बदायूं गैंगरेप पीड़िता ने मौत से पहले दिए बयान में बताई हैवानियत की दास्तां
Badaun News in Hindi

बदायूं गैंगरेप पीड़िता ने मौत से पहले दिए बयान में बताई हैवानियत की दास्तां
बडों रेप पीड़िता ने मौत से पहले दिए बयान में दो लोगों पर लगाए आरोप

मामले में पुलिस (Police) की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहने के बावजूद पुलिस ने उसका बयान तक दर्ज नहीं किया और न ही एफआईआर लिखी.

  • Share this:
बदायूं. 5 सितंबर को गैंगरेप (Gangrape) के बाद चलती ट्रेन के आगे फेंकी गई पीड़िता की बुधवार को बरेली (Bareilly) के जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. पीड़िता (Rape Victim) को गंभीर हालत में बदायूं (Badaun) से बरेली के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था. मौत से पहले पीड़िता ने जो बयान दिया है उससे किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाएंगे. मामले में पुलिस (Police) की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहने के बावजूद पुलिस ने उसका बयान तक दर्ज नहीं किया और न ही एफआईआर लिखी.

छोटू और विशाल पर लगाया आरोप
मीडिया को दिए अपने आखिरी बयान में जो बात उसने बताई वह दिल दहलाने वाली है. पीड़िता ने मीडिया से बातचीत में बताया कि गांव के ही दो युवक छोटू और विशाल ने उसके साथ पहले रेप किया फिर उसे ट्रेन के आगे फेंक दिया. इस हादसे में पीड़िता का एक पैर कट गया. हाथ में फ्रैक्चर हो गया और एक पैर की एड़ी भी कट गई. पीड़िता ने बताया कि ट्रेन के आगे फेंककर दोनों फरार हो गए.





पिता ने पुलिस पर लगाए आरोप


पीड़िता के पिता ने बताया कि 5 सितंबर को वे लोग घर पर नहीं थे. रिश्तेदारी में गए हुए थे. लड़की अपने छोटी बहन के साथ शौच के लिए निकली थी. नदी के पास मौजूद छोटू और विशाल ने उनकी छोटी बेटी को धमकाकर भगा दिया और फिर गन्ने के खेत में उसकी बेटी के साथ रेप किया. रेप करने के बाद बिटिया को ट्रेन के आगे फेंककर फरार हो गए. उन्होंने बताया कि मामले में पुलिस चौकी पर तहरीर दी है. उसके पिता का आरोप है कि पुलिस ने उनकी एफआईआर तक दर्ज नही की. इतना ही नहीं उन्होंने आरोप लगाया कि उन दो लड़कों ने गांव की ही दूसरी लड़की के साथ भी गलत काम किया, लेकिन ग्रामीणों ने युवकों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. लेकिन पुलिस ने 30 हजार रुपये लेकर आरोपियों को छोड़ दिया.

डीआईजी ने कही जांच की बात
वहीं इस मामले में डीआईजी रेंज राजेश कुमार पांडेय का कहना है कि पीड़िता के परिजनों की तरफ से कोई तहरीर नही दी गई. अगर कोई तहरीर आती है तो जांच करवाई जाएगी. फिलहाल पीड़िता का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमे घटना के तुरंत बाद लड़की बता रही है कि उसकी घर में लड़ाई हो गई थी. अब देखना ये है कि पुलिस की जांच में क्या सच्चाई सामने आती है.

यह भी पढ़ें-

जेल से पीड़ित छात्रा को धमका रहे हैं रेप के आरोपी BSP सांसद अतुल राय!
मुज़फ्फरपुर शेल्टर होम केस: वापस घर भेजी जाएंगी 8 पीड़ित लड़कियां, TISS रिपोर्ट पर SC ने बिहार सरकार से मांगा जवाब
करनाल: आत्महत्या से पहले बेटी ने बताया था- 'पापा ये दोनों हमेशा तंग करते हैं'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading