अपना शहर चुनें

States

बदायूं में बाढ़ की विभीषिका के बाद महामारी जैसी स्थिति,अब तक 56 की मौत

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में सफाई करने के बाद दावा का छिड़काव किया जा रहा है. वहीं मामले का खुलासा होने पर राज्य सरकार ने जिले के सीएमओ को निलंबित कर दिया है. इसके बाद जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग की कमान अपने हाथो में ली है.

  • Share this:
बदायूं जिले में बाढ़ के बाद सही तरीके से साफ-सफाई नहीं होने के चलते महामारी जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है. सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक जिले में गंदगी से अब तक 56 लोगों की मौत हो गई है जबकि कई लोग अस्पताल में भर्ती हैं. इसके बावजूद भी प्रशासन की नींद अभी तक नहीं खुली है.

यहां भी पढ़ेंः VIDEO: बदायूं में संक्रामक बुखार से अब तक 100 मौतें, रैन बसेरा भी बना अस्पताल

रिपोर्ट के मुताबिक हाल ही में भारी बारिश के चलते बदायूं जिले में बाढ़ जैसे हालात बन गए थे. इससे जिले के कई गांव जलमग्न हो गए थे. बाढ़ का पानी उतरने के बाद जिले के कई हिस्सों में कीचड़, मलबा और गाद के अम्बार लग गए, लेकिन समय पर इनकी सफाई नहीं होने से महामारी जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है. खास कर ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को गंदगी और बदबू से जीना दुश्वार हो गया है.



यह भी पढ़ें- VIDEO: बदायूं में मकान की दीवार गिरने से 4 लोगों की मौत
बताया जाता है गंदगी के चलते लोग मलेरिया जैसी बीमारी की चपेट में आ गए हैं. इसके बावजूद भी मलेरिया विभाग ने अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों में दवा का छिड़काव नहीं किया है. वहीं, ग्रामीणों का कहना है कि बाढ़ का पानी नीचे उतरने के बाद से एक भी सफाई कर्मचारी गांव में नहीं आए हैं. न ही गांव के किसी नाले में की सफाई हुई है. इससे जिले के गांवों में तरह-तरह की बीमारी उत्पन्न करने वाले मच्छर जन्म ले रहे हैं.

वहीं, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में सफाई करने के बाद दवा का छिड़काव किया जा रहा है. मामले का खुलासा होने पर राज्य सरकार ने जिले के सीएमओ को निलंबित कर दिया है. इसके बाद जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग की कमान अपने हाथो में ले ली है और लोगों को मौसमी बीमारियों से बचने की जानकारी दी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज