आजमगढ़: पराली जलाने पर प्रशासनिक कार्रवाई से नाराज किसानों ने दी आंदोलन की धमकी

जिले में अबतक पराली जलाने के 15 मामले सामने आए हैं.(File Photo)
जिले में अबतक पराली जलाने के 15 मामले सामने आए हैं.(File Photo)

किसानों (Farmers) का कहना है कि यदि वे पराली (Straw) नहीं जला सकते, तो सरकार हर तहसील में अपनी मशीन लगवाकर पराली को काटकर चारे के रूप में इस्तेमाल करे. जैसा कि अन्य प्रदेशों की सरकारें कर रही हैं.

  • Share this:
आजमगढ़. पर्यावरण और खेतों की उर्वरक क्षमता को नष्ट होने से बचाने के लिए न्यायपालिका, सरकार सहित अन्य एजेंसियां प्रयास में जुटी हैं. यही कारण है कि खेतों में पराली (Straw) नहीं जलाने की सख्त हिदायत दी गयी है. बावजूद इसके आजमगढ़ में किसान (Farmers) पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे. आजमगढ़ जिले में खेतों में पराली जलाने के अबतक 15 मामले सामने आये हैं, जिन पर प्रशासन ने 11 के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के साथ-साथ वसूली की कार्रवाई में भी जुट गयी है.

जिला प्रशासन पराली जलाने वालों पर जुर्माना के साथ-साथ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई कर रहा है. पराली न जलाने के लिए जिला प्रशासन प्रचार- प्रसार भी करा रहा है. जिला प्रशासन ने किसानों को जागरूक करने के चार प्रचार वाहनों को लगाया है, जो हर तहसील और ब्लाक में जाकर किसानों को जागरूक कर रहे हैं.

पहली बार में जुर्माना, दूसरी बार में जेल  



इस मामले में एडीएम वित्त एवं राजस्व गुरू प्रसाद ने कहा कि खेत में पहली बार पराली जलाने पर ढ़ाई हजार से 15 हजार रुपए तक जुर्माना भरना होगा. दूसरी बार जलाने पर किसानों को जेल भी जाना पड़ेगा. किसानों में जागरुकता के लिए प्रचार वाहनों के जरिए ग्राम पंचायतों में फसल अवशेष प्रबंधन व पराली जलाने पर दंड के प्रावधान और फसल अवशेष प्रबंधन पर एनजीटी के गाइड लाइन से किसानों को जागरूक किया जा रहा है. वहीं जिले के किसान पराली जलाने पर एफआईआर व वसूली की कार्रवाई को लेकर सरकार के खिलाफ नजर आ रहे हैं.


किसानों की सरकार से ये मांग

किसान चन्द्रजीत ने बताया कि यदि किसान पराली नहीं जला सकते तो सरकार हर तहसीलों में अपनी मशीन लगवाकर पराली को काटकर चारे के रूप में इस्तेमाल करे. जैसा कि अन्य प्रदेशों की सरकारें कर रही हैं. इससे सड़कों पर घूम रहे आवारा पशुओं को भी चारा भी मिल जाएगा. उन्होंने कहा कि यदि किसानों पर मुकदमा दर्ज किया जायेगा, तो किसाना सरकार के खिलाफ आन्दोलन करने को बाध्य होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज