Lockdown: दिव्यांग परिवार भीख मांगकर भोजन करने को मजबूर, कोटेदार पर खाद्यान्न हड़पने का आरोप
Badaun News in Hindi

Lockdown: दिव्यांग परिवार भीख मांगकर भोजन करने को मजबूर, कोटेदार पर खाद्यान्न हड़पने का आरोप
बदायूं में एक कोटेदार पर गरीब दिव्यांग परिवार का खाद्यान्न हड़पने का आरोप लगा है.

बदायूं (Badaun): मामले में जिला पूर्ति अधिकारी रामेंद्र सिंह कहते हैं कि जांच कराई जा रही है और जांच के बाद दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
बदायूं. एक ओर जहां लॉकडाउन (Lockdown) में सरकार से लेकर आमजन सेवा में लगे हुए हैं, वही बदायूं में एक कोटेदार गरीब दिव्यांग के खाद्यान्न पर डाका डाल रहा है. लाचार ये परिवार गांव के ही लोगों से राशन की भीख मांगकर अपने परिवार का पेट पाल रहा है. मामला बिल्सी ब्लाक के खैरी गांव का है. आरोप है कि खाद्यान्न एक कोटेदार द्वारा गरीब दिव्यांग परिवार का हजम कर लिया जाता है और जब यह गरीब परिवार अपना खाद्यान्न मांगता है तो कोटेदार उन्हें भद्दी- भद्दी गालियां देकर भगा देता है. इस पूरे मामले में जिलापूर्ति अधिकारी से शिकायत की गई है, जिलापूर्ति अधिकारी ने मामले की जांच बिठा दी है.

मामला बदायूं के बिल्सी तहसील क्षेत्र के गांव खैरी का है. आरोप है कि यहां कोटेदार अशरफ अली ने अपने 2 बच्चों का नाम एक गरीब तालिब अली के अंत्योदय कार्ड में शामिल करा दिया. अब वह हर महीने मिलने वाले खाद्यान्न को अपने बच्चे के अंगूठा लगाकर प्राप्त कर लेते हैं. जब गरीब तालिब अली खद्यान लेने पहुंचता है तो उसे कोटेदार गाली देकर भगा देते हैं.

दिव्यांग परिवार पर अत्याचार देख ग्रामीण आगे आए



स्थानीय लोगों का कहना है कि तालिब अली तीन बहन-भाई हैं. दिव्यांग हैं. खैरी के रहने वाले शामे अली ने बताया कि तालिब अली की कोई शादी नहीं हुई और न ही कोई बच्चा है. बावजूद इसके कोटेदार ने अपने दो बच्चे अरशुमा खान और हिफजा खान को तालिब अली के कार्ड में जोड़कर उनका बेटा व बेटी बना दिया और हर महीने का मिलने वाला राशन हजम करने लगा. जब बात कई लोगों के कान तक पहुंची तो सभी लोगों ने तालिब अली की मदद को हाथ बढ़ाएं और मामले की शिकायत बदायूं के जिलापूर्ति अधिकारी से की है.



जांच के बाद दोषी पर र्कारवाई: जिल पूर्ति अधिकारी

लोगों ने बताया कि मामला अधिकारियों के पास तक पहुंचा तो कोटेदार में खलबली मच गई. जिससे कोटेदार बौखला गया. लेकिन अभी भी कोटेदार ने गरीब परिवार को खाद्यान्न नहीं दिया, जिससे गरीब परिवार का पालन पोषण होना बहुत मुश्किल हो गया है. इस समय पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है और सभी लोगों के काम धंधे भी बंद हैं. मामले में जिला पूर्ति अधिकारी रामेंद्र सिंह कहते हैं कि जांच कराई जा रही है और जांच के बाद दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें:

इच्छुक प्रवासी श्रमिकों के UP लौटने तक जारी रहेगी नि:शुल्क ट्रेनें: सीएम योगी

सूरत से लौटा शख्स प्रयागराज से पहुंचा कानपुर, बिना जांच खेत में क्वारेंटाइन
First published: May 29, 2020, 3:51 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading