बदायूं के SNCU में एक बेड पर किया जा रहा है 2-2 नवजात बच्चों का इलाज
Badaun News in Hindi

बदायूं के SNCU में एक बेड पर किया जा रहा है 2-2 नवजात बच्चों का इलाज
बदायूं के SNCU में एक बेड पर किया जा रहा है 2-2 नवजात बच्चों का इलाज. (फाइल फोटो)

बदायूं (Badaun) के जिला महिला अस्पताल में बने 15 बेड वाले एसएनसीयू (SNCU) का हाल ऐसा है कि एक बेड पर दो-दो नवजात बच्चों का इलाज किया जा रहा है जिससे संक्रमण फैल रहा है. संक्रमण क्यों फैल रहा है? इसका जवाब स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2019, 5:47 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बदायूं (Badaun) के जिला महिला अस्पताल में बने एसएनसीयू (SNCU) में पिछले 50 दिनों में 32 नवजात बच्चों की मौतों ने स्वास्थ महकमे पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है. 15 बेड बाले एसएनसीयू का हाल ऐसा है कि एक बेड पर दो-दो नवजात बच्चों का इलाज किया जा रहा है जिससे संक्रमण फैल रहा है. संक्रमण क्यों फैल रहा है? इसका जवाब स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है. वही प्रभारी सीएमओ का कहना है जल्द बायोलॉजिकल टीम आएगी जो बच्चों की जांच कर अपनी रिपोर्ट देगी.

वहीं जिले में पिछले साल संक्रमण की बीमारी फैली थी और 300 से जादा मौतें हुई थीं. संक्रामक बीमारी फैलने और बीमारी से निपटने के उपाय न करने के कारण शासन ने सीएमओ को एक हफ्ते पहले ही सस्पेंड कर दिया था. अब फिर महिला अस्पताल में मौतों का सिलसिला शुरू हो गया है. आखिर इन बच्चों की मौत का जिम्मेदार कौन है? इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं है.

बदायूं में संक्रामक रोग का प्रकोप इस साल भी जारी है. इस बार एसएनसीयू यूनिट में 50 दिनों के अंदर 32 नवजात बच्चों की मौत हो चुकी है. जिले में पिछले साल संक्रमण रोग से 300 से जादा व्यक्तियों की मौत हो चुकी है. वहीं प्रभारी सीएमओ मंजीत सिंह का कहना है कि 25 नवजात प्राइवेट अस्पताल से और 7 नवजात बच्चे महिला अस्पताल से एडमिट हुए हैं.



प्रभारी सीएमओ बताते हैं कि, “प्राइवेट अस्पताल से आये बच्चों में से ज्यादातर नवजात बच्चों की मौतें हुईं हैं, जो अस्पताल पहुंचने के 12 घण्टे के अंदर ही दम तोड़ देते हैं. चूंकि बच्चे पहले से संक्रमित और कम वजन के हैं और एसएनसीयू केवल एक संविदा डॉक्टर और कुछ स्टाफ के सहारे चल रहा है.



यूं तो सरकार की तरफ से नवजात बच्चों की उचित देखभाल के लिए बदायूं के जिला महिला अस्पताल में 15 बेड का एनएससीयू एक साल पहले बनाया गया था लेकिन अब यह नवजात बच्चों के लिए नर्क बनता जा रहा है. पिछ्ले 50 दिनों में यहां 32 नवजात बच्चों की मौतें हो चुकी हैं.

रिपोर्ट – चितरंजन 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading