Assembly Banner 2021

बदायूं गैंगरेप: सीबीआई को संदेह, स्‍थानीय नेता ने आरोपियों को जानबूझकर फंसाया

देश को हिला देने वाली बदायूं गैंगरेप की घटना में स्‍थानीय नेता की संदेहास्‍पद भूमिका सामने आ रही है। मामले की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि इसी नेता ने पीड़िता के परिवार को प्रभावित कर पांच लोगों को आरोपी बनाया था। ये आरोपी हैं-पप्‍पू, अवधेश यादव, उर्वेश यादव और कांस्‍टेबल छत्रपाल यादव व सर्वेश यादव। सभी आरोपी एक ही जाति के हैं।

देश को हिला देने वाली बदायूं गैंगरेप की घटना में स्‍थानीय नेता की संदेहास्‍पद भूमिका सामने आ रही है। मामले की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि इसी नेता ने पीड़िता के परिवार को प्रभावित कर पांच लोगों को आरोपी बनाया था। ये आरोपी हैं-पप्‍पू, अवधेश यादव, उर्वेश यादव और कांस्‍टेबल छत्रपाल यादव व सर्वेश यादव। सभी आरोपी एक ही जाति के हैं।

देश को हिला देने वाली बदायूं गैंगरेप की घटना में स्‍थानीय नेता की संदेहास्‍पद भूमिका सामने आ रही है। मामले की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि इसी नेता ने पीड़िता के परिवार को प्रभावित कर पांच लोगों को आरोपी बनाया था। ये आरोपी हैं-पप्‍पू, अवधेश यादव, उर्वेश यादव और कांस्‍टेबल छत्रपाल यादव व सर्वेश यादव। सभी आरोपी एक ही जाति के हैं।

  • News18
  • Last Updated: August 19, 2014, 11:35 AM IST
  • Share this:
देश को हिला देने वाली बदायूं गैंगरेप की घटना में स्‍थानीय नेता की संदेहास्‍पद भूमिका सामने आ रही है। मामले की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि इसी नेता ने पीड़िता के परिवार को प्रभावित कर पांच लोगों को आरोपी बनाया था। ये आरोपी हैं-पप्‍पू, अवधेश यादव, उर्वेश यादव और कांस्‍टेबल छत्रपाल यादव व सर्वेश यादव। सभी आरोपी एक ही जाति के हैं।

सीबीआई को संदेह है कि इसके लिए राजनेता ने पीड़िता के परिवार को कुछ कीमत दी होगी। पांचों आरोपी लाइ डिटेक्‍टर टेस्‍ट में पास हो गए थे, वहीं पीड़िता के परिजन लाइ डिटेक्‍टर टेस्‍ट में फेल हो गए थे।

इधर, सीबीआई को सेंटर फॉर डीएनए फिंगरप्रिंटिंग एंड डायग्‍नोस्टिक की रिपोर्ट मिल गई है। यह रिपोर्ट केस के लिए अहम कड़ी साबित हो सकती है। हालांकि, अभी भी सीबीआई को एम्‍स के फोरेंसिक विशेषज्ञों की रिपोर्ट का इंतजार है।



सीबीआई का कहना है कि जिस पेड़ पर दोनों बहनों को लटकाया गया था, वह करीब 12 फीट ऊंचा है। यह पेड़ आरोपी पप्‍पू यादव के घर से 20 मीटर की दूरी पर है। ऐसे में कोई शख्‍स भला किसी की हत्‍या कर उसके शव घर के पास वाले पेड़ पर क्‍यों लटकाएगा। सीबीआई के सूत्र ऑनर किलिंग से भी इनकार नहीं कर रहे हैं।
उल्‍लेखनीय है कि कि 14 और 15 साल की दो चचेरी बहनों की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी। जो अपने घरों से 27 मई को लापता हों गईं थीं। बाद में दोनों के शव आम के पेड़ पर लटके मिले थे।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज