लाइव टीवी

अयोध्या केस पर फैसले की आहट, हाई-अलर्ट पर आजमगढ़

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 31, 2019, 6:45 PM IST
अयोध्या केस पर फैसले की आहट, हाई-अलर्ट पर आजमगढ़
हाई अलर्ट पर है आजमगढ़

अयोध्या के राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मामले (Ayodhya Ram Temple and Babri Masjid Dispute) में माना जा रहा है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Chief Justice Ranjan Gogoi) 17 नवंबर को अपने रिटायरमेंट से पूर्व फैसला सुनाएंगे.

  • Share this:
आजमगढ़. अयोध्या के राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मामले (Ayodhya Ram Temple and Babri Masjid Dispute) में सुनवाई पूरी होने के बाद 17 नवंबर के पूर्व फैसला आने की आहट के बीच आजमगढ़ (Azamgarh) जैसे संवेदनशील जिले में प्रशासन पूरी तरह चौकन्ना हो गया है. सभी अधिकारी संबंधित विभागों और शहर के संभ्रांत लोगों के साथ बैठक कर किसी भी स्थिति से निपटने की तैयारी में जुटे हैं. साथ ही यह प्रयास किया जा रहा है कहीं भी किसी तरह की अफवाह न फैलाई जा सके. इसके लिए सोशल मीडिया (Social Media) पर निगरानी के लिए भी टीम गठित कर दी गई है. खुफिया एजेंसियां भी पूरी तरह सतर्क हैं.

शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील
बता दें कि अयोध्या मामले में सुनवाई पूरी हो चुकी है. माना जा रहा है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होने से पूर्व इस मामले में फैसला सुनाएंगे. फैसला क्या होगा? किसके पक्ष में होगा? इसकी चर्चा जोरों पर है. फैसले को लेकर किसी तरह की अफवाह न फैले, फैसले के बाद शरारती तत्व जनपद का माहौल न बिगाड़ सकें इसके लिए प्रशासन अभी से रणनीति बनाने में जुटा है. एलआईयू (LIU), आइबी (IB) को सक्रिय कर दिया गया है. सीओ, थानाध्यक्ष, एसडीएम ग्रामीण क्षेत्रों में नजर गड़ाए हुए है. थानाध्यक्ष गांवों में जाकर लोगों के साथ बैठक कर रहे हैं उन्हें किसी भी तरह की अफवाह पर ध्यान न देने व किसी अनहोनी की आशंका होने पर तत्काल सूचना देने के लिए प्रेरित कर रहे है. थानों पर भी शांति समिति की बैठक के जरिए लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की जा रही है.

शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आलाधिकारियों के साथ मंत्रणा करते डीएम-एसपी आजमगढ़


अफवाहों को लेकर प्रशासन अलर्ट
जिलाधिकारी नागेंद्र प्रसाद सिंह और पुलिस अधीक्षक प्रो. त्रिवेणी सिंह भी पूरी स्थिति पर नजर गड़ाए हुए हैं. एसपी और प्रभारी डीएम/ मुख्य राजस्व अधिकारी हरिशंकर आंतरिक सुरक्षा की बैठक कर चुके है. इसमें अधिकारियों को बताया जा चुका है कि आजमगढ़ जिला अति संवेदनशील है. इसलिए उप जिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारी पुलिस सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाए रखने के लिए तहसील व ब्लाक स्तर पर बैठक करें. यदि कोई व्यक्ति अपराधी प्रवृत्ति का है तो उसकी सूचना सम्बन्धित थानों को उपलब्ध कराएं. क्षेत्राधिकारी सभी धार्मिक संगठनों के प्रमुखों के साथ बैठक करे. अराजकतत्वों पर पूरी तरह नजर रखे. इस मामले में किसी तरह की लापरवाही न बरतने की भी हिदायत दी गई है.

सोशल मीडिया पर फैलने वाली अफवाह को लेकर प्रशासन सतर्क
Loading...

सोशल मीडिया पर फैलने वाली अफवाह को लेकर भी प्रशासन सतर्क है. सोशल मीडिया की निगरानी के लिए सेल का गठन किया गया है. जो चैबीस घंटे निगरानी करेगी. वहीं एलआईयू (LIU) व आईबी (IB) के लोग भी अराजकतत्वों पर नजर रखेंगे. पुलिस अधीक्षक प्रो. त्रिवेणी सिंह ने News 18 से बातचीत के दौरान बताया कि आजमगढ़ अति संवेदनशील जिला है. यहां प्रशासन शांति और सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है. इसके लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है. सभी थानों को एलर्ट किया गया है. सोशल मीडिया की निगरानी के लिए टीम गठित कर दी गई हैं.

ये भी पढ़ें-  पुण्यतिथि विशेष: शादी के फ़ौरन बाद लखनऊ के इस मकान में रही थीं इंदिरा गांधी...

रामजन्म भूमि पर आना है फैसला, हाई अलर्ट पर मथुरा, चप्पे-चप्पे पर है पुलिस का पहरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आजमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 31, 2019, 5:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...