लाइव टीवी

परिवार नियोजन का सच: नसबंदी के बावजूद मां बन गईं बदायूं की 37 महिलाएं

News18Hindi
Updated: August 25, 2017, 8:52 AM IST
परिवार नियोजन का सच: नसबंदी के बावजूद मां बन गईं बदायूं की 37 महिलाएं
सांकेतिक तस्वीर

उत्तर प्रदेश में परिवार कल्याण विभाग का एक और कारनामा सामने आया है. प्रदेश में परिवार नियोजन कार्यक्रम की पोल उस वक्त खुल गई जब बदायूं जिले की 37 महिलाएं नसबंदी के बावजूद गर्भवती हो गईं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2017, 8:52 AM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश में परिवार कल्याण विभाग का एक और कारनामा सामने आया है. प्रदेश में परिवार नियोजन कार्यक्रम की पोल उस वक्त खुल गई जब बदायूं जिले की 37 महिलाएं नसबंदी के बावजूद गर्भवती हो गईं. मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा है.

अब इन महिलाओं में स्वास्थ्य विभाग से मुआवजा देने के लिए दावा पेश किया है. मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग अब जांच में जुटा है.

दरअसल वर्ष 2016 में मुख्यालय समेत 15 विकास खंडों पर लगे शिविरों में तक़रीबन 2166 महिलाओं ने नसबंदी करवाई थी. इसमें से नसबंदी फेल होने के 37 मामले सामने आए हैं. इसकी रिपोर्ट महानिदेशक परिवार कल्याण को भेजी गई है.

नियमनुसार नसबंदी के बाद भी गर्भवती होने वाली 37 महिलाओं को मुआवजे के रूप में स्वास्थ्य विभाग को 11.10 लाख रुपये देने होंगे.

बता दें परिवार नियोजन के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से समय-समय पर जिले के साथ ब्लॉक स्तर पर नसबंदी शिविर लगाए जाते हैं. नसबंदी करवाने वाले पुरुष और महिलाओं को प्रोत्साहन के रूप में धनराशि भी दी जाती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बदायूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2017, 8:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर