होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /नेपाल क्या गई पति की मौत के बाद मिलने वाली पेंशन ही छिन गई, जानें क्या है इस वृद्ध महिला का दर्द

नेपाल क्या गई पति की मौत के बाद मिलने वाली पेंशन ही छिन गई, जानें क्या है इस वृद्ध महिला का दर्द

रूपईडीहा के केवलपुर गांव की रहने वाली एक वृद्ध महिला पेंशन के लिए दर दर भटक रही है.

रूपईडीहा के केवलपुर गांव की रहने वाली एक वृद्ध महिला पेंशन के लिए दर दर भटक रही है.

Bahraich news: रूपईडीहा के केवलपुर गांव की रहने वाली एक वृद्ध महिला पेंशन के लिए दर दर भटक रही है. उसके पति की मौत के ब ...अधिक पढ़ें

बहराइच. रूपईडीहा के केवलपुर गांव की रहने वाली एक वृद्ध महिला पेंशन (Pension) के लिए अधिकारियों के दर पर दस्तक दे रही है. बिजली विभाग के कर्मी कभी दो देश तो कभी घूस के लिए उसका कागजात नहीं बना रहे हैं. परेशान महिला ने पड़ोसी की मदद से डीएम से गुहार लगाई है. इस मामले में अब डीएम ने कार्रवाई का निर्देश बिजली विभाग को दिया है.

सरकारी काम के लिए आम ग्रामीणों को किस तरह अधिकारियों के यहां चक्कर लगाना पड़ता है, इसकी बानगी नानपारा तहसील के केवलपुर निवासी वृद्ध महिला से बेहतर कोई नहीं जान सकता है. हुआ यूं कि लाल बहादुर मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड बहराइच के नानपारा क्षेत्र में बिजली कर्मी के पद पर तैनात था. वर्ष 2005 में लाल बहादुर सेवानिवृत्त हो गए. इस पर विभाग द्वारा उसे पेंशन आदेश संख्या 1289 पर पांच अक्टूबर 2005 ग्रेच्युटी का भुगतान किया गया.

इसके बाद उसे विभाग द्वारा वर्ष 2016 तक पेंशन दी गई. इसी दौरान लाल बहादुर की मौत हो गई. पति की मौत के बाद महिला अपने बेटे के पास नेपाल में चली गई. ऐसे में पेंशन की आधी धनराशि उसकी पत्नी महीन कला को मिलनी थी, लेकिन उसे नहीं मिली. महिला ने कई बार गुहार लगाई, लेकिन उसे अब तक पेंशन नहीं मिली. महिला अपने पुत्र के साथ मंध्याचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड प्रधान कार्यालय पहुंचकर न्याय की गुहार लगा रही है, लेकिन कार्यालय के बाबू कभी दो देश तो कभी दूसरे दिन आने की बात कहकर मामले को टाल रहे हैं.

डीएम से की शिकायत
शनिवार को महिला ने जिलाधिकारी डॉक्टर दिनेश चंद्र से अपनी व्यथा सुनाई. जिलाधिकारी ने बिजली विभाग के अधिशाषी अधिकारी को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

दूसरे की मदद से न्याय के लिए चक्कर लगा रही महिला
नेपाली मूल की महिला काफी गरीब है. साथ ही उसकी उम्र भी 70 वर्ष के आसपास पहुंच गई है. ऐसे में ओझल आंखों के सहारे वह न्याय के लिए भटकने को मजबूर है, लेकिन अधिकारियों का दिल नहीं पसीज रहा है. उसे उसकी पेंशन का हक नहीं मिल पाया है.

Tags: Bahraich news, UP news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें