Social justice : आजमगढ़ में BJP के दलित उत्पीड़न के खिलाफ प्रियंका गांधी ने खोला मोर्चा, जानें पूरा मामला
Azamgarh News in Hindi

Social justice : आजमगढ़ में BJP के दलित उत्पीड़न के खिलाफ प्रियंका गांधी ने खोला मोर्चा, जानें पूरा मामला
प्रियंका गांधी के निर्देश पर कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने जानी दलितों की पीड़ा. (file photo)

पीड़ितों का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष व उनके भाई-भतीजे ने हमें बुरी तरह मारा-पीटा और जातिसूचक शब्दों का प्रयोग कर गालियां दीं. उन लोगों ने औरतों को भी नहीं बख्शा. गंभीरपुर थाने में जाने पर पुलिस इंस्पेक्टर ने हम दलितों का अपमान किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 10:51 PM IST
  • Share this:
आजमगढ़ : यूपी की कमान संभालने के बाद से ही प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) खोए हुए जनाधार की तलाश में जुट गई हैं. छोटा-बड़ा कोई भी मामला होने पर वहां किसी न किसी माध्यम से अपनी उपस्थिति जरूर दर्ज करा रही हैं. आजमगढ़ जिले (Azamgarh District) को समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) का गढ़ माना जाता है. हाल के दिनों में गंभीरपुर थाने के उबारपुर गांव में भाजपा (BJP) के लालगंज जिलाध्यक्ष ऋषिकांत राय पप्पू के बेटों और परिवार वालों द्वारा गांव के दलित मजदूरों की पिटाई कर दी गई थी. इस मामले में पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए अब तक कोई भी संगठन मौके पर नहीं पहुंचा. लेकिन बुधवार को प्रियंका गांधी के निर्देश पर कांग्रेसियों का प्रतिनिधिमंडल (Delegation) पहुंचकर न केवल संवेदना प्रकट किया बल्कि न्याय दिलाने के लिए गुरुवार को डीएम से मिलने का भरोसा दिया.

कांग्रेस ने सुनी उबारपुर गांव के पीड़ितों की पीड़ा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर जो छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल भेजा गया था. उनमें उत्तर प्रदेश के एससी प्रकोष्ठ के प्रदीप नरवाल, एससी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष आलोक प्रसाद, एससी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भगवती चौधरी, आजमगढ़ जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवीण कुमार सिंह, पंकज मोहन सोनकर लोकसभा प्रत्याशी शामिल थे. इनलोगों ने उबारपुर गांव जाकर पीड़ितों की समस्याएं सुनीं. पीड़ितों का आरोप है कि भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष व उनके भाई-भतीजे ने हमें बुरी तरह मारा-पीटा व जातिसूचक शब्दों का प्रयोग कर गालियां दीं. उनलोगों ने औरतों को भी नहीं बख्शा. उनलोगों ने औरतों को भी नहीं बख्शा. गंभीरपुर थाने में जाने पर पुलिस इंस्पेक्टर ने हम दलितों का अपमान किया. प्रथम सूचना रिपोर्ट (FIR) जो लिखी गई थी, उसे फड़वाकर भाजपा अध्यक्ष का नाम हटाने का दबाव बनाते हुए दूसरा प्रार्थना पत्र लिखवा कर मुकदमा लिखा गया. मुकदमे में सामान्य धाराएं लगाई गईं.




आज डीएम से मिलेगा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल

प्रभारी एससी प्रकोष्ठ उत्तर प्रदेश प्रदीप नरवाल ने कहा - सूबे की योगी सरकार दलितों का उत्पीड़न करवा रही है. स्वयं भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी दलितों पर अत्याचार करा रहे हैं. सरकार उनको बचाने का काम कर रही है. मैं सरकार को चेतावनी देता हूं कि अपनी दमनकारी नीति छोड़ दे. उन्होंने उबारपुर के लोगों को भरोसा दिया कि हम आपकी लड़ाई लड़ते रहेंगे. न्याय न मिलने तक आपके संघर्षों में आपके साथ रहेंगे. गुरुवार को इस मामले में डीएम से मिलकर यह मांग करेंगे कि आरोपियों पर सुसंगत धाराएं लगाई जाएं, जिससे पीड़ितों को न्याय मिल सके.

इन्हेें भी पढ़ें :

प्रतापगढ़ से नोएडा आ रही महिला के साथ चलती बस में Rape, केस दर्ज

LAC पर शहीद हुए मेरठ के वीर बिपुल रॉय, CM योगी ने कही ये बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading