Assembly Banner 2021

बदायूं गैंगरेप-हत्‍याकांड: डीएम और एसएसपी सस्‍पेंड

चर्चित बदायूं गैंगरेप-हत्‍याकांड मामले में लंबे समय बाद मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार कड़ी कार्रवाई की। मुख्‍यमंत्री ने बदायूं के डीएम शंभूनाथ यादव और एसएसपी अतुल सक्सेना को सस्‍पेंड कर दिया।

चर्चित बदायूं गैंगरेप-हत्‍याकांड मामले में लंबे समय बाद मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार कड़ी कार्रवाई की। मुख्‍यमंत्री ने बदायूं के डीएम शंभूनाथ यादव और एसएसपी अतुल सक्सेना को सस्‍पेंड कर दिया।

चर्चित बदायूं गैंगरेप-हत्‍याकांड मामले में लंबे समय बाद मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार कड़ी कार्रवाई की। मुख्‍यमंत्री ने बदायूं के डीएम शंभूनाथ यादव और एसएसपी अतुल सक्सेना को सस्‍पेंड कर दिया।

  • Share this:
चर्चित बदायूं गैंगरेप-हत्‍याकांड मामले में लंबे समय बाद मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार कड़ी कार्रवाई की। मुख्‍यमंत्री ने बदायूं के डीएम शंभूनाथ यादव और एसएसपी अतुल सक्सेना को सस्‍पेंड कर दिया।

पुलिस और प्रशासन के इन दोनों अधिकारियों पर मामले को गंभीरता से नहीं लेने का आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि पीड़ित परिवार को लगातार मिल रही धमकियों के चलते मुख्‍यमंत्री ने दोनों अधिकारियों को सस्‍पेंड किया है।

प्रदेश के डीजीपी आनंद लाल बनर्जी ने कहा कि जिस जगह पर दोनों लड़कियों के शव पाए गए, वहां से पुलिसकर्मियों ने सबूत जुटाने में लापरवाही दिखाई।



धमकियों से परेशान पीड़ित परिवार इलाका छोड़कर दिल्‍ली जाने की तैयारी में है। परिवार के मुखिया का कहना है कि उन्हें पुलिस की सुरक्षा मिलने के बावजूद लगातार तरह-तरह की धमकियां दी जा रही हैं। वे कह रहे हैं कि जैसे ही मामला कुछ ठंडा होगा, दबंग उनके पूरे परिवार को खत्म कर डालेंगे।
मालूम हो कि बदायूं के उसहैत थाना क्षेत्र के कटरा सादतगंज क्षेत्र में 27 मई की रात शौच करने गई 14 और 15 साल की चचेरी बहनों के शव अगले दिन सुबह एक बाग में पेड़ पर फंदे से लटकते पाये गये थे।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनकी सामूहिक बलात्कार के बाद फांसी पर चढ़ाकर हत्या किया जाने की पुष्टि हुई थी। इस मामले में दो पुलिसकर्मियों समेत सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। उनमें से पांच को गिरफ्तार किया जा चुका है।

दोनों आरोपी पुलिसकर्मियों को बर्खास्‍त कर दिया गया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पीड़ित परिजन को पूरी सुरक्षा तथा पांच-पांच लाख रुपये मुआवजे का एलान किया था, जिसे परिजन ने ठुकरा दिया था। मुख्यमंत्री ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज