Assembly Banner 2021

बदायूं कांड: मृतका के गांव में हर घर में होगा शौचालय

इस साल मई में बदायूं में कथित तौर पर नाबालिग बहनों शौच जाने के दौरान हुए गैंगरेप के बाद हत्या का मामला संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ तक में चर्चा का विषय बना था। घटना के तत्‍काल बाद कई नेताओं ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने की घोषणा की, लेकिन समय के साथ सभी अपने वादे और इरादे भुला बैठे। वहीं एक स्‍वयं सेवी संस्‍था (एनजीओ) ने पीड़ित परिवार के गांव के हर घर में शौचालय बनाने की ठानी, ताकि यहां की महिलाओं को शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। एनजीओ अब तक गांव में 108 शौचालय बनवा चुकी है।

इस साल मई में बदायूं में कथित तौर पर नाबालिग बहनों शौच जाने के दौरान हुए गैंगरेप के बाद हत्या का मामला संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ तक में चर्चा का विषय बना था। घटना के तत्‍काल बाद कई नेताओं ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने की घोषणा की, लेकिन समय के साथ सभी अपने वादे और इरादे भुला बैठे। वहीं एक स्‍वयं सेवी संस्‍था (एनजीओ) ने पीड़ित परिवार के गांव के हर घर में शौचालय बनाने की ठानी, ताकि यहां की महिलाओं को शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। एनजीओ अब तक गांव में 108 शौचालय बनवा चुकी है।

इस साल मई में बदायूं में कथित तौर पर नाबालिग बहनों शौच जाने के दौरान हुए गैंगरेप के बाद हत्या का मामला संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ तक में चर्चा का विषय बना था। घटना के तत्‍काल बाद कई नेताओं ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने की घोषणा की, लेकिन समय के साथ सभी अपने वादे और इरादे भुला बैठे। वहीं एक स्‍वयं सेवी संस्‍था (एनजीओ) ने पीड़ित परिवार के गांव के हर घर में शौचालय बनाने की ठानी, ताकि यहां की महिलाओं को शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। एनजीओ अब तक गांव में 108 शौचालय बनवा चुकी है।

  • News18
  • Last Updated: September 1, 2014, 9:16 AM IST
  • Share this:
इस साल मई में बदायूं में कथित तौर पर नाबालिग बहनों शौच जाने के दौरान हुए गैंगरेप के बाद हत्या का मामला संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ तक में चर्चा का विषय बना था। घटना के तत्‍काल बाद कई नेताओं ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने की घोषणा की, लेकिन समय के साथ सभी अपने वादे और इरादे भुला बैठे। वहीं एक स्‍वयं सेवी संस्‍था (एनजीओ) ने पीड़ित परिवार के गांव के हर घर में शौचालय बनाने की ठानी, ताकि यहां की महिलाओं को शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। एनजीओ अब तक गांव में 108 शौचालय बनवा चुकी है।

रविवार को सुलभ इंटरनेशनल सोशल आर्गनाइजेशन (एनजीओ) की ओर से कटरा सादतगंज गांव में बनाए गए 108 शौचालयों का उद्घाटन किया गया।

सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉक्‍टर विंदेश्वर पाठक ने बताया कि वे इस गांव में 400 शौचालय बनवाना चाहते हैं। साथ ही जान गंवाने वाली गांव की दोनों बहनों के नाम पर औद्योगिक ट्रेनिंग केंद्र खोला जाएगा। इसमें महिलाओं और लड़कियों को स्वरोजगार से जुड़ने के अवसर मिलेगें। उन्हें आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी।



उन्‍होंने कहा कि शौचालय मूलभूत जरूरत बन गई है। इस जरूरत को पूरा करने के लिए हमें केवल सरकार पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। देश के बड़ें उद्योगपतियों को भी इस काम में सहयोग करना चाहिए। यदि एक कॉरपोरेट घराना एक गांव को गोद ले तो इस समस्या का काफी हद तक समाधान हो सकता है।
मालूम को कि कथित गैंगरेप और हत्‍या की घटना के बाद गांव की महिलाएं और लड़कियां शौच के लिए घर से बाहर जाने से कतराने लगीं थीं।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज