अगर अखिलेश PM उम्मीदवार होते तो मैं उनका समर्थन करता: निरहुआ
Azamgarh News in Hindi

अगर अखिलेश PM उम्मीदवार होते तो मैं उनका समर्थन करता: निरहुआ
सपा प्रमुख अखिलेश यादव और दिनेश लाल यादव 'निरहुआ'

अभिनेता से राजनेता बने निरहुआ ने यह स्वीकार किया कि इस चुनाव में राष्ट्रवाद सबसे बड़ा मुद्दा है. सपा पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी राष्ट्रवाद के खिलाफ थी और उसने तुष्टिकरण की राजनीति की.

  • Share this:
भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार और आजमगढ़ संसदीय सीट से बीजेपी उम्मीदवार दिनेश लाल यादव उर्फ ‘निरहुआ’ ने बड़ा बयान दिया है. दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ का कहना है, ‘अगर मुलायम सिंह यादव या अखिलेश यादव पीएम पद की दौड़ में होते तो वह उनका समर्थन करते. भोजपुरी अभिनेता ने कहा है कि अगर वह एसपी के उम्मीदवार होते तो प्रधानमंत्री पद के लिए समाजवादी पार्टी के प्रमुख संरक्षक मुलायम सिंह यादव का समर्थन करते.

सपा ने यादवों की ‘राष्ट्रविरोधी’ छवि बनाई है

पीटीआई को दिए एक साक्षात्कार में दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ ने आरोप लगाया, ‘अखिलेश यादव और सपा ने यादवों की ‘राष्ट्रविरोधी’ छवि बनाई है. अगर मुलायम सिंह यादव प्रधानमंत्री पद के दौड़ में रहते, तो मैंने उनका समर्थन किया होता. अगर अखिलेश को प्रधानमंत्री बनना होता तो भी मैं उनका समर्थन करता. लेकिन वह (अखिलेश) दौड़ में नहीं हैं. वह एक ऐसे व्यक्ति (राहुल गांधी) को प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं, जो कहते हैं कि अगर उनकी पार्टी (कांग्रेस) सत्ता में आती है, तो वह सीमाओं से सैनिकों को हटा लेगी और देशद्रोह कानून को खत्म कर देगी.



अभिनेता से राजनेता बने निरहुआ ने यह स्वीकार किया कि इस चुनाव में राष्ट्रवाद सबसे बड़ा मुद्दा है. सपा पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी राष्ट्रवाद के खिलाफ थी और उसने तुष्टिकरण की राजनीति की.
ये भी पढ़ें: तेजस्वी यादव के हेलिकॉप्टर में नहीं मिली तेजप्रताप को जगह

अखिलेश यादव से सवाल पूछते हुए निरहुआ ने कहा, ‘अखिलेश आपको यादवों का नेता करार दिया जाता है. आप यादवों की पहचान बन गए हैं, तो आप अपनी पहचान क्यों छोड़ रहे हैं? एक ईमानदार व्यक्ति (मोदी) को रोकने के लिए आपने (बीएसपी, आरएलडी के साथ) गठबंधन क्यों किया?’

सपा प्रमुख अखिलेश यादव


बीजेपी उम्मीदवार ने कहा कि आजमगढ़ में अब अखिलेश यादव के राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं, उन्होंने दावा किया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम और योजनाएं उत्तर प्रदेश में सभी लोगों के घर तक पहुंच गई हैं. बकौल निरहुआ, ‘लोगों ने पहले ही अपना मन बना लिया है. जाति और वंश की राजनीति को समाप्त करने के लिए यहां आए हैं.’

क्या हार की स्थिति में दिनेश लाल यादव सक्रिय राजनीति या बीजेपी से दूरी बनाएंगे? इस पर उन्होंने कहा, ‘अगर वह हार भी जाते हैं तो वे राजनीति या बीजेपी नहीं छोड़ेंगे और अगर जीतते हैं तो अपनी अधिकांश फिल्मों की शूटिंग अपने निर्वाचन क्षेत्र में ही करेंगे.’

बता दें कि लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 12 मई को आजमगढ़ में  को वोट डाला जाएगा. जानकारों का मानना है कि निरहुआ यादव समाज से आते हैं, इसलिए अखिलेश और मुलायम सिंह यादव के परंपरागत वोटबैंक पर बयान देकर वह यादव वोटरों में अपनी पैठ बनाना चाह रहे हैं.

ये भी पढ़ें: प्रचार में साथ ना ले जाने पर भावुक हुए तेज प्रताप, बोले- कृष्ण को भूल गया अर्जुन

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज