ऋचा पटेल को कुरान बांटने की सजा पर भड़कीं साध्वी प्राची, बोलीं- देश विरोधी गैंग सक्रिय

साध्वी प्राची ने कहा कि अगर कोर्ट ऋचा को कुरान बांटने का फैसला दे सकता है, तो राम मंदिर तोड़ने वालों को कांवड़ लाने का फैसला भी सुनाना चाहिए.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 17, 2019, 1:46 PM IST
ऋचा पटेल को कुरान बांटने की सजा पर भड़कीं साध्वी प्राची, बोलीं- देश विरोधी गैंग सक्रिय
साध्वी प्राची की फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 17, 2019, 1:46 PM IST
सोशल साइट पर आपत्तिजनक पोस्‍ट करने के मामले में ऋचा पटेल को झारखंड की एक अदालत ने 15 दिनों में कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर जमानत दी है. ऋचा ने इस निर्णय को हाईकोर्ट में चुनौती देने की बात कही है. ऐसे में अब यह मामला सियासी तूल पकड़ने लगा है. बागपत में साध्वी प्राची ने कोर्ट के इस फैसले को सीरिया में जारी होने वाले फतवे जैसा बताया है. उन्होंने इस पर बेहद तल्‍ख टिप्‍पणी करते हुए कहा कि हिंदुस्तान में देश विरोधी गैंग सक्रिय हो रहे हैं.

साध्वी प्राची ने कहा कि अगर कोर्ट ऋचा को कुरान बांटने का फैसला दे सकता है तो राम मंदिर तोड़ने वालों को कांवड़ लाने का फैसला भी सुनाना चाहिए. उन्होंने कहा कि जज को कुरान नहीं, बल्कि वेद बांटने का फैसला देना चाहिए था. साध्‍वी प्राची ने आगे कहा कि यह जज का फैसला नहीं, बल्कि सीरिया देश जैसा फतवा है.

ऋचा ने फैसला मानने से किया इनकार

बता दें कि ऋचा पटेल ने कोर्ट के इस फैसले को मानने से इनकार कर दिया है और वह झारखंड हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की बात कही है. न्यूज-18 झारखंड के लाइव शो में ऋचा ने कहा, 'बिना किसी जांच के मेरे ऊपर कार्रवाई की गई. मुझे जेल भेज दिया गया. कोर्ट के फैसले का विरोध इसलिए कर रही हूं, क्योंकि यह मुझे सजा के तौर पर सुनाई गई है. मैं कुरान का विरोध नहीं कर रही हूं. मेरे लिए जैसे गीता वैसे ही कुरान भी है.'

ऋचा पटेल


ऋचा ने कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि सजा किस बात की. पोस्ट मेरा नहीं था और उस पर मेरी टिप्पणी आपत्तिजनक नहीं थी, तो सजा किस बात के लिए. उन्‍होंने कहा कि वकील से बात हो गई है और वह लोअर कोर्ट के फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील करेंगी. ऋचा ने कहा, 'अगर मेरी टिप्पणी से किसी को ठेस पहुंचा है, तो दूसरे समुदाय से इससे भी गंदे पोस्ट आते हैं उस वक्‍त कार्रवाई क्यों नहीं होती है? पुलिस ने दबाव में आकर मेरे ऊपर कार्रवाई की है.' ऋचा ने हालांकि स्‍पष्‍ट किया कि उनके साथ कोई गलत सलूक नहीं किया गया.

ये है पूरा मामला
Loading...

बता दें कि ऋचा पटेल ने सोशल साइट पर धार्मिक पोस्ट किया था. इसके बाद अंजुमन इस्लामिया (पिठोरिया) के प्रमुख मंसूर खलीफा ने रांची के पिठोरिया थाने में 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इसमें उन्होंने ऋचा पर मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया है. इसके बाद पुलिस ने शुक्रवार की शाम को ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इस मामले में सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर ऋचा को जमानत दी थी. कोर्ट ने यह भी कहा था कि पिठोरिया पुलिस के संरक्षण में मंगलवार शाम तक ऋचा कुरान की एक प्रति अंजुमन इस्लामिया के सदर मंसूर खलीफा को देंगी. बाकी चार विभिन्न शिक्षण संस्थानों में बांटेंगी. इसके लिए ऋचा को 15 दिन का समय दिया गया है.

ये भी पढ़ें:

बाहुबली अतीक अहमद के ठिकानों पर CBI छापे, 40 से ज्यादा अधिकारी तलाश रहे सबूत

आखिर क्यों कभी मुलायम के साथ खड़े रहे क्षत्रिय नेता एक-एक कर अखिलेश यादव का साथ छोड़ रहे?
First published: July 17, 2019, 1:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...