकी जांच कराई और उन्हें क्वारेंटाइन में रहने को भेज दिया है. इस बीच पुलिस को पुख्ता जानकारी मिली कि अब भी अधिकांश प्रतिनिधि मस्जिदों, मदरसों और घरों में छिपे बैठे हैं. इसके बाद पुलिस ने इन कार्यकर्ताओं की जानकारी देने पर शुक्रवार को इनाम की घोषणा की.

26 स्थानों को विशेष क्षेत्र घोषित कर घर-घर स्क्रीनिंग का कार्य
पुलिस अधीक्षक ने इन लोगों के बारे में जानकारी देने वालों को 5 हजार रुपए इनाम की घोषणा की. वहीं जिलाधिकारी ने एहतियातन जिले के 26 स्थानों को विशेष क्षेत्र घोषित कर घर-घर स्क्रीनिंग का कार्य कराना शुरू कर दिया है. इसमें खास तौर से करीब दो महीने तक घर के प्रत्येक सदस्य के यात्रा विवरण, सर्दी, खांसी, जुकाम के साथ ही परिवार के बुजुर्ग सदस्यों का ब्योरा दर्ज किया जाएगा.

सूचना देने वालों का नाम-पता गुप्त रखा जाएगा
पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने कहा कि जमात के कई कार्यकर्ता अब भी छिप रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों से अपील की गई है कि अगर आप अब भी सामने आ जाते है तो आपके खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी. लेकिन अगर इसकी जानकारी किसी अन्य माध्यम से मिलती है, तब किसी को बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी. सिंह ने यह भी बताया कि सूचना देने वालों को 5 हजार रुपए का इनाम भी दिया जाएगा और उनका नाम-पता गुप्त रखा जाएगा.

यह भी पढ़ें - 

अरविंद केजरीवाल बोले, PM नरेंद्र मोदी का लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला सही 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज