बहराइच: एक गांव की दो महिलाओं को दिया गया तीन तलाक

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 23, 2019, 6:17 PM IST
बहराइच: एक गांव की दो महिलाओं को दिया गया तीन तलाक
बहराइच के एक गांव में दो महिलाओं को उनके पति ने तीन तलाक दे दिया है.

खबर भारत नेपाल सीमा बहराइच (Behraich) से है, जहां सीमा के पास के गांव में तीन तलाक (Triple Talaq) का मामला सामने आया है. मामला बहराइच के भारत नेपाल सीमा से 2 किलोमीटर पहले स्थित रुपईडीहा के ग्राम सभा जैतापुर के रामपुर गांव का है.

  • Share this:
खबर भारत नेपाल सीमा बहराइच (Behraich) से है, जहां सीमा के पास के गांव में तीन तलाक (Triple Talaq) का मामला सामने आया है. मामला बहराइच के भारत नेपाल सीमा से 2 किलोमीटर पहले स्थित रुपईडीहा के ग्राम सभा जैतापुर के रामपुर गांव का है. यहां एक ही गांव की रहने वाली दो मुस्लिम महिलाओं को उनके शौहर ने तलाक दे दिया. एक महिला को मुम्बई से उसके पति ने फ़ोन पर तलाक दिया तो वहीं दूसरी महिला को उसके पति ने पहले बुरी तरह से मारा-पीटा, उसे तलाक देकर घर से बाहर निकाल दिया. दोनों पीड़ित महिलाएं कई बार थाने के चौखट पर दस्तक देती रहीं मगर उन्हें थाने से भगा दिया गया है. तलाक से पीड़ित महिलाएं इंसाफ न मिलने के कारण आत्महत्या करने की बात कर रही हैं.

एक ओर जहां मुस्लिम महिलाओं की सुरक्षा के लिए मोदी सरकार ने ट्रिपल तलाक देने वालों के लिए कड़े कानून बनाये हैं. कड़े कानून बनने के बाद भी तलाक के मामले रुक नहीं रहे हैं. तलाक से पीड़ित महिला साज़रुन निशा ने बताया कि उसके पति शमसेर खान ने उसे फ़ोन पर तलाक दे दिया है. उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई है. तलाक मिलने के बाद जब मैं रुपईडीहा थाने गई तो वहां मुझे पुलिस वालों ने भाग दिया. साजरुन का कहना है कि अगर इंसाफ नही मिलेगा तो वह आत्महत्या कर लेगी.

jabbar behraich
पीड़िता के पिता झब्बार खां.


रुपईडीहा बॉर्डर के ग्राम सभा जैतापुर के ग्राम रामपुर निवासी झब्बार खां ने बताया कि उन्होंने अपनी बेटी साज़रुन निशा की शादी थाना नाबबगंज इलाके के ग्राम बघमरी निवासी समसेर के साथ मुस्लिम रीति रिवाज से की थी. शादी के बाद उनकी बेटी को शमशेर मुम्बई ले गया, वहीं दोनों रहते थे. अभी एक महीने पहले मेरी बेटी को मुम्बई से लाकर छोड़कर चुपके से भाग गया और मेरी बेटी को शमशेर ने मोबाइल फ़ोन पर तीन बार तलाक दे दिया है. झब्बार कहते हैं कि मै विकलांग हूं, कैसे अपनी बेटी की जीविका चलाऊं. मैं अपनी बेटी को थाने व एसपी के पास लेकर गया मगर वहां हमारी नहीं सुनी गई.

वहीं इसी गांव की रहने वाली दूसरी तलाक पीड़ित महिला सबीना ने बताया कि उसके पति मुश्ताक ने बुरी तरह से मारपीट कर भगा दिया है और उसके बाद मुझे तलाक दे दिया है. इसके बाद वह अपने पिता के साथ रुपईडीहा थाने और रामगांव थाने गई तो वहां से उसे भगा दिया गया.

yaqoob behraich
पीड़िता सबीना के पिता याकूब.


सबीना के पिता याकूब ने बताया कि उन्होंने डेढ़ साल पहले दो बीघे जमीन बेंच कर अपनी बेटी की शादी सुभानपुरवा निवासी मुश्ताक के साथ की थी. मगर आये दिन उनकी बेटी को परेशान किया जाता था. जब बेटी ने मुझे फ़ोन कर कहा कि मुझे यहां बहुत मारा-पीटा जा रहा है तो मैं बेटी को लेने सुभानपुरवा गया. इस पर मुश्ताक ने तीन बार मेरी बेटी को तलाक दे दिया. उसके बाद वह अपनी बेटी के साथ रुपईडीहा थाने व रामगांव थाने गए मगर कोई सुनवाई नहीं हुई. रामगांव थाने से डांट कर भगा दिया गया. उधर पुलिस का कहना है है कि रुपईडीहा थाने में केस दर्ज कर लिया गया है. जांच की जा रही है.
Loading...

(रिपोर्ट: अखिलेश कुमार)

ये भी पढ़ें:

दूसरी शादी कर ससुराल पहुंचा युवक, पहली बीवी को दे डाला तलाक

बकरी चराने से नाराज दादा ने गला काटकर कर दी पोते की हत्‍या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बहराइच से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 6:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...