Home /News /uttar-pradesh /

UP News: बहराइच में आतंक का पर्याय बना दूसरा तेंदुआ भी हुआ कैद, अब तक चार को बना चुका था निवाला

UP News: बहराइच में आतंक का पर्याय बना दूसरा तेंदुआ भी हुआ कैद, अब तक चार को बना चुका था निवाला

 मोतीपुर रेंज के गांवों में बीते एक सप्ताह से खूंखार तेंदुओं का आतंक था.

मोतीपुर रेंज के गांवों में बीते एक सप्ताह से खूंखार तेंदुओं का आतंक था.

Leopard Attack: दोनों तेंदुओं को पकड़ने के लिए वन विभाग ने पिंजरे लगाए हुए थे. इसी पिंजरे के अंदर सोमवार को दूसरा तेंदुआ कैद हो गया. वन विभाग के लोग तेंदुए को लेकर रेंज कार्यालय पहुंचे हैं. स्वास्थ्य परीक्षण के बाद उसे जंगल में छोड़ा जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

बहराइच. मोतीपुर रेंज के नौसर गुमटिहा गांव में सोमवार रात को ग्रामीणों ने उस समय राहत की सांस ली, जब गांव में घूम रहा दूसरा तेंदुआ ​(Leopard) भी पकड़ा गया. इससे पहले एक रविवार को भी एक तेंदुए को पकड़ा गया था. दरअसल दोनों खूंखार तेंदुओं ने पिछले कुछ दिनों से गांव में आतंक मचाया हुआ था, जिससे गांव वाले खासे परेशान थे. इन तेंदुओं के हमले के कारण चार लोगों की मृत्यु हो चुकी है.

दरअसल दोनों तेंदुओं को पकड़ने के लिए वन विभाग ने पिंजरे लगाए हुए थे. इसी पिंजरे के अंदर सोमवार को दूसरा तेंदुआ कैद हो गया. वन विभाग के लोग तेंदुए को लेकर रेंज कार्यालय पहुंचे हैं. स्वास्थ्य परीक्षण के बाद उसे जंगल में छोड़ा जाएगा. गौरतलब है कि कतर्नियाघाट वन्यजीव प्रभाग के मोतीपुर रेंज के गांवों में बीते एक सप्ताह से खूंखार तेंदुओं का आतंक था. जब इनके हमले में चार लोगों की मौत हुई तो वन महकमा जागा.

रविवार को कैद हुआ था पहला तेंदुआ
इसके बादनौसर गुमटिहा गांव में दो स्थान पर पिंजरा लगाया गया था. रविवार रात 7.30 बजे के आसपास तीन वर्ष का नर तेंदुए पिंजरे में कैद हुआ था. उसे गोरखपुर चिड़िया घर में भेज दिया गया है. वहीं, सोमवार रात आठ बजे के आसपास दूसरा तेंदुआ नौसर गुमटिहा के बेहननपुरवा गांव के पिंजरे में कैद हो गया. वन क्षेत्राधिकारी महेंद्र मौर्य ने सूचना प्रभागीय वनाधिकारी आकाशदीप वधावन को दी. तेंदुए को सकुशल रेंज कार्यालय लाया गया.

बकरी के शिकार में फंसा
डीएफओ ने बताया कि 24 घंटे में दूसरा तेंदुआ पिंजरे में कैद हुआ है. अब क्षेत्र में तेंदुए के मौजूदगी की संभावना नहीं है. तेंदुए को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद जंगल में छोड़ दिया जाएगा. इसके लिए उच्चाधिकारियों से वार्ता चल रही है. वार्ता के बाद ही तेंदुए को जंगल में छोड़ा जाएगा. बेहननपुरवा गांव में बकरी के शिकार में तेंदुआ पिंजरे में कैद हुआ. ट्रांस गेरुआ में छोड़ाडीएफओ ने बताया कि स्वास्थ्य परीक्षण में तेंदुआ पूरी तरह से स्वस्थ है. उसकी उम्र सात वर्ष है.

Tags: Leopard attack

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर