जेल में चल रही 'क्राइम की पाठशाला', टारगेट पूरा करने के लिए नए लड़कों को ट्रेनिंग दे रहे बदमाश

ट्रेंड होने के बाद इनकी अपने खर्चे पर जमानत कराई जाती है.
ट्रेंड होने के बाद इनकी अपने खर्चे पर जमानत कराई जाती है.

आजमगढ़ और जौनपुर जेल में बंद आकाओं के इशारे पर नए लड़कों से करा रहे वारदात. SP त्रिवेणी सिंह (SP Triveni Singh) ने जेल से अपराधों को अंजाम देने के मामले की जांच कराने का आदेश दिया है.

  • Share this:
आजमगढ़. उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ (Azamgarh) जिले में ताबड़तोड़ एनकाउंटर और पुलिस की सख्ती के चलते ज्यादातर बड़े अपराधियों ने अपराध की नई तरकीब इजाद कर ली है. इन बदमाशों ने खुद को किसी न किसी मामले में फंसाकर जेल की राह पकड़ ली. फिर अपना टारगेट पूरा करने के लिए जेल (Jail) में अपराध की पाठशाला (Crime school) शुरू कर दी है. ये अपराधी नए लड़कों को जेल में ट्रेनिंग देकर घटनाओं को अंजाम दिलवा रहे हैं. इसका खुलासा एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह (SP Triveni Singh) ने किया है. एसपी ने ऐसे अपराध में शामिल एक गैंग के तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है. जेल में अपराध की पाठशाला चलाने में अधिकारियों की भूमिका की जांच के लिए एसपी क्राइम और सीओ क्राइम को कमान सौंपी गई है.

पुलिस अधीक्षक प्रो. त्रिवेणी सिंह के मुताबिक गिरफ्तार अपराधी जेल में बंद अपने आकाओं के इशारे पर घटनाओं को अंजाम देते हैं. पुलिस के पास इन नए बदमाशों का कोई रिकॉर्ड नहीं रहता. ऐसे में इनकी पहचान और गिरफ्तारी में काफी परेशानी होती है. गिरफ्तार आरोपियों में कन्हैया, सुनील चौहान उर्फ काले और रुद्र प्रताप सिंह उर्फ लकी सिंह शामिल हैं. एसपी ने बताया कि 30 जून को बरदह थाना क्षेत्र के भीरा बाजार में किराना दुकानदार से दो लाख रुपए की रंगदारी मांगी गयी थी. दुकानदार ने रुपए देने से इंकार कर दिया था. ऐसे में बदमाशों ने दुकानदार पर फायरिंग कर दी थी. साक्ष्य मिलने पर इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया.

कुन्टू यादव के इशारे पर वारदात को अंजाम दिया



पूछताछ के दौरान इन बदमाशों ने बताया कि जौनपुर कारागार में बंद अभियुक्त राजन यादव, दिग्विजय सिंह और आजमगढ़ कारागार में बंद कुंटू यादव के इशारे पर इन्होंने कई घटनाओं को अंजाम दिया है. एसपी ने बताया की गिरफ्तार बदमाश मारपीट के मामले में जेल में गए थे, जहां पहले से मौजूद इनके आकाओं ने इन नए बदमाशों को ट्रेनिंग दी. फिर ट्रेंड होने के बाद इनकी अपने खर्चे पर जमानत कराई जाती है. जेल से बाहर आने पर इन सभी से आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिलवाए जा रहे हैं. एसपी ने बताया कि इन बदमाशों की हुई गिरफ्तारी और पूछताछ से पता चला है कि पूर्वांचल की जेलों में अपराधियों को ट्रेनिंग दी जा रही है. जेल की भूमिका को लेकर एसपी ने दो टीमें एसपी क्राइम सुधीर जायसवाल और सीओ क्राइम मोहम्मद अकमल खां के नेतृत्व में गठित कर दी है. जल्द ही जेलकर्मिर्यों पर कार्रवाई हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज