लाइव टीवी

इंजीनियर ने छोड़ी 6 लाख की नौकरी, इस मुहिम के लिए 17,000KM लंबी यात्रा पर निकला


Updated: May 17, 2018, 2:35 PM IST

बच्चों के भीख मांगने के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले मैकेनिकल इंजीनियर आशीष शर्मा कई राज्यों को लांघने के बाद गुरूवार को यूपी पहुंचे

  • Last Updated: May 17, 2018, 2:35 PM IST
  • Share this:
एक बच्चे को भीख मांगता देखकर 6 लाख नौकरी छोड़कर 17,000 किलोमीटर की पैदल यात्रा पर निकले मैकेनिकल इंजीनियर आशीष शर्मा गुरूवार को बदायूं पहुंचे. बदायूं पहुंचने पर लोगों ने आशीष का जबर्दस्त स्वागत किया. बच्चों के भीख मांगने के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले इंजीनियर आशीष शर्मा कई राज्यों को लांघने के बाद गुरूवार को यूपी पहुंचे.

रिपोर्ट के मुताबिक अपनी मुहिम के लिए इंजीनियर आशीष शर्मा अब तक हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दमन और मध्य प्रदेश की पैदल यात्रा कर चुके हैं और उत्तर प्रदेश का बदायूं जिला उनका अगला पड़ाव था, जहां उन्होंने बच्चों के भीख मांगने के खिलाफ लोगों को जागरूक किया.

दिल्ली निवासी आशीष शर्मा पेशे से एक मैकेनिकल इंजीनियर है, लेकिन एक दिन जब उनकी नजर ऑफिस से बाहर भीख मांगने वाले बच्चों पर पड़ी तो उन्हें काफी पीड़ा हुई और इसके तुरंत बाद उन्होंने 6 लाख रुपए की सालाना नौकरी को तिलांजलि देकर ऐसे बच्चों की सेवा में लग गए. आशीष अब कई ऐसे बच्चों का स्कूल को भर्ती करवाने में सफलता पाई है, जो कभी सड़कों पर भीख मांगकर गुजारा करने को मजबूर थे.

भीख मांगने वाले बच्चों को स्कूल भेजने की मुहिम में जु़ड़े आशीष शर्मा ने बताया कि उनकी यात्रा का उद्देश्य लोगों को जागरूक करना है ताकि वो भिखारियों के प्रति सहानभूति तो रखे, लेकिन उन्हें भीख बिल्कुल ना दें. आशीष ने बताया कि उनका काम आसान नहीं है, क्योंकि ऐसे लाखों बच्चे हैं, जो ट्रेन, बस, और भीड़-भाड़ वाले इलाकों में भीख मांगते दिख जाएंगे.

आशीष ने बताया कि बच्चों से भीख मंगवाने के पीछे एक पूरा एक रैकेट काम करता है, जो इन बच्चों के द्वारा लाखों रुपया कमाते हैं. उन्होंने कहा कि रैकेट के खिलाफ लड़ना काफी मुश्किल है बावजूद इसके उन्होंने ऐसे बच्चों के उत्थान के लिए आगे आए हैं.

आशीष ने बताया कि उन्होंने एक एप भी विकसित करने में सफलता पाई है, जिसकी मदद से बच्चों से भीख मंगवाने की समस्या को जड़ से खत्म किया जा सकेगा. अपनी इस मुहिम के लिए पूरे देश में घूम रहे आशीष जहां पहुंचते हैं लोगों को अपने मिशन के बारे में बताते हैं और उनसे बच्चों को भीख नहीं देने के लिए प्रेरित करते हैं. आशीष ने बताया कि उनके अभियान को लोगों का काफी सपोर्ट मिल रहा है और लोग इस ओर ध्यान भी दे रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बदायूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 17, 2018, 2:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर