Lockdown 4.0: लव, सेक्स और मर्डर,अब प्रेमी जोड़ों पर पुलिस रखेगी नजर

आजमगढ़ पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह.
आजमगढ़ पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह.

आजमगढ़ में लॉकडाउन ( Lockdown) के दौरान पारिवारिक रिश्तों को ताक पर रखकर बेहिसाब खून हो रहा है. इसके बाद आजमगढ़ पुलिस (Azamgarh Police) ने प्रेमी जोड़ों और अवैध सम्बन्धों पर नजर रखने के लिए एक टीम गठित की है, जिससे इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके.

  • Share this:
आजमगढ़. उत्‍तर प्रदेश के आजमगढ़ में लॉकडाउन ( Lockdown) के दौरान पारिवारिक रिश्तों को ताक पर रखकर बेहिसाब खून हो रहा है. जी हां, कहीं प्रेमिका ने प्रेमी को मिलने के बहाने घर बुलाकर अपने पिता और भाइयों के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया, तो कहीं बहन ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपनी बड़ी बहन को मौत की नींद सुला दिया. यही नहीं, कहीं तो पत्नी ने अपने सात फेरों की कसम को भूलकर अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति (Husband) की निर्मम हत्या करवा दी. इतना ही नहीं पत्नी अपने पति की मौत की आखिरी चीख फोन पर सुनती रही है.

हालांकि इन तीनों घटनाओं से पर्दा उठ गया है और आरोपी जेल भेजे जा चुके हैं, लेकिन इन हत्याओं ने न सिर्फ तीन परिवार खत्म कर दिए बल्कि रिश्तों को भी कलंकित किया है. परिवार में इस तरह के जघन्य अपराधों को रोकने के लिए अब आजमगढ़ पुलिस (Azamgarh Police) ने प्रेमी जोड़ों और अवैध सम्बन्धों पर नजर रखने के लिए एक टीम गठित की है, जिससे इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके.

इन घटानाओं से रिश्ते हुए तार-तार
आजमगढ़ जिले में पिछले एक महीने की घटनाओं पर गौर करें तो सरायमीर थाना क्षेत्र के असाढ़ा गांव निवासी मुकेश राम चार बच्चों का पिता था. उसकी पत्नी कुसुम और पड़ोसी गांव के कलंदर राम से अवैध थे. करीब एक सप्ताह पूर्व मुकेश ने कुसुम और कलंदर को रंगे हाथ पकड़ लिया. यकीनन कुसुम पति के साथ सात फेरे लेने और सात जन्मों तक चलने की कसमें कसम दस सालों में ही भूल गयी और अपने प्रेमी कलंदर के साथ मिलकर उसकी हत्या करा दी. यही नहीं, कुसुम फोन पर अपने पति की आखिरी चीख निकलने तक सुन रही थी.
जबकि दूसरी घटना अहरौला थाना क्षेत्र के रेड़हा गांव की है जहां मां समान बड़ी बहन की हत्या कर दी गयी. बहन का गुनाह सिर्फ इतना था कि उसने अपनी छोटी बहन को उसके प्रेमी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था. तीसरी घटना ने बरदह थाना क्षेत्र के सोहौली गांव की है, जहां प्रेमिका अपने शादी-शुदा प्रेमी को मिलने के लिए घर बुलाती है और अपने पिता, भाई के साथ मिलकर उसकी हत्या करवा देती है. इन तीन हत्याओं ने जहां किसी के सिर से पिता, पति और मां का साया छिन गया, तो वहीं इन्होंने तीनों परिवारों पर कभी न मिटने वाला बदनामी का दाग लगा दिया.



पुलिस अधीक्षक ने कही ये बात
इन तीन घटनाओं को लेकर आजमगढ़ के पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने कहा कि सभी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए इन्हें जेल भेज दिया. इसके अलावा ऐसे जघन्य और समाज को कलंकित करने वाले अपराधों को रोकने के लिए एक टीम गठित की है,जिसमें पुलिस मित्र, निगरानी समिति और बीट के सिपाहियों को ऐसे प्रेमी जोड़ों पर नजर रखने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है. एसपी ने बताया कि ऐसे रिश्तों पर नजर रखी जा रही है, ताकि प्रेमी जोड़ों को दोनों के परिवार से या फिर अवैध सम्बन्ध में पत्नी से पति को खतरे की जानकारी होने की सूचना पर समय रहते ऐसे जघन्य अपराध को रोका जा सकें. हालांकि उन्‍होंने माना है कि यह एक बड़ी चुनौती है.

ये भी पढ़े

1000 बसों की सियासत: रायबरेली से कांग्रेस MLA ने अपनी ही पार्टी पर उठाए सवाल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज