CHC अधीक्षकों का फर्जी दस्तखत कर CMO को पेमेंट के लिए बिल भेजा, आरोपी फर्म्स पर केस दर्ज

पुलिस दोनों फर्म पर केस दर्ज कर जांच में जुटी है.
पुलिस दोनों फर्म पर केस दर्ज कर जांच में जुटी है.

बहराइच सीएमओ (CMO) डॉ. सुरेश सिंह ने दोनों फर्म के विरुद्ध कोतवाली थाने में तहरीर (Complaint) दी. पुलिस ने धोखाधड़ी (Cheating) समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

  • Share this:
बहराइच. यूपी के बहराइच में फर्जीवाड़े (Cheating) का बड़ा मामला सामने आया है. सीएचसी अधीक्षक का फर्जी हस्ताक्षर (Fake Signature) कर सीएमओ (CMO) को भुगतान के लिए भेज दिया गया. जांच में जब इस का बात का खुलासा हुआ तो सीएमओ ने दोनों फर्म पर मुकदमा दर्ज कराया है. हुजूरपुर और जरवल सीएचसी के अधीक्षक के नाम पर फर्जीवाड़े की कोशिश की गई.

ऐसे हुआ खुलासा 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना के अंतर्गत जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम में प्रसूता महिलाओं को भोजन वितरित करने के लिए दो फर्म को टेंडर दिये गये थे. लेकिन दोनों फर्म ने जरवल और हुजूरपुर के सीएचसी अधीक्षक का फर्जी हस्ताक्षर कर भुगतान के लिए सीएमओ के पास भेज दिया. हस्ताक्षर अलग होने पर सीएमओ ने जांच कराई तो दोनों फर्म द्वारा फर्जी हस्ताक्षर किये जाने की बात सामने आई. सीएमओ ने दोनों फर्म के विरुद्ध कोतवाली नगर में मुकदमा दर्ज कराया है. पुलिस ने विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.




मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. सुरेश कुमार ने कहा कि मेसर्स कामर्शियल ट्रेडिंग कंपनी बरहियापुरा बहराइच की ओर से सीएचसी मुस्तफाबाद और रायपुर राजा की मेसर्स एसएम ट्रेडर्स की ओर से सीएचसी हुजूरपुर में प्रसूताओं को भोजन वितरित किया जाता है. दोनों फर्म की ओर से भोजन वितरण का हस्ताक्षरित सत्यापित बिल सीएमओ को पखवारे भर पूर्व दिया गया. लेकिन जरवल सीएचसी अधीक्षक का हस्ताक्षर फर्जी लगने पर सीएमओ ने दोनों अधीक्षकों से जानकारी ली तो दोनों अधीक्षकों ने 23 व 24 सितंबर को दिए गए पत्र में हस्ताक्षर व मुहर नहीं लगाने की बात कही. जिसके बाद इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ.

कोतवाली थाने में केस दर्ज 

सीएमओ डॉ. सुरेश सिंह ने दोनों फर्म के विरुद्ध कोतवाली नगर में तहरीर दी. मुख्य चिकित्साधिकारी की तहरीर पर पुलिस ने धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज