Lockdown: आजमगढ़ जिला अस्पताल में भूख से परेशान लोगों का वीडियो वायरल...
Azamgarh News in Hindi

Lockdown: आजमगढ़ जिला अस्पताल में भूख से परेशान लोगों का वीडियो वायरल...
शिकायत पर भाजपा जिलाध्यक्ष ध्रुव सिंह ने जिला अस्पताल पहुंच कर मरीजों व तीमारदारों का हाल जाना

वीडियो वायरल होने के बाद भाजपा (BJP) जिलाध्यक्ष अस्पताल पहुंचे और वार्डो में भर्ती मरीजों का हाल जाना और शिकायत सही पाये जाने पर उन्होने जिलाधिकारी (DM Azamgarh) से जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है....

  • Share this:
आजमगढ़. महामारी (Pandemic) कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) है. ऐसे में सरकार ने जरुरतमंदों को भोजन कराने से लेकर आवश्यक वस्तुएं मुहैया कराने की जिम्मेदारी प्रशासनिक अधिकारियों को सौंपी है. लेकिन जिले में प्रशासन के दावे की पोल उस समय खुल गयी जब, सोशल मीडिया (Social Media) पर जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों और तीमारदारों का भूख से बिलबिलाते व भोजन मुहैया न कराने के आरोप वाला एक वीडियो वायरल हो गया.

डीएम से कार्रवाई की मांग
जिला अस्पताल (District Hospital) में भर्ती मरीजों और उनके परिजनों की शिकायत थी कि उन्हें भोजन नहीं मिला और मास्क भी नहीं उपलब्ध कराया गया. वीडियो वायरल होते ही महकमे में हड़कंप मच गया. जिसके बाद भाजपा (BJP) जिलाध्यक्ष ध्रुव सिंह ने कोरोना (Covid-19) से लड़ाई में सूचनाओं के आदान-प्रदान को लेकर बनाए गए ग्रुप में काफी नाराजगी जाहिर की. यही नहीं जिलाध्यक्ष जिला अस्पताल पहुंचे और वार्डो में भर्ती मरीजों का हाल जाना और शिकायत सही पाये जाने पर उन्होने जिलाधिकारी से जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. बता दें कि कोरोना महामारी के दौरान जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों और उनके परिजनों को भोजन और मास्क उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की है.

जिला प्रशासन की ओर से ईओ नगरपालिका को उन्हें भोजन उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया था. लेकिन उनके द्वारा मरीजों के परिजनों को भोजन उपलब्ध नहीं कराया गया. वहीं मरीजों के तीमारदार बिना मास्क के ही अस्पताल परिसर में घूम रहे थे. किसी ने इसकी शिकायत भाजपा जिलाध्यक्ष ध्रुव सिंह से की साथ ही मरीजों का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर अपलोड किया. जिसके बाद जिलाध्यक्ष ने कोरोना को लेकर की जा रही कार्रवाइयों की सूचना आदान-प्रदान के लिए बनाए गए ग्रुप में कड़ी नाराजगी जाहिर की. इसके बाद वे जिला अस्पताल का निरीक्षण करने भी पहुंच गए. एक-एक वार्ड में भर्ती मरीजों के परिजनों से भोजन, पानी के बारे में पूछताछ की जहां मरीजों के परिजनों ने बताया कि उनको भोजन नहीं मिला है. जिसके बाद जिलाध्यक्ष ईओ नगरपालिका और एसआईसी के कार्यों से काफी क्षुब्ध नजर आए और उनके खिलाफ जिलाधिकारी से कार्रवाई की मांग की.
वहीं इस मुद्दे पर जिला चिकित्सालय के एसआईसी का कहना है कि मरीजों को भोजन उपलब्ध न कराने के आरोप गलत हैं उन्हें भोजन दिया गया था. उनका कहना था कि तीमारदारों को भोजन देने की जिम्मेदारी नगर पालिका और तहसीलदार की है. मामला सोशल मीडिया पर आने के बाद एसडीएम सदर भी जिला अस्पताल पहुंचे और आज से भोजन व्यवस्था सुचारू रूप से चलने का आश्वासन दिया. इसके साथ ही अस्पताल परिसर में पानी की टंकी और मोटर को भी दुरूस्त कराये जाने की व्यवस्था की.



ये भी पढ़ें- COVID-19 से जंग में दिलों में जगह बनाती खाकी का नया अंदाज, IPS अफसरों की कविता व शायरी मचा रही हैं धूम...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज