लाइव टीवी

कैदियों ने प्राइवेट पार्ट के जरिए पेट में छिपाया मोबाइल और चरस, ऐसे खुली पोल

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 17, 2019, 11:07 PM IST
कैदियों ने प्राइवेट पार्ट के जरिए पेट में छिपाया मोबाइल और चरस, ऐसे खुली पोल
बंदी अपने गुप्तांग के जरिए मोबाइल (Mobile) और सुल्फा/चरस (Sulfa) पेट में छिपाकर जेल पहुंच गए. दोनों कैदियों के जेल पहुंचने के कुछ देर बाद पेट में दर्द होने लगा.

बंदी अपने गुप्तांग के जरिए मोबाइल (Mobile) और सुल्फा/चरस (Sulfa) पेट में छिपाकर जेल पहुंच गए. दोनों कैदियों के जेल पहुंचने के कुछ देर बाद पेट में दर्द होने लगा.

  • Share this:
बागपत. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की बागपत जेल (Baghpat Jail) में दो कैदियों (prisoners) पर उन्हीं की चालाकी भारी पड़ गई. दरअसल कोर्ट (Court) में पेशी के बाद वापस लौट रहे दो बंदी अपने गुप्तांग के जरिए मोबाइल (Mobile) और सुल्फा/चरस (Sulfa) पेट में छिपाकर जेल पहुंच गए. दोनों कैदियों के जेल पहुंचने के कुछ देर बाद पेट में दर्द होने लगा, जिसके बाद वो बेचैन हो गए और छटपटाने लगे.

पेट में दर्द बढ़ने के बाद दोनों कैदियों को जेल के अधिकारियों जेल अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उनका इलाज शुरू हुआ. लेकिन दर्द से उन्हें कोई राहत नहीं मिली. इसके बाद जब कैदियों ने डॉक्टर को दर्द होने की वजह बताई तो डॉक्टर भी हैरान रह गए.

डॉक्टर ने तुरंत ही इसकी सूचना जेल अधिकारियों को दी और उनके पेट से मोबाइल व सुल्फे की बत्ती निकालने में जुट गए. बताया जा रहा है कि लोनी के रहने वाले बंदी के पेट से सुल्फे की बत्तियां निकाली जा चुकी है.

ये है मामला..

दरअसल सोमवार को जिला जेल से काफी बंदी बागपत न्यायालय में पेशी के लिए पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि वहां लोनी और बागपत के रहने वाले बंदियों ने पुलिसवालों से सांठगांठ कर अपने परिजनों से मुलाकात की. इनमें लोनी के रहने वाले बंदी ने परिजनों से सुल्फा लिया. उसकी तीन बत्ती बनाई. फिर उसे पॉलीथिन में लपेटा. इसके बाद एक-एक बत्ती को गुप्तांग के जरिए पेट में पहुंचा दीं. जबकि बागपत के बंदी ने भी परिजनों से मोबाइल फोन लिया और फिर उसे गुप्तांग के जरिए पेट में पहुंचा लिया. पेशी के बाद ये दोनों बंदी भी अन्य बंदियों के साथ वापस जेल पहुंच गए. वहां पहुंचते ही उनके पेट में दर्द शुरू हो गया.

बता दें, कुछ दिन पहले दिल्ली की तिहाड़ जेल में भी एक कैदी के पेट से मोबइल निकाला गया था. कैदी के पेट में चार मोबाइल थे. जिन्हें पेट के बाहर निकाला गया था.

ये भी पढ़ें-- पार्क में लड़कियों को देख करता था 'गंदा काम', अब 11 दिन बाद पुलिस ने पकड़ा
Loading...

तेजस्वी राज में हाशिए पर लालू के 'खास', इनके दम पर राबड़ी ने किया था राज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागपत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 17, 2019, 10:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...