• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Azamgarh News: माफिया कुण्टू सिंह के कॉलेज को ध्वस्त करने का नोटिस, अब छात्रों ने डीएम कार्यालय के सामने शुरू की पढ़ाई

Azamgarh News: माफिया कुण्टू सिंह के कॉलेज को ध्वस्त करने का नोटिस, अब छात्रों ने डीएम कार्यालय के सामने शुरू की पढ़ाई

माफिया ध्रुव सिंह से संबंधित कॉलेज का छात्रों ने डीएम कार्यालय के सामने की पढ़ाई.

माफिया ध्रुव सिंह से संबंधित कॉलेज का छात्रों ने डीएम कार्यालय के सामने की पढ़ाई.

माफिया ध्रुव सिंह उर्फ कूंटू से संबंधित दो शिक्षण संस्थानों को ध्वस्त करने का नोटिस (Notice) जारी किया है. कॉलेज के छात्रों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर एक बार फिर अनोखे अंदाज में प्रदर्शन किया. 

  • Share this:

आजमगढ़: उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) में माफिया ध्रुव सिंह उर्फ कूंटू से संबंधित दो शिक्षण संस्थानों को ध्वस्त करने का नोटिस जारी किया है. कॉलेज के छात्रों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर एक बार फिर अनोखे अंदाज में प्रदर्शन किया. इस बार छात्रों ने जिलाधिकारी कार्यालय के सामने पढ़ाई शुरू कर दी. इससे पहले छात्रों ने अधिकारियों के बूट पॉलिस किए थे. छात्रों की मांग है कि परीक्षाएं शुरू हो रही है, लेकिन विश्वविद्यालय से सम्बन्धित उनका कोई कार्य नहीं हुआ है. प्रशासन सिर्फ विद्यालय को गिराने का नोटिस दे रहा है, लेकिन उनके भविष्य के बारे में एक बार भी नहीं सोच रहा है.

माफिया कुंटू सिंह के आर्थिक साम्राज्य को तोड़ने के लिए जिला प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है. इसके लिए कुंटू सिंह के दो शिक्षण संस्थानों को गिराने के लिए जिला पंचायत की तरफ से दूसरी बार देऊपुर कमालपुर स्थित गिरजा शंकर स्मृति महाविद्यालय और रुद्र प्रताप पॉलीटेक्निक कॉलेज को प्रशासन ने ध्वस्तिकरण के लिए नोटिस चस्पा कर दिया. दोनों वि़द्यालयों के छात्रों की समस्या यह है कि उनकी परीक्षा 22 फरवरी से होनी है. विश्वविद्यालय की साइट पर छात्रों के डाटा और कुछ अन्य कागजात फीड़ नहीं हुए हैं जिससे छात्र परेशान हैं.

ये भी पढ़ें: दौसा रिश्वत केस: ACB की बड़ी कार्रवाई, 38 लाख घूस लेने के मामले में IPS मनीष अग्रवाल गिरफ्तार

छात्रों ने किया था बूट पॉलिश

कॉलेज को लेकर जारी नोटिस को लेकर चार दिन पूर्व छात्रों ने जहां अधिकारियों का बूट पॉलिश किया तो वहीं अब जिलाधिकारी कार्यालय के सामने पढ़ाई शुरू कर दिया. छात्रों की मांग है कि पहली बार विरोध प्रदर्शन के दौरान अधिकारियों ने आश्वासन दिया था उनके भविष्य को खराब नहीं होने दिया जाएगा. लेकिन चार दिन बाद भी कोई अधिकारी इस दिशा में कठोर कदम नहीं उठा रहा है. छात्रों का कहना है कि अगर विश्वविद्यालय की साइट बंद हो गई तो वे परीक्षा से वंचित रह जाएंगे. इसके लिए प्रशासन उनके लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था करें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज