बड़ी खबर: जयंत चौधरी बने RLD के राष्ट्रीय अध्यक्ष, सामने है ये दोहरी चुनौती

जयंत चौधरी इससे पहले राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्‍यक्ष थे.

जयंत चौधरी इससे पहले राष्ट्रीय लोक दल के उपाध्‍यक्ष थे.

Rashtriya Lok Dal News: राष्ट्रीय लोक दल के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजीत सिंह की मृत्यु के बाद पार्टी की 34 लोगों की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में जयंत चौधरी को बड़ी जिम्‍मेदारी दी गई है. उन्‍हें पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुना गया है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली/ बागपत. राष्ट्रीय लोक दल (Rashtriya Lok Dal) के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजीत सिंह (Ajit Singh) की मृत्यु के बाद उपाध्‍यक्ष जयंत चौधरी को बड़ी जिम्‍मेदारी देने का ऐलान हुआ है. दिल्‍ली में आज यानी 25 मई को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) को पार्टी का नया राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चुना गया है.

आज यानी मंगलवार सुबह करीब 11 बजे आरएलडी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की वर्चुअल बैठक में फैसला हुआ. इस दौरान आरएलडी की कार्यकारिणी के 34 सदस्यों ने नये अध्यक्ष का चयन किया. इस समय पार्टी में अध्यक्ष जयंत चौधरी के अलावा आठ राष्ट्रीय महासचिव, 14 सचिव, तीन प्रवक्ता और 11 कार्यकारिणी सदस्यों समेत 37 पदाधिकारी हैं. बता दें कि कुछ दिनों पहले ही आरएलडी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजीत सिंह का कोरोना की वजह से निधन हुआ था. उन्‍होंने गुरुग्राम में मेदांता अस्‍पताल में आखिरी सांस ली थी.

अजीत सिंह की अस्वस्थता के दौरान जयंत ने संभाल रखी थी पार्टी की बागडोर

पार्टी के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक, जयंत चौधरी का राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में चुना जाना पहले से तय था, क्‍योंकि वह लंबे समय से राजनीति में सक्रिय हैं और जब अजीत सिंह अस्वस्थ चल रहे थे, तब जयंत ही पार्टी की गतिविधियां चला रहे थे और जरूरी फैसले किया करते थे. यही नहीं, पार्टी के सीनियर नेताओं का मानना था कि जयंत अब पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष की जिम्‍मेदारी उठाने के लिए पूरी तरह तैयार हो चुके हैं.
जयंत के सामने है दोहरी चुनौती

फिलहाल आरएलडी बिना किसी सांसद-विधायक की पार्टी है और उसे मजबूती से खड़ा करना जयंत के लिए बड़ी चुनौती है. जबकि दादा और पिता की तरह किसानों की राजनीति समझने वाले जयंत चौधरी को किसान आंदोलन की लड़ाई जारी रखनी होगी. वैसे उन्‍होंने अध्यक्ष पद संभालते ही संयुक्त किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कार्यकर्ताओं से बुधवार को इसमें बड़ी संख्या में भाग लेने का आह्वान किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज