Assembly Banner 2021

बदायूं गैंगरेप: सीबीआई के खिलाफ अदालत जाएगा पीड़ित परिवार

बदायूं गैंगरेप में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं दाखिल करने के सीबीआई के फैसले का पीड़िता के परिवार ने अदालत में चुनौती देने का फैसला किया है।

बदायूं गैंगरेप में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं दाखिल करने के सीबीआई के फैसले का पीड़िता के परिवार ने अदालत में चुनौती देने का फैसला किया है।

बदायूं गैंगरेप में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं दाखिल करने के सीबीआई के फैसले का पीड़िता के परिवार ने अदालत में चुनौती देने का फैसला किया है।

  • News18
  • Last Updated: August 27, 2014, 10:35 AM IST
  • Share this:
बदायूं गैंगरेप में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं दाखिल करने के सीबीआई के फैसले का पीड़िता के परिवार ने अदालत में चुनौती देने का फैसला किया है।

पीड़िता के पिता ने कहा, 'सीबीआई कैसे बलात्‍कार की बात नकार सकती है, जबकि आरोपियों ने सार्वजनिक रूप से अपराध स्‍वीकार किया था। जिस कपड़े को मेरी बेटी का बताकर सीबीआई यह दावा कर रही है, वह किसी दूसरे का भी तो हो सकता है। फिर सीबीआई ने दूसरी बार शवों का पोस्‍टमार्टम कराने में इतनी देरी क्‍यों की?'

इससे पहले सीबीआई के प्रवक्‍ता कंचन प्रसाद ने बताया, 'सीबीआई पांच आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट नहीं दाखिल करने जा रही है, क्‍योंकि फोरेंसिक टेस्‍ट में बलात्‍कार की पुष्टि नहीं हुई थी। हमलोगों ने आरोपियों को क्‍लीन चिट नहीं दी है। अभी तक दुष्‍कर्म की पुष्टि नहीं हुई है, मर्डर की नहीं। हमलोग मामले की जांच कर रहे हैं।'



इस हफ्ते पांचों आरोपियों की हिरासत अवधि खत्‍म हो रही है। यदि 90 दिनों के भीतर चार्जशीट दाखिल नहीं की गई तो उन्‍हें जमानत मिल जाएगी।
उल्‍लेखनीय है कि पीड़िता के रिश्‍तेदार लाइ डिटेक्‍टर टेस्‍ट में फेल हो गए थे, वहीं पांचों आरोपी लाइ डिटेक्‍टर टेस्‍ट में पास हो गए थे। पांचों आरोपियों के बयान में कोई अंतर नहीं पाया गया था। इन आरोपियों ने बलात्कार, हत्या और सबूतों को नष्ट के करने के आरोपों से स्‍पष्‍ट इनकार किया था।

सीबीआई का कहना है कि जिस पेड़ पर दोनों बहनों को लटकाया गया था, वह करीब 12 फीट ऊंचा है। यह पेड़ आरोपी पप्‍पू यादव के घर से 20 मीटर की दूरी पर है। ऐसे में कोई शख्‍स भला किसी की हत्‍या कर उसके शव घर के पास वाले पेड़ पर क्‍यों लटकाएगा। सीबीआई के सूत्र ऑनर किलिंग से भी इनकार नहीं कर रहे हैं।

उल्‍लेखनीय है कि कि 14 और 15 साल की दो चचेरी बहनों की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी, जो अपने घरों से 27 मई को लापता हों गईं थीं। बाद में दोनों के शव आम के पेड़ पर लटके मिले थे।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज