लाइव टीवी

सपा सरकार में मंत्री रहे वंशीधर बौध अब करते हैं लावारिस गायों की सेवा
Bahraich News in Hindi

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 12, 2017, 3:34 PM IST

सूबे की पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी सरकार में मंत्री रहे वंशीधर बौध आजकल गौसेवा से जुड़े गए हैं. बताते हैं कतर्नियाघाट के वन ग्राम स्थित टेडिया गांव में सैकडों गायों की सेवा का जिम्मा खुद संभाल रहे वंशीधर गायों का चारा खिलाने से लेकर उनके इलाज का काम भी खुद ही करते हैं.

  • Share this:
सूबे की पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी सरकार में मंत्री रहे वंशीधर बौध आजकल गौसेवा से जुड़े गए हैं. बताते हैं कतर्नियाघाट के टेडिया गांव में स्थित वन ग्राम सैकडों गायों की सेवा का जिम्मा खुद संभाल रहे वंशीधर गायों का चारा खिलाने से लेकर उनके इलाज का काम भी खुद ही करते हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक अखिलेश सरकार में मंत्री रहे वंशीधर बौध अधिकतर उन्हीं गायों की वनग्राम में लाकर सेवा करते हैं, जिन गायों को उनके पालक किन्हीं कारणों से जंगल में लाकर छोड देते हैं. यही कारण है कि उनके प्रयासों की सराहना आज विरोधी दल भाजपा भी करने से खुद को नहीं रोक पाती हैं.

सपा सरकार में समाज कल्याण राज्यमंत्री रहे वंशीधर बौध अपनी ईमानदारी और सादगी के लिए सुर्खियों में रहते थे. लेकिन अब वो गौ सेवा को लेकर सुर्खियों में हैं, जिन्हें अक्सर गाहे-बगाहे लुंगी पहन कर गायों के पीछे दौड़ते-भागते और उनके चारे के लिए घास छीलते उनके गांव में देखा जा सकता है.

गौ सेवा के प्रति उनके रूझान के जवाब में वंशीधर ने बताया कि जब भी वो जंगलों से होकर अपने घर आते-जाते थे तो रास्ते में पड़ी बीमार गायों को देखकर उनका मन द्रवित हो उठता था और एक दिन उन्होनें जंगल और उसके आसपास रहने वाली लावरिस गायों की सेवा करने का संकल्प ले लिया.

उल्लेखनीय है बतौर जिला पंचायत सदस्य के रूप में राजनीति में पदार्पण करने वाले वंशीधर बौध शुरूआत में बसपा से जुडे थे, लेकिन 2014 लोक सभा चुनाव के बाद रिक्त हुए बलहा सुरक्षित विधान सभा सीट के लिए हुए उप चुनाव से वंशीधर पहली बार सपा के टिकट पर विधायक चुने गए और अखिलेश सरकार मंडल विस्तार में मंत्री भी बन गए.

ईमानदारी और कर्मठता के लिए मशहूर वंशीधर बौध करीब ढाई सालों तक अखिलेश सरकार में समाज कल्याण राज्यमंत्री रहे, लेकिन इस दौरान भी वंशीधर टेडिया गांव में बना अपना फूंस का मकान पक्का नहीं करवा सके, जहां आज भी वो अपने परिवार के साथ रहते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बहराइच से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2017, 3:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर